किसान आंदोलन को लेकर कई बार PM से मिले थे पंजाब के पूर्व CM अमरिंदर सिंह, अब ऐसे जताया आभार

आज मोदी सरकार की ओर से कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की घोषणा के बाद पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने  भी ट्वीट कर इस घोषणा पर खुशी जताई. कांग्रेस से अलग हो चुके वरिष्ठ नेता ने 'गुरु नानक जयंती के मौके पर काले कृषि कानूनों को वापस लेने पर पीएम मोदी का आभार जताया.

नई दिल्ली:

मोदी सरकार की ओर से पिछले साल लागू किए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ हो रहे आंदोलन में बड़ी संख्या में पंजाब के किसान थे. वहीं, इस आंदोलन ने सबसे ज्यादा उथल-पुथल मचाई. आज मोदी सरकार की ओर से कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की घोषणा के बाद पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने  भी ट्वीट कर इस घोषणा पर खुशी जताई. कांग्रेस से अलग हो चुके वरिष्ठ नेता ने 'गुरु नानक जयंती के मौके पर काले कृषि कानूनों को वापस लेने पर पीएम मोदी का आभार जताया. अमरिंदर सिंह ने कृषि आंदोलन के दौरान कई बार प्रधानमंत्री मोदी और सरकार में शीर्ष के वरिष्ठ मंत्रियों से मुलाकात की थी.

कैप्टन ने अपने ट्वीट में लिखा कि 'बेहतरीन खबर! मैं पीएम मोदी का आभारी हूं कि उन्होंने गुरुनानक जयंती के पवित्र अवसर पर हर पंजाबी की मांग को रखते हुए 3 काले कानूनों को वापस ले लिया. मैं आशान्वित हूं कि केंद्र सरकार किसानी के विकास के लिए आगे काम करती रहेगी.'

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बीते अगस्त में प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की थी और उनसे कृषि कानूनों को वापस लेने की प्रक्रिया शुरू करने का अनुरोध किया था. पीएम मोदी से मुलाकात के दौरान उन्हें दो अलग-अलग पत्र भी सौंपे थे. इस पत्र में उन्होंने तीन कृषि कानूनों की तत्काल समीक्षा और रद्द करने का आह्वान करते हुए कहा था कि इन तीनों कानून को लेकर पंजाब और अन्य राज्यों में किसानों के बीच 'व्यापक आक्रोश' है. साथ ही किसानों को उन लोगों की श्रेणियों में शामिल करने की मांग की थी जो मुफ्त कानूनी सहायता प्राप्त करने के योग्य हैं.


बता दें कि सरकार ने किसान नेताओं से कई चरणों में बातचीत की थी. हर बार सरकार का यही कहना था कि वो कानूनों में संशोधन कर देगी लेकिन उन्हों वापस नहीं करेगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video : PM मोदी ने किया तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान, सुनें पूरी स्पीच