Covid-19 Pandemic: मुंबई में 26 प्राइवेट वैक्‍सीनेशन सेंटर हुए बंद, 26 आज शाम को होंगे

महाराष्‍ट्र के दिग्‍गज नेता और एनसीपी प्रमुख शरद पवार की कोरोना वैक्‍सीन के मुद्दे पर केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन से बात हुई है. महाराष्‍ट्र के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री राजेश टोपे ने सवाल किया है कि आखिर राज्‍य के साथ भेदभाव क्‍यों किया गया है.

Covid-19 Pandemic: मुंबई में 26 प्राइवेट वैक्‍सीनेशन सेंटर हुए बंद, 26 आज शाम को होंगे

मुंबई में कोरोना के केस बढ़ने से वैक्‍सीन की कमी होती जा रही है (प्रतीकात्‍मक फोटो)

खास बातें

  • 23 वैक्सीनेशन सेंटर नवी मुंबई में बंद हो चुके हैं
  • सतारा, सांगली और पनवेल में वैक्‍सीनेशन रुका
  • मुंबई में हैं कुल 120 वैक्सीनेशन सेंटर्स
मुंबई्र :

ऐसे समय जब महाराष्‍ट्र और यहां के महानगर मुंबई के कोरोना के नए केसों की संख्‍या तेजी से बढ़ रही है, मुंबई में कोरोना वैक्‍सीन की कमी का सामना करना पड़ रहा है. बृहन्‍नमुंबई म्‍युनिसिपल कार्पोरेशन (BMC) ने कन्‍फर्मग्‍ किया है कि मुंबई में कुल 120 वैक्सीनेशन सेंटर्स है, इसमें प्राइवेट सेंटर्स की संख्‍या 73 है, इसमें से 26 बंद हो गए हैं. 26 आज शाम के बाद बंद होंगे, और बचे हुए 21 कल बंद होंगे.  इसी तरह 47 सरकारी MCGM सेंटर्स में से कुछ आज बंद होंगे और कुछ कल. आज शाम तक टर्नओवर के हिसाब से तय होगा. इनके अलावा 23 वैक्सीनेशन सेंटर नवी मुंबई में बंद हो चुके हैं.

स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन के आरोपों पर बोलीं शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी- नेक इरादों से लिखा था खत

महाराष्‍ट्र के दिग्‍गज नेता और एनसीपी प्रमुख शरद पवार की कोरोना वैक्‍सीन के मुद्दे पर केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन से बात हुई है. महाराष्‍ट्र के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री राजेश टोपे ने सवाल किया है कि आखिर राज्‍य के साथ भेदभाव क्‍यों किया गया है. उन्‍होंने बताया कि राज्‍य के सतारा, सांगली और पनवेल में वैक्‍सीनेशन रुक गया है.


Covid टेस्टिंग से ज्यादा चुनाव जरूरी, चुनावी राज्यों में रैलियों में भीड़ बढ़ी, टेस्टिंग घटी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि महाराष्‍ट्र में कोरोना वैक्‍सीन की उपलब्‍धता के मुद्दे पर महाराष्‍ट्र सरकार और केंद्र के बीच आरोप-प्रत्‍यारोप का दौर शुरू हो गया है. महाराष्‍ट्र सरकार के राज्‍य में कोरोना की कमी के आरोप पर केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन का जवाब आया है, उन्‍होंने कहा है कि “यह और कुछ नहीं बल्कि वैश्विक महामारी के प्रसार को रोकने की कुछ राज्य सरकारों की बार-बार की विफलताओं से ध्यान भटकाने की कोशिश है.”