गलवान घाटी में भारतीय वीरों के शौर्य की अमर गाथा, सेना ने शेयर किया वीडियो

गलवान हिंसा के शहीदों को याद करते हुए भारतीय सेना (Indian Army) ने उन्हें एक गीत समर्पित किया है और इसे सेना के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से शेयर किया गया है.

गलवान घाटी में भारतीय वीरों के शौर्य की अमर गाथा, सेना ने शेयर किया वीडियो

भारतीय सेना ने वीडियो शेयर किया है.

खास बातें

  • गलवान घाटी हिंसा का एक साल
  • भारतीय सेना ने शेयर किया वीडियो
  • पद्मश्री हरिहरन ने गाया है यह गीत
नई दिल्ली:

लद्दाख (Ladakh) स्थित गलवान घाटी में हुई हिंसा (Galwan Valley Clash) को आज (मंगलवार) एक साल हो गया है. पिछले साल 14-15 जून की दरमियानी रात चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवानों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी. इस हिंसक झड़प में चीन के भी कई सैनिक मारे गए थे. गलवान हिंसा के शहीदों को याद करते हुए भारतीय सेना (Indian Army) ने उन्हें एक गीत समर्पित किया है और इसे सेना के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से शेयर किया गया है.

'गलवान के वीर' इस गीत का टाइटल है. 4.59 मिनट के इस वीडियो में भारतीय सैनिकों के शौर्य की गाथा को दिखाया गया है और बताया गया है कि हमारे देश के रक्षक हर परिस्थिति का डटकर सामना करते हुए किस तरह दुश्मनों से हमें महफूज रखते हैं.

इस गीत को सौगातो गुहा ने लिखा है. पद्मश्री से सम्मानित गायक हरिहरन ने इसे अपनी आवाज से सजाया है. पंडित बिक्रम घोष ने इसका संगीत तैयार किया है.

बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने गलवान के शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए सरकार से सवाल पूछा कि एक साल पूरा होने के बाद भी अब तक सरकार ने इस सवाल का जवाब नहीं दिया है कि आखिर किन परिस्थितियों में यह घटना हुई थी.


सोनिया गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने पिछले साल कहा था कि लद्दाख में कोई घुसपैठ नहीं हुई. इस बयान के मद्देनजर कांग्रेस ने वस्तुस्थिति को साफ करने की मांग की, जो अब तक पूरी नहीं की गई है. अप्रैल 2020 से पहले वाली यथास्थिति बहाली की दिशा में क्या किया गया है, कांग्रेस इस बारे में भी लगातार पूछती रही है. चीन के साथ डिसइंगेजमेंट एग्रीमेंट भारत को नुकसान वाला प्रतीत होता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: पैंगोंग से चीन के पीछे हटने के बाद दोनों देशों के बीच कोर कमांडर स्तर की वार्ता