न्याय की परवाह नहीं है, मेरी बेटी घर वापस आ जाए: दिल्ली रेप पीड़िता के पिता

इस घटना के पीछे कारण ऐसा मालूम होता है कि उसने एक 14 वर्षीय लड़के के प्यार को स्वीकार नहीं किया था. वह युवक कथित तौर पर उसके प्रति आसक्त था और नवंबर में उसने आत्महत्या कर ली थी.

न्याय की परवाह नहीं है, मेरी बेटी घर वापस आ जाए: दिल्ली रेप पीड़िता के पिता

उसके परिवार का कहना है कि वह अपने बच्चे की देखभाल करने की मानसिक स्थिति में नहीं है.

नई दिल्ली:

पिछले हफ्ते दिल्ली में अपने पड़ोसियों द्वारा अपहरण, यौन उत्पीड़न और पिटाई के बाद परेड कराई गई 20 वर्षीय मां अपने परिवार और अपने तीन साल के बेटे से दूर अपने घावों और सदमे से उबर रही है. उसके परिवार का कहना है कि वह अपने तीन साल के बच्चे की देखभाल करने की मानसिक स्थिति में नहीं है.

महिला का पिछले बुधवार को कथित तौर पर अपहरण कर लिया गया था, दिल्ली के शाहदरा में उसके घर के पास एक कमरे में उसे बंद कर उसका यौन शोषण किया गया था. इसके बाद सड़कों पर परेड कराने से पहले उसका सिर मुंडाया गया था, चेहरा काला किया गया था और उसके गले में जूतों की एक माला पहना दी गई थी.

इस घटना के पीछे (ऐसा लगता है) महिला द्वारा 14 वर्षीय एक लड़के के प्यार को स्वीकार नहीं करना कारण थ. वह युवक कथित तौर पर उसके प्रति आसक्त था लेकिन महिला द्वारा स्वीकार नहीं करने के बाद उसने नवंबर में आत्महत्या कर ली थी. पीड़ित महिला की बहन ने कहा, "लड़के का परिवार अपने बेटे की मौत के लिए मेरी बहन को जिम्मेदार ठहराता है."

दिल्ली में यौन उत्पीड़न की शिकार महिला की बहन का भी हुआ था उत्पीड़न : पुलिस

पीड़ित महिला पर हमला करने वाले ज्यादातर लोग लड़के के परिवार से थे-जिसमें महिलाएं और किशोर लड़के भी शामिल थे. ये सभी कस्तूरबा नगर में पीड़ित महिला के पड़ोसी हैं. इस मामले में पुलिस ने 12 लोगों को गिरफ्तार किया है जिसमें 8 महिलाएं और 4 पुरुष हैं. पीड़िता के साथ हुए अमानवीय हरकत के वीडियो में उस क्रूरता की झलक दिखाई दे रही है, जिसे महिला ने घंटों झेला था.

उसे एक कमरे में कैद​ किया गया था. वहां फिलमाए गए एक वीडियो में कुछ लोगों को उसे बेरहमी से पीटते हुए देखा जा सकता है और पीछे से आ रही आवाजें बता रही हैं कि उसका किस तरह यौन शो​षण किया गया है. जब उसे पीटा जा रहा था और लात मारी जा रही थी तब कई युवा लड़के भी इसमें शामिल हो जाते हैं. मदद के लिए चीखने-चिल्लाने पर एक महिला ने उसके बाल काट लिए. कथित तौर पर महिला के साथ बलात्कार किया गया था.

एक अन्य वीडियो में उस महिला को सड़क पर भीड़ घसीटते हुए दिख रही है. वीडियो में दिख रहा है कि जब महिला को बार बार पीटा जाता है तो भीड़ ताली बजाती है. लकवाग्रस्त और बिस्तर पर पड़े महिला के पिता ने कहा, '' किसी गली या किसी कूचे में भी कभी किसी लड़की, किसी बेटी को इससे नहीं गुजरना पड़े.''

दिल्‍ली में कोरोना पॉजिटिविटी रेट में और गिरावट, 24 घंटे में 3000 से भी कम नए मामले

उन्होंने कहा, "जिस तरह से उसे पीटा गया, आघात किया गया, उसे गलत तरीके से दोषी ठहराया गया, मुझे न्याय की परवाह नहीं है - मैं अपनी बेटी को घर वापस लाना चाहता हूं." पीड़िता के पिता ने एनडीटीवी को बताया, "बीजेपी से गौतम गंभीर हमारे पास आए, तो कांग्रेस से अनिल चौधरी भी आए. हमें बिना मांगे दो महीने का राशन दिया गया है. हमें समर्थन और मदद की पेशकश की जा रही है. अन्यथा कौन मदद करता है? अगर कोई भीख मांगता है, तो उन्हें कोई मदद नहीं मिलती,”

पीड़िता की बहन ने कहा, "अगर लोगों ने उस समय कुछ समर्थन दिखाया होता, तो ऐसा नहीं हुआ होता. अब हम क्या कहें? जो होना था वो तो हो गया." इसी बीच दिल्ली पुलिस ने इन अफवाहों का खंडन किया कि महिला ने आत्महत्या कर ली है.

इस मामले पर ट्वीट करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लिखा, "एक 20 वर्षीय महिला की बेरहमी से पिटाई का वीडियो हमारे समाज का एक बहुत ही परेशान करने वाला चेहरा उजागर करता है. कड़वी सच्चाई यह है कि कई भारतीय महिलाओं को मानव नहीं मानते हैं. इस शर्मनाक तथ्य को स्वीकार करने और बाहर निकालने की आवश्यकता है."

दिल्ली : लंदन की महिला डॉक्‍टर ने जांघ की नस काटकर की खुदकुशी

भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने ट्वीट किया, "मैं आश्वासन देता हूं कि इन जानवरों (पुरुषों और महिलाओं) को बख्शा नहीं जाएगा. पीड़िता को हर तरह की मदद मुहैया कराई जाएगी."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी दुख व्यक्त किया. उन्होंने लिखा, "इन हमलावरों ने ऐसा करने की हिम्मत कैसे की? मैं केंद्रीय गृह मंत्री और उपराज्यपाल से पुलिस को सख्त कार्रवाई करने और कानून व्यवस्था पर अधिक ध्यान देने का निर्देश देने का आग्रह करता हूं. दिल्ली के लोग इस तरह के अपराधों को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेंगे."