मुंबई: कोरोना वैक्‍सीन की दूसरी डोज के बाद भी 10 हेल्‍थवर्कर संक्रमित, डॉक्‍टरों ने कही यह बात..

वरिष्ठ डॉक्टर डॉ. राहुल पंडित खुद वैक्सीन ले चुके हैं. वे कहते हैं वैक्सीन पूरी तरह से कारगर है, दूसरी डोज़ के बाद भी कुछ फ़ीसदी लोगों को संक्रमण हो सकता है लेकिन इसके लक्षण बिल्कुल माइल्ड से, नहीं के बराबर होंगे.

मुंबई: कोरोना वैक्‍सीन की दूसरी डोज के बाद भी 10 हेल्‍थवर्कर संक्रमित, डॉक्‍टरों ने कही यह बात..

10 स्वास्थ्यकर्मी वैक्सीन की दूसरी डोज़ के क़रीब डेढ़ हफ़्ते बाद संक्रमित हुए हैं (प्रतीकात्‍मक फोटो)

मुंंबई:

Corona cases In Mumbai: मुंबई के अलग-अलग अस्पतालों के दस स्वास्थ्यकर्मी वैक्सीन की दूसरी डोज़ के क़रीब डेढ़ हफ़्ते बाद कोरोना से संक्रमित हुए हैं. बीएमसी ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया है कि सभी को हल्के लक्षण हैं. एडिशनल म्यूनिसिपल कमिश्नर सुरेश ककानी ने कहा, 'सभी स्वस्‍थ हैं ये असिम्प्टमैटिक (कोरोना के लक्षण नहीं) हैं. दूसरा डोज़ लेने के बाद 15 दिन वायरस से बचना है, कोविड के नियम फ़ॉलो करना है. महाराष्ट्र कोविड टास्क फ़ोर्स के वरिष्ठ डॉक्टर डॉ. राहुल पंडित खुद वैक्सीन ले चुके हैं और कहते हैं वैक्सीन पूरी तरह से कारगर है, दूसरी डोज़ के बाद भी कुछ फ़ीसदी लोगों को संक्रमण हो सकता है लेकिन इसके लक्षण बिल्कुल माइल्ड से नहीं के बराबर होंगे.

मां को दी गई थी वैक्सीन, कोरोनावायरस के एन्टीबॉडीज़ के साथ पैदा हुई दुनिया की पहली बच्ची: डॉक्टर

डॉ. पंडित (डायरेक्टर-क्रिटकल केयर, फ़ोर्टिस) कहते हैं, 'वैक्सीन से सिवियर बीमारी से 100% प्रोटेक्शन मिलती है. मॉडरेट डिज़ीज़ से 80% और माइल्ड डिज़ीज़ से 70% प्रटेक्शन मिलती है. इसका मतलब ये है कि वैक्सीन के दो डोज़ लेने के बावजूद कुछ ऐसे लोग रहेंगे क़रीब 20-30% जिनको माइल्ड या एसिम्प्टमैटिक ये बीमारी हो सकती है. ऐसा लगभग हर वैक्सीन के साथ होता सिर्फ़ कोविड वैक्सीन के साथ ही नहीं.''


यूके, ब्राज़ील और द. अफ्रीकी वेरिएंट के भारत में कुल 400 मामले, 14 दिन में बढ़े 158 केस

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


मुंबई के KEM अस्पताल के कार्डियक ऐनस्थीज़ा विभाग के डॉ असीम गार्गव बताते हैं उनके तीन सहयोगियों को वैक्सीन के सेकंड डोज़ के बाद संक्रमण हुआ. सभी को हल्के लक्षण हैं. उन्‍होंने बताया,  'मेरे तीनों ही सहयोगी स्टेबल हैं, सभी क्वॉरंटीन में हैं. सिर्फ़ फ़ीवर का सिम्प्टम इनको था. एक दोस्त को इंफ़ेक्शन हुआ, साथ वाले ने टेस्‍ट करवाया तो वह भी पॉज़िटिव निकला जबकि उसे सिम्प्टम नहीं थे लेकिन पॉज़िटिव आए. वैक्सीन के दोनो डोज़ के बाद भी संक्रमित हो रहे लोगों को देखते हुए वैक्सीन पर भरोसा कम न हो इसलिए डॉक्टरों का कहना है की मास्क और सामाजिक दूरी हमेशा के लिए है. यहां तक कि वैक्सीन के बाद भी.