शहाबुद्दीन को सिवान में दफनाना चाहते थे घरवाले, पर नहीं मिल इजाजत : ओवैसी

बिहार के बाहुबली और हत्या के मामले में तिहाड़ जेल में आजावीन कारावास की सजा काट रहे पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन का कोविड-19 संक्रमण के कारण शनिवार को निधन हो गया.

शहाबुद्दीन को सिवान में दफनाना चाहते थे घरवाले, पर नहीं मिल इजाजत : ओवैसी

शहाबुद्दीन का दिल्ली स्थित दीन दयाल उपाध्याय अस्पाल में इलाज चल रहा था.

नई दिल्ली:

ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने बिहार के पूर्व सांसद और बाहुबली नेता शहाबुद्दीन को दफनाने को लेकर कहा है कि घरवाले उन्हें सिवान में दफनाना चाहते हैं. लेकिन उन्हें इसकी इजाजत नहीं दी जा रही है. साथ ही उन्होंने आरोप लगाया है कि उनका ठीक से इलाज नहीं किया गया. बता दें,  बिहार के बाहुबली और हत्या के मामले में तिहाड़ जेल में आजावीन कारावास की सजा काट रहे पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन का कोविड-19 संक्रमण के कारण शनिवार को निधन हो गया. पिछले दिनों वह जेल में ही कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में आए थे और दिल्ली स्थित दीन दयाल उपाध्याय अस्पाल में इलाज चल रहा था. 

ओवैसी ने गृहमंत्री अमित शाह को टैग करते हुए ट्वीट किया है, 'मरहूम शहाबुद्दीन साहब के घर वाले उनकी तदफ़ीन सिवान में करना चाहते हैं. अधिकारी इसकी इजाज़त नहीं दे रहे हैं और उनकी मय्यत को घर वालों के हवाले नहीं कर रहे हैं. शहाबुद्दीन साहब का ठीक से इलाज नहीं हुआ था। उन्हें एक COVID-19 के मरीज़ के साथ रखा गया था. कम से कम उनके ग़मज़दा घर वालों को उनके आख़री रूसूमात उनके हिसाब से करने से तो नहीं रोका जाना चाहिए. ज़ाहिर सी बात है कि वो COVID-19 के तमाम एहतियाती तदाबीर पर अमल करेंगे.'


राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के पूर्व नेता शहाबुद्दीन को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद 2018 में बिहार की सीवान जेल से तिहाड़ जेल लाया गया था. शहाबुद्दीन के परिवार वालों ने इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि जेल प्रशासन ने शहाबुद्दीन और छोटा राजन के वार्ड में एक पाकिस्तानी आतंकवादी को शिफ़्ट किया था, जिसको कोविड था. उसी से शहाबुद्दीन और छोटा राजन दोनों कोरोना पाजिटिव हुए. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बिहार के पूर्व सांसद और बाहुबली नेता शहाबुद्दीन की अस्पताल में हुई मौत, तिहाड़ जेल में हुए थे कोविड संक्रमित