नोएडा : जेवर में बनने वाले एयरपोर्ट पर कोरोना वायरस का साया

नोएडा के जेवर हवाई अड्डे का विकास करने वाली कंपनी ज़्यूरिख़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट और नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (नियाल) के बीच करार करने की समय सीमा को 15 अक्टूबर तक बढ़ा दी गई है क्योंकि कोरोना वायरस के कारण अंतरराष्ट्रीय उड़ानें बंद होने की वजह से कंपनी के अधिकारी स्विट्जरलैंड से यहां नहीं आ पा रहे हैं.

नोएडा : जेवर में बनने वाले एयरपोर्ट पर कोरोना वायरस का साया

कोरोना वायरस की वजह ज्यूरिख कंपनी के अधिकारी आ नहीं पा रहे हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली :

नोएडा के जेवर हवाई अड्डे का विकास करने वाली कंपनी ज़्यूरिख़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट और नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (नियाल) के बीच करार करने की समय सीमा को 15 अक्टूबर तक बढ़ा दी गई है क्योंकि कोरोना वायरस के कारण अंतरराष्ट्रीय उड़ानें बंद होने की वजह से कंपनी के अधिकारी स्विट्जरलैंड से यहां नहीं आ पा रहे हैं. यमुना विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉ अरुणवीर सिंह ने बताया कि इससे पहले यह करार जून महीने में होना तय हुआ था, जिसे बाद में 17 अगस्त तक बढ़ाया गया था.  उन्होंने बताया कि नोएडा एयरपोर्ट का ठेका हासिल करने वाली कंपनी ने उत्तर प्रदेश सरकार और नियाल से समय अवधि बढ़ाने का निवेदन किया था. 

कोरोना वायरस के नये मामलों में ग्रामीण और छोटे जिलों की हिस्सेदारी बढ़कर 54% : रिपोर्ट

उन्होंने बताया कि उनके निवेदन पर यह फैसला लिया गया है.  प्रोजेक्ट मॉनिटरिंग एंड इंप्लीमेंटेशन कमेटी (पीएमआईसी) की संस्तुति पर सोमवार को अनुबंध करने की अंतिम तारीख आगे बढ़ाई गई है.  नियाल के अधिकारियों ने बताया कि 15 अक्टूबर तक कभी भी समझौता किया जा सकता है, इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि ज़्यूरिख़ के प्रतिनिधि इस समय अवधि में जब भी भारत आयेंगे तो उन्हें 14 दिन के लिये पृथक—वास में रहना होगा और इस अवधि जोड़कर समझौते की तिथि तय की जायेगी तथा उस तारीख को करार किया जायेगा. 


एयरपोर्ट के लिए अधिग्रहित भूमि का कब्जा लेने पहुंचे अधिकारियों पर किसानों का पथराव, SDM समेत आधा दर्जन पुलिसकर्मी घायल

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने बताया कि करार होने के बाद ही इसका शिलान्यास होगा और नियाल की तरफ से पहले ही दावा किया गया है, कि भले ही करार में देरी हो रही है, लेकिन इस एयरपोर्ट से उड़ान सेवा 2023 में शुरू करने का लक्ष्य है.  गौरतलब है कि करीब 1,339 हेक्टेयर में बनाए जाने वाले इस हवाईअड्डे पर करीब 29,500 करोड़ रुपये की लागत आयेगी. 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)