दिल्ली से मुंबई 24 घंटे का सफर 12 घंटे में होगा, जानें देश के सबसे लंबे दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे की खूबियां

दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस वे 8 लेन का है जिसे आने वाले वक्त में 12 लेन तक करने की व्यवस्था है. ये देश के 6 राज्यों दिल्ली,हरियाणा,राजस्थान,मध्यप्रदेश,गुजरात और महाराष्ट्र से गुजरेगा.

नई दिल्ली:

Delhi Mumbai Expressway: दिल्ली से मुंबई (Delh to Mumbai) की दूरी घटने वाली है. दावा है कि 24 घंटे का सफर 12 घंटे में किया जा सकेगा. दिल्ली मुम्बई एक्सप्रेस का मुआयना आज केंद्रीय सड़क परिवहन राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने हरियाणा के सोहना के पास किया. मार्च 2023 में इसके बनने की संभावना है. 1380 km लंबे 8 लेन वाले एक्सप्रेस वे  दिल्ली और मुंबई के बीच की 130km दूरी कम कर देगा. मार्च 2023 तक ये बनकर तैयार होगा। आगे जरूरत पड़ने पर इसको 12 लेन का किया जाएगा. दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे पर गाड़ियां 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार भर सकेंगी, पर इंतज़ार मार्च 2023 तक करना पड़ेगा.सड़क परिवहन राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, मुझे खुशी है कि वर्ल्ड का यह सबसे बड़ा ऐसा एक्सप्रेस हाईवे है और यह हमारे देश के लिए अभिमान का विषय है. दिल्ली से मुंबई हम 12 से 12:30 घंटे में पहुंच सकेंगे. हरियाणा के सोहना में गडकरी ने जमीन से भी जायज़ा लिया और फिर आसमान से भी. गडकरी आज और कल अलग अलग तरीके से पूरे एक्सप्रेस वे के काम का मुआयना करेंगे. फिलहाल ये एक्सप्रेस वे 8 लेन का है जिसे आने वाले वक्त में 12 लेन तक करने की व्यवस्था है. ये देश के 6 राज्यों दिल्ली,हरियाणा,राजस्थान,मध्यप्रदेश,गुजरात और महाराष्ट्र से गुजरेगा. करीब  1 लाख करोड़ की लागत से दिल्ली मुबई एक्सप्रेस वे देश में सबसे लंबा होगा.

दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे की खूबियां

इससे जयपुर,किशनगढ़,अजमेर,कोटा,चित्तौड़गढ़,उदयपुर, भोपाल,उज्जैन,इंदौर,अहमदाबाद,सूरत जैसे शहरों तक जाना आना आसान होगा. इसमें जगह जगह हेलीपैड की भी व्यवस्था होगी, जिससे आकस्मिक स्थिति में किसी मरीज़ को एयर एंबुलेंस से अस्पताल पहुंचाया जा सकेगा. इतना ही नहीं ड्रोन के जरिए नज़र आर्थिक गतिविधि को लेकर भी है. 98 हजार करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले इस एक्सप्रेस वे पर टोल रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन तकनीक के ज़रिए लिया जाएगा. योजना है कि अगले साल मार्च में इसका दिल्ली से दौसा तक का हिस्सा खोल दिया जाएगा. साथ ही इसमें पर्यावरण का ख्याल भी रखा गया है.एक्सप्रेस के किनारे 20 लाख पेड़ लगेंगे. जंगल और जीव जंतु के मद्देनजर 3 एनिमल और 5 ओवर पास बनाए जा रहे हैं.आकलन के मुताबिक इस एक्सप्रेस वे से 320 मिलियन लीटर फ्यूल की बचत होगी. 850 मिलियन केजी CO2 emission कम होगा।
 

10 हजार करोड़ की लागत से बनेगा द्वारका एक्सप्रेस वे

दिल्ली साढ़े पांच लाख वाहनों में से एक लाख वाहन अब पेरिफरी रोड से चले जाते हैं. प्रदूषण इससे कम होगा. दिल्ली से पानीपत का 8 लेन सड़क काम इसी साल पूरा हो जाएगा. सोनीपत से यूपी को जोड़ने वाली 1200 करोड़ से 45 किलो मीटर की सड़क बनेगी. रंगपुरी से महिपालपुर को द्वारिका एक्सप्रेस वे से जुड़ेगा. दिल्ली-गुरुग्राम में नये काम चल रहे हैं. धौला कुंआ रोड को 170 करोड़ लागत से सड़क चौड़ा किया गया है, धौलाकुआं पुलिस स्टेशन शिफ्ट हो जाए तो तो ओऱ भी फायदा होगा. दिल्ली से चंड़ीगढ़ 2 घटें, मेरठ 40 मिनट, कटरा 8 घंटे, अमृतसर 4 घंटें हरिद्वार 2 घंटे में पहुंच सकते है.

हरियाणा सरकार (Haryana Government) को बहादुरगढ़, जींद,रोहतक में स्मार्ट सिटी बनानी चाहिए, जो दिल्ली कटराल एक्सप्रेस वे पर बन सकते है. किसानों को बाजार भाव से 1.5 गुना भाव दिया है. मैं चाहता हूं कि किसान धनवान बनें. गडकरी ने ये भी कहा कि खराब काम करने वालों को बर्दाश नहीं करेंगे. उनका बैंड बजा देगें. उन्होंने अरूण जेटली और सुषमा स्वराज को भी याद किया. उन्होंने ये भी कहा कि मैंने तो रोड बनाने के लिए अपने ससुर के घर पर भी बुलडोजर चलवाया है.

दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे पर सीएम खट्टर का बयान


वहीं दिल्ली-मुंबई के एक्सप्रेस वे पर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि हाइवे पर हमारी मांग से पहले ही नितिन गडकरी के द्वारा सुझाव दे दिए जाते हैं, जिससे कनेक्टिविटी बेहतर हो ,जैसे दिल्ली अमृतसर हाइवे जिसमें पंजाब और हरियाणा सरकार मिलकर काम कर रही है. हरियाणा में पूरब से पश्चिम हाइवे के लिए भी काम चल रहा है. हरियाणा की अर्थव्यवस्था, रोजगार और दिल्ली से भौगोलिक करीबी का इन हाइवे के जरिए प्रदेश को फायदा होगा. दिल्ली आगरा नेशनल हाइवे एनएच 44 में अंडरपास बनाए जा रहे हैं, इसके साथ ड्राई पोर्ट को भी जोड़ा जाएगा. दिल्ली जयपुर हाइवे पर भी नए दो अंडरपास पर काम चल रहा है. पलवल एक्सप्रेस हाइवे पर ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस हाईवे को भीजोड़ा जाना है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


हमने केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को 18 बिंदुओं पर सुझाव दिए हैं. जहां हाइवे को जोड़ने, अंडरपास, ओवरब्रिज ,सर्विस लेन आदि पर काम किया जाना चाहिए. अकेले दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस हाइवे का लाभ 73 गांव के लोगों को मिलेगा फायदा.