कथित सामूहिक धर्मांतरण को लेकर ED ने दिल्ली और यूपी में 6 जगह की छापेमारी

ये छापेमारी इस्लामिक दावा सेंटर (आईडीसी) के कार्यालय, मामले के मुख्य आरोपी मोहम्मद उमर गौतम उसके सहयोगी मुफ्ती काजी जहांगीर आलम कासमी के दक्षिण दिल्ली के जामिया नगर क्षेत्र स्थित घर पर की जा रही है.

कथित सामूहिक धर्मांतरण को लेकर ED ने दिल्ली और यूपी में 6 जगह की छापेमारी

दिल्ली और यूपी में छह जगहों पर छापेमारी की गई. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने आज दिल्ली और उत्तर प्रदेश में छह स्थानों पर "जबरन धर्म परिवर्तन" के मामले में छापेमारी की. यह जानकारी जांच एजेंसी ने दी है. केंद्रीय जांच एजेंसी ने दिल्ली में तीन जगहों और यूपी में तीन जगहों पर की गई छापेमारी के दौरान बरामद किए गए दस्तावेजों का हवाला देते हुए कहा कि "अवैध धर्मांतरण के उद्देश्य से" कई करोड़ रुपये के विदेशी धन का भी खुलासा हुआ है. इसमें से कुछ फंडिंग कथित तौर पर पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) से भी प्राप्त हुई थी.अधिकारियों ने कहा कि तलाशी अभियान के दौरान कई "आपत्तिजनक" दस्तावेज जब्त किए गए हैं, जो पूरे भारत में उमर गौतम और उनके संगठनों द्वारा कथित तौर पर किए गए "बड़े पैमाने पर धर्मांतरण" का खुलासा करते हैं.

धोखाधड़ी मामले में अभिनेता डीनो मोरिया और अहमद पटेल के दामाद की संपत्ति जब्त

ये छापेमारी इस्लामिक दावा सेंटर (आईडीसी) के कार्यालय, मामले के मुख्य आरोपी मोहम्मद उमर गौतम उसके सहयोगी मुफ्ती काजी जहांगीर आलम कासमी के दक्षिण दिल्ली के जामिया नगर क्षेत्र स्थित घर पर की जा रही है. उत्तर प्रदेश में राजधानी लखनऊ स्थित ‘अल हसन एजुकेशन एंड वेलफेयर फाउंडेशन एंड गाइडेंस एजुकेशन एंड वेलफेयर सोसाइटी' के कार्यालयों में छापेमारी की जा रही है.  ईडी के अधिकारियों ने कहा कि ये संगठन उमर गौतम द्वारा चलाए जा रहे हैं और कथित अवैध धर्मांतरण में "महत्वपूर्ण भूमिका" निभा रहे हैं. केन्द्रीय जांच एजेंसी ने पिछले माह धनशोधन निषेध अधिनियम (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत एक अपराधिक मामला दर्ज किया था. उत्तर प्रदेश पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने मामले का भंडाफोड़ किया था और एजेंसी इस मामले की जांच कर रही है.

अजित पवार पर ED का शिकंजा? महाराष्ट्र में सहकारी चीनी मिल की संपत्त‍ि जब्त

एटीएस ने उमर गौतम और कासमी को गिरफ्तार किया था, जो दिल्ली के जामिया नगर के रहने वाले हैं. साथ ही एटीएस ने दावा किया था कि वे इस्लामिक दावा सेंटर नाम से संगठन चलाते हैं और इन्हें कथित तौर पर गैर कानूनी गतिविधियां चलाने के लिए पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई तथा अन्य विदेश एजेंसियों से धन मिलता है.(एजेंसी भाषा से इनपुट)


धर्मांतरण-अंतर धार्मिक विवाह पर केंद्र नहीं बनाएगा कानून

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com