विदेश यात्रा में सहायता के लिए CoWIN प्लेटफॉर्म पर जल्द ही मिलेगी कोविड परीक्षण रिपोर्ट

अधिकांश देशों को यात्रा करने से पहले 72 घंटे या 96 घंटे के भीतर RT-PCR परीक्षण की आवश्यकता होती है, लेकिन कई देशों ने अभी तक CoWIN को वैक्सीन पासपोर्ट के रूप में स्वीकार नहीं किया है.

विदेश यात्रा में सहायता के लिए CoWIN प्लेटफॉर्म पर जल्द ही मिलेगी कोविड परीक्षण रिपोर्ट

अधिकांश देशों को यात्रा करने से पहले नवीनतम आरटी-पीसीआर कोविड परीक्षण की आवश्यकता होती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

कोविड की आरटी-पीसीआर रिपोर्ट भारत के कुछ राज्यों में यात्रा के लिए अनिवार्य है. विदेश यात्रा के लिए तो यह बेहद जरूरी है. लोगों को आ रही दिक्कतों को देखते हुए इसे सरकार के CoWIN ऐप जोड़ा जाएगा. अभी जिस तरह से टीकाकरण प्रमाण पत्र कोविन पोर्टल पर आसानी से मिल जाता है, उसी तरह कोविड परीक्षण रिपोर्ट भी आसानी से मिल जाया करेगी. राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के प्रमुख आरएस शर्मा  ने आज एक साक्षात्कार में एनडीटीवी को बताया कि इससे यात्रियों को यह साबित करने में मदद मिलेगी कि उनके पास सरकार द्वारा प्रमाणित प्रामाणिक परीक्षण हैं.

"दिल्ली में स्कूल खुलेंगे पर हालात बदले तो...", देश में कोरोना के बढ़ते मामलों पर बोले सीएम केजरीवाल

शर्मा ने कहा, "हम ICMR (भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद) के महानिदेशक के साथ काम कर रहे हैं और हमने पहले से ही एक प्रणाली विकसित कर ली है. जैसा कि आप जानते हैं CoWIN प्रमाणपत्र डाउनलोड किए जा सकते हैं. इसी तरह, अब आप RT-PCR डाउनलोड कर सकेंगे, प्रमाणपत्र डिजिटल रूप से हस्ताक्षरित होगा."

अधिकांश देशों को यात्रा करने से पहले 72 घंटे या 96 घंटे के भीतर RT-PCR परीक्षण की आवश्यकता होती है, लेकिन कई देशों ने अभी तक CoWIN को वैक्सीन पासपोर्ट के रूप में स्वीकार नहीं किया है.

शर्मा ने कहा कि शुरू में एक बहुपक्षीय समझौता करने का प्रयास किया गया था कि हर देश के डिजिटल टीकाकरण प्रमाणपत्र को डिजिटल पासपोर्ट के रूप में स्वीकार किया जाएगा, लेकिन यह कारगर नहीं हुआ.

उन्होंने कहा, "अब द्विपक्षीय आधार पर प्रयास किया जा रहा है - मैं आपके देश का पासपोर्ट स्वीकार करता हूं और आप मेरा स्वीकार करते हैं. इसलिए दोनों देशों में हमारे विदेश मंत्रालय के साथ उन पर चर्चा चल रही है." भारत ने शुरू से ही अपने टीकाकरण प्रमाणपत्रों को अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप रखा है.

उन्होंने कहा, "क्यूआर कोड एन्क्रिप्टेड है, पासपोर्ट पर जो जानकारी आवश्यक है वह वास्तव में डिजिटल सर्टिफिकेट वैक्सीन सर्टिफिकेट पर है. इसलिए हमने सभी सूचनाओं का एक पैकेट बनाया है और यह पैकेट विदेश मंत्रालय को दिया गया है." उन्होंने कहा कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय भी इसमें सहयोग कर रहा है.

दिल्ली : पिछले 24 घंटे में कोरोना के 29 नए केस, सक्रिय मरीजों की संख्या हुई 393


जुलाई में, भारत में निर्मित टीकों को कुछ यूरोपीय देशों ने एक झगड़े के बाद स्वीकार कर लिया था. यूरोपीय संघ के आठ देशों - ऑस्ट्रिया, जर्मनी, स्लोवेनिया, ग्रीस, आइसलैंड, आयरलैंड, एस्टोनिया और स्पेन ने पुष्टि की कि वे भारत निर्मित कोविशील्ड वैक्सीन को यात्रा प्रवेश के लिए स्वीकार करेंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


यूनाइटेड किंगडम सहित कई अन्य राष्ट्र, भारतीय नागरिकों के टीकाकरण की स्थिति को स्वीकार नहीं करते हैं, भले ही उन्हें कोविशील्ड का टीका लगाया गया हो, जिसे न केवल विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा मान्यता प्राप्त है, बल्कि यूके को निर्यात भी किया गया है.