कोविड वैक्सीन लगवाने के बाद कितने हुए पॉजिटिव? स्वास्थ्य अधिकारियों ने साझा किए आंकड़े

देश में जनवरी से ही वैक्सीनेशन शुरू हो चुका है लेकिन वैक्सीनेशन के बाद भी ऐसे कई मामले आए हैं, जिसमें टीका लगवा चुके लोगों में भी कोरोना का संक्रमण दिख रहा है. इसपर आज शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारियों ने आंकड़े साझा किए हैं.

कोविड वैक्सीन लगवाने के बाद कितने हुए पॉजिटिव? स्वास्थ्य अधिकारियों ने साझा किए आंकड़े

वैक्सीनेशन के बाद भी देश में कई लोग कोरोना से संक्रमित मिले हैं.

नई दिल्ली:

देश में बुधवार यानी 21 अप्रैल, 2021 की सुबह तक एक दिन में संक्रमण के करीब 3 लाख नए मामले सामने आए हैं. एक दिन में दर्ज होने वाले ये आंकड़े इस पैमाने पर पूरी दुनिया में ज्यादा हैं. देश में जनवरी से ही वैक्सीनेशन शुरू हो चुका है लेकिन वैक्सीनेशन के बाद भी ऐसे कई मामले आए हैं, जिसमें टीका लगवा चुके लोगों में भी कोरोना का संक्रमण दिख रहा है. बुधवार को शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारियों की प्रेस कॉन्फ्रेंस हुई है, जिसमें इसे लेकर आंकड़े साझा किए गए हैं.

आंकड़ों में समझें....

अधिकारियों ने बताया कि वैक्सीनेशन ड्राइव शुरू होने के बाद से देश में भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को 1.1 करोड़ लोगों ने लिया है, जिसमे पहली डोज लेने के बाद 4,208 और दूसरी डोज लेने के बाद 695 लोग पॉजिटिव हुए हैं. वहीं, सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन कोविशील्ड को 11.6 करोड़ लोगों को दिया जा चुका है. यह वैक्सीन लगवाने वालों में पहली डोज के बाद 17,145 लोग और दूसरी डोज के बाद 5,014 लोग पॉजिटिव हुए हैं. 

अगर थोड़ा और भीतर जाएं तो, कोवैक्सीन की पहली डोज 93,56,436 लोगों ने ली, जिसमें से 4,208 यानी कि 0.04 फीसदी लोग संक्रमित हुए. वहीं इस वैक्सीन की दूसरी डोज 17,37,178 लोगों ने ली, उनमें से 695 लोग यानी कि इनमें से 0.04 फीसदी लोग पॉजिटिव मिले.

मल्टीपल वेरियंट और डबल म्यूटेंट स्ट्रेन के खिलाफ भी असरदार है 'कोवैक्‍सीन' : ICMR स्‍टडी

वहीं अगर कोविशील्ड की बात करें तो पहली डोज़ 10,03,02,745 लोगों ने ली, इनमें से 17,145 लोग संक्रमित हुए. दूसरी डोज़ 15732754 लोगों ने दूसरी डोज़ ली, इनमें से 5,014 लोग यानी कि 0.03 फीसदी लोग फिर संक्रमित हुए.

यानी कि वैक्सीन लगवाने के बाद आने वाले संक्रमणों की संख्या बहुत ज्यादा नहीं है. दोनों ही वैक्सीन और इनकी पहली-दूसरी डोज के पैमानों को ध्यान में रखें तो संक्रमण का औसत 0.2 से 0.04 के बीच का है.


कॉन्फ्रेंस में नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने बताया कि देश मे 60 साल से ऊपर की आबादी 10 करोड़ है, जिनमें से 4.7 करोड़ लोगों को पहली डोज दी जा चुकी है. उन्होंने तीसरी वैक्सीन के निर्माण पर बताया कि भारत मे स्वदेशी वैक्सीन बायोलॉजिकल ई वैक्सीन अगस्त से  उपलब्ध होगी. ये वैक्सीन केंद्र सरकार के मदद से बन रही है. बायोलॉजिकल ई का फेज टू और ट्रायल खत्म हो चुका है जल्द फेज थ्री में ट्रायल में जाएंगे ये भारतीय वैक्सीन है जो केंद्र सरकार की मदद से बन रही है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इसके इतर, वैक्सीनेशन को लेकर स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने बताया कि केंद्र सरकार की तरफ से अब प्राइवेट अस्पतालों को टीका नही मिलेगा, वहीं सरकारी केंद्रों पर पहले की तरह फ्री वैक्सीन होगी. वैक्सीनेशन सेन्टर्स को अभी के मुताबिक प्रोटोकॉल का पालन करना होगा. भारत सरकार पहले की ही तरह वैक्सीन अलॉट करेगी. एडवांस में राज्यों को केंद्र बताएंगी की आपको कितनी वैक्सीन मिल रही है. ये परफामेंस, इंफेक्शन का रेट और और वेस्टेज क्या है राज्य में 
इन आधार पर केंद्र से राज्यो को टीका मिलेगा.