ISRO ने कहा- चंद्रयान-2 ने चंद्रमा की कक्षा में एक साल पूरा किया, अगले सात वर्षों के लिए उपलब्ध है पर्याप्त ईंधन

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने कहा, '' हालांकि, उतरने का प्रयास (रोवर ले जाने वाले लैंडर का) सफल नहीं हुआ था.

ISRO ने कहा- चंद्रयान-2 ने चंद्रमा की कक्षा में एक साल पूरा किया, अगले सात वर्षों के लिए उपलब्ध है पर्याप्त ईंधन

चंद्रयान -2 को 22 जुलाई, 2019 को लॉन्च किया गया था

नई दिल्ली:

अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने कहा कि भारत के दूसरे चंद्र अभियान चंद्रयान-2 ने बृहस्पतिवार को चंद्रमा की कक्षा में चारों ओर परिक्रमा करते हुए एक वर्ष पूरा कर लिया है और इसके सभी उपकरण वर्तमान में अच्छी तरह काम कर रहे हैं. साथ ही कहा कि सात और वर्षों के संचालन के लिए चंद्रयान-2 में पर्याप्त ईंधन मौजूद है. चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण 22 जुलाई 2019 को किया गया था और ठीक एक साल पहले 20 अगस्त को इसने चंद्रमा की कक्षा में प्रवेश किया था.


भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने कहा, '' हालांकि, उतरने का प्रयास (रोवर ले जाने वाले लैंडर का) सफल नहीं हुआ था. वहीं, आठ वैज्ञानिक उपकरणों से सुसज्जित अंतरिक्षयान ने सफलतापूर्वक चंद्रमा की कक्षा में प्रवेश किया था. अंतरिक्षयान ने चंद्रमा की कक्षा में करीब 4,400 परिक्रमा पूरी की हैं और इसके सभी उपकरण अच्छी तरह काम कर रहे हैं.'' इसरो ने एक बयान में कहा कि अंतरिक्षयान बिल्कुल ठीक था और इसकी उप प्रणालियों का प्रदर्शन सामान्य है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO:Gaganyaan में उड़ान भरने को तैयार है ये 'अर्धमानवी'