'42 साल कांग्रेस में रहने का क्या सिला मिला', चुनावी रणनीति पर कैप्टन ने दिए अहम संकेत

अमरिंदर ने मुख्यमंत्री चरनजीत सिंह चन्नी और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पर झूठे वादे कर जनता को गुमराह करने का आरोप लगाया. पूर्व सीएम ने कहा कि लीडर वो होता है जो जनता को सच्चाई बताए. पंजाब की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं.

नई दिल्ली:

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) ने राज्य में होने वाले अगले विधानसभा चुनाव (Punjab assembly election 2022) में दमखम से उतरने के साथ नई सियासी पारी शुरू करने का संकेत दिया है. पूर्व सीएम ने एनडीटीवी से एक्सक्लूसिव बातचीत में कहा कि अपने सियासी रुख पर साफगोई से बात रखी. पंजाब विधानसभा चुनाव के बाद किंगमेकर बनने पर दोबारा कांग्रेस को समर्थन देने के सवाल पर कैप्टन ने कहा, मैंने 42 साल कांग्रेस को सेवाएं दीं. मुझे हटाना तो साफ बता देते, मैं थोड़ी भी देर नहीं लगाता. मेरा बस चला तो कतई समर्थन नहीं दूंगा.

पीएम मोदी की किसानों से माफी- इसे कैसे समझा जाए

अमरिंदर ने मुख्यमंत्री चरनजीत सिंह चन्नी और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पर झूठे वादे कर जनता को गुमराह करने का आरोप लगाया. पूर्व सीएम ने कहा कि लीडर वो होता है जो जनता को सच्चाई बताए. पंजाब की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है.चुनावी गठबंधन के सवाल पर कैप्टन ने कहा,  हमने ये तय किया है कि हम बीजेपी के साथ काम करना पसंद करेंगे.बीजेपी के साथ जो मुलाकात हुई. यह तीन पार्टियों का गठबंधन होगा. लेकिन किसे कितनी सीटें मिलेंगी, उसे ये बात अभी नहीं हुई है. उन्होंने स्पष्ट किया कि हमारा बीजेपी के साथ पहले से तय था कि पहले आप किसानों का मसला खत्म करो फिर हम आपसे बात करेंगे. वो अगले कुछ दिनों में दिल्ली जाएंगे.

किसान आंदोलन को लेकर कई बार PM से मिले थे पंजाब के पूर्व CM अमरिंदर सिंह, अब ऐसे जताया आभार

हालांकि गठबंधन का चेहरा कौन होगा, इस सवाल पर अमरिंदर ने कहा कि अभी उनकी बात केंद्रीय मंत्रियों से ही हुई है. कौन चेहरा होगा, ये अभी नहीं कहा जा सकता. ये तीन पार्टियों की बात है. हमारा पहला पड़ाव है कि साथ खडे होकर लड़ना. दूसरा पड़ाव होगा कि तीनों पार्टी साथ बैठ कर फैसला करेंगे कि कौन अगुवाई करेगा. कैप्टन ने कहा,  मेरी खट्टर साहब से बहुत पुरानी दोस्ती है.हम दोनों अलग पार्टी से थे लेकिन बतौर सीएम हम मिलते रहे हैं. दोस्तो की तरह कॉफी पी है. पॉलिटिकल बात हमारी दिल्ली से चल रही है.नड्डा सहब से नहीं मिला, लेकिन जब मिलूंगा तो बात होगी. पंजाब में 4 पार्टी हैं,

क्या पंजाब में बढ़ रही है आप की मौजूदगी?  जानें एनडीटीवी की ग्राउंड रिपोर्ट में

आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के मुफ्त बिजली पानी जैसे वादों पर अमरिंदर ने कहा, दिल्ली में ये सोच रहा है कि मुफ्त कर दिया है लेकिन कैसे किया है फ्री. ये हालत पंजाब की नहीं है किसानों को 9 हज़ार करोड़ की मुफ्त बिजली हम दे रहे हैं.  कहां से लाएंगे पैसा हमारे पास पैसा नहीं हैबस ये कह देना कि हर लड़की को 1000 रुपये देगे कैसे दे दोगे. कहां से लाओगे पैसा. उन्हें बस झूठ बोलने की आदत है और कोई उन्हें गंभीरता से नहीं लेता. मुख्यमंत्री चरनजीत सिंह चन्नी को भी मालूम है कि पंजाब के पास पैसा नहीं है.

लेकिन वो सोच रहे हैं कि 2-3 महीने झूठ बोल के निकल लो और चुनाव काट लो. ये एक लीडर का काम नहीं है, लीडर को जनता का सामना करना आना चाहिए. उनको सामने आके कहना होगा कि आर्थिक स्थिति ऐसी है और वो ऐसा नहीं कर सकता, जैसे मैंने किया था. मेरा बस चलेगा तो मैं कांग्रेस का समर्थन बिलकुल नहीं करूंगा. मैंने कांगेस को अपने जीवन के 42 साल दिए हैं, लेकिन कांग्रेस ने मेरे साथ ठीक नहीं किया


मेरे खिलाफ साजिश रची. निकालना था तो साफ बता देते. बीजेपी ने तीनों कानूनों को वापस लिया है , एमएसपी की कमेटी बैठा दी है. जो किसान मरे हैं उनके मुआवजे की भी बात हो रही है. अमरिंदर ने कहा, मैंने हर मृतक के परिवार को 5 लाख रुपये और एक सरकारी नौकरी का ऐलान कर दिया है.अमरिंदर ने कहा, मैं किसानों से कहूंगा कि अब चलें जाएं, क्यों लोगों को तंग करना है.इसलिए अब चले जाएं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अकाली दल धर्म में फंसा हुआ है, न वो इससे निकल सकेंगे, ये इनको ले के डूबेगा. गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी पर कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा, जब ये बातें हुईं, अगर अकाली दल इसमें नहीं था तो पुलिस से कहते. लेकिन इन्होंने केस सीबीआई को दे दिया. मैंने आकर उस केस को वापस लिया और हाई कोर्ट गया. फिर सुप्रीम कोर्ट से केस वापस लिया. फिर भी पिछले मार्च में 6 महीने बाद हमें केस दियाऔर चारों केस की एसआईटी बनाई और अब ये केस कोर्ट में चल रहे हैं. 19 लोगों की गिरफ्तारी हुई है. एक हमारे डीजीपी थे और आईजी भी गिरफ्तार हुए.आठ महीने में हमने उन केस को खत्म कर दिया जो 5 साल में अकाली दल नहीं कर पाया.