दिल्ली में कोरोना से अब तक सबसे ज्यादा मौत, 24 घंटे में सामने आए 24 हजार नए मामले

अब तक कुल मामलों की संख्या 10,72,065 हो गई है. पिछले 24 घंटे में 17,862 कोरोना मरीज ठीक हुए हैं.

दिल्ली में कोरोना से अब तक सबसे ज्यादा मौत, 24 घंटे में सामने आए 24 हजार नए मामले

प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली:

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है. मंगलवार को दिल्ली में पिछले 24 घंटों में 381 मरीजों की मौत कोविड-19 की वजह से हुई है. यह आंकड़ा 1 दिन में सबसे ज्यादा  है. इसके साथ ही पिछले 24 घंटों में 24,149 नए मामले सामने आए हैं और पॉजिटिविटी रेट करीब 33% पहुंच गई है. एक्टिव मामलों की संख्या 98,000 के पार हो गई है. दिल्ली में रिकवरी रेट- 89.43%, डेथ रेट- 1.4% और पॉजिटिविटी रेट- 32.72% है. 

अब तक कुल मामले की संख्या 10,72,065 हो गई है. पिछले 24 घंटे में 17,862 कोरोना मरीज ठीक हुए हैं. अब तक कुल ठीक हुए मरीजों की संख्या 9,58,792 पहुंच गई है. वहीं, अभी तक दिल्ली में कोरोना वायरस की वजह से 15,009 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. 

CM योगी के दावों के उलट हकीकत! मेरठ में ऑक्सीजन की 'किल्लत' से सात कोरोना मरीजों ने तोड़ा दम

पीटीआई की एक अन्य खबर के मुताबिक, कुछ दिनों तक ऑक्सीजन की किल्लत से जूझने के बाद दिल्ली में कुछ अस्पतालों ने मंगलवार को कहा कि ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिहाज से हालात अब पहले के मुकाबले बेहतर हैं और उन्होंने मरीजों को फिर से भर्ती करना शुरू कर दिया है. राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 के मामले बढ़ने के बीच शहर में और उसके आसपास के इलाकों में अस्पतालों ने पिछले सप्ताह ऑक्सीजन की कमी के बाद सोशल मीडिया एवं अन्य मंचों पर मदद की गुहार लगाई थी.

महाराष्ट्र : पिछले 24 घंटे में कोरोना ने अब तक सबसे ज्यादा 895 लोगों की ली जान, 66,358 नए मामले आए सामने


जयपुर गोल्डन अस्पताल के चिकित्सा निदेशक डॉ. डी के बलूजा ने कहा कि अस्पताल में दिनभर के लिए ऑक्सीजन की पर्याप्त आपूर्ति है. उन्होंने कहा, ‘‘आज के लिए हमारी स्थिति ठीक है. रोज 3.6 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत होती है और हमारे पास करीब छह टन ऑक्सीजन उपलब्ध है जिससे पूरे दिन काम चलेगा. यह थोड़ी आरामदायक स्थिति है.'' अस्पताल ने ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए दिल्ली सरकार और भारतीय रेलवे का भी आभार जताया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


भारत में लगातार सामने आ रहे हैं 3 लाख से ज्यादा मामले