बिहार में गरीब युवाओं को प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करा रहे अफसर को दिल खोलकर मिल रही तारीफ

अनिल दास मुजफ्फरपुर में एसडीओ पश्चिम के पद पर कार्यरत हैं. अनिल दास हर रविवार को मुजफ्फरपुर में कमजोर तबके के बच्चों के लिए कोचिंग क्लास लेते हैं और उन्हें सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कराते हैं.

बिहार में गरीब युवाओं को प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करा रहे अफसर को दिल खोलकर मिल रही तारीफ

डॉ. अनिल दास ने कहा, गरीब बच्चों की मदद करने में मिलती है खुशी

कड़ी मेहनत कर सफलता के शिखर पर पहुंचना ही सब कुछ नहीं है, वंचित और कमजोर वर्ग के लोगों को सशक्त बनाकर उन्हें भी वैसा मुकाम हासिल करने में मदद करना भी बहुत बड़ा परोपकार है. ऐसा ही कुछ बिहारके युवा अफसर डॉ. अनिल दास (Anil Das) कर रहे हैं. बिहार दिवस में अनिल दास की कहानी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है. अनिल दास मुजफ्फरपुर में एसडीओ पश्चिम के पद पर कार्यरत हैं. अनिल दास हर रविवार को मुजफ्फरपुर में कमजोर तबके के बच्चों के लिए कोचिंग क्लास लेते हैं और उन्हें सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कराते हैं. धीरे-धीरे उनकी कक्षा में अभ्यर्थियों की संख्या बढ़ती ही जा रही है. 

बिहार में बनेंगे 500 बेड वाले दो कोविड अस्पताल, PM Cares Fund से मिले पैसे

डॉ. अनिल दास का कहना है कि उनका प्रयास दूरदराज से आए छात्रों को सिविल सेवा में शामिल होने के लिए प्रेरित करना है, ऐसे बच्चे जो पैसे की कमी के कारण कोचिंग नहीं ले सकते. सोशल मीडिया पर यूजर्स ने लिखा है कि बिरले लोग ही कामयाबी पाने के बाद दूसरों के बारे में सोच पाते हैं.

बिहार में शराबबंदी का सच, किसी को मिली फांसी की सजा तो किसी पर मेहरबान हुक्मरान

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


एक यूजर्स ने लिखा है कि सरकार को ऐसा मंच खड़ा करना चाहिए ताकि प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल लोग दूसरों के लिए भी काम आ सकें. एक यूजर्स ने लिखा है कि बिहार के सीतामढ़ी जिले के डीएसपी धीरेंद्र भी ऐसे ही युवाओं को प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए निर्देशन देते हैं. वहीं बिहार में बच्चों को इंजीनियरिंग परीक्षा की तैयारी कराने वाली सुपर 30 के आनंद सर का भी उल्लेख भी कई लोगों ने किया.