रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने संसद सत्र से पहले चीन के मामले पर शरद पवार और एके एंटनी को दी जानकारी

संसद का मॉनसून सत्र 19 जुलाई से प्रारंभ होने जा रहा है. संसद सत्र के पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के शरद पवार और कांग्रेस के एके एंटनी को चीन के मामले में जानकारी दी.

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने संसद सत्र से पहले चीन के मामले पर शरद पवार और एके एंटनी को दी जानकारी

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शरद पवार और एके एंटनी से चीन मुद्दे पर चर्चा की

नई दिल्ली:

संसद का मॉनसून सत्र 19 जुलाई से प्रारंभ होने जा रहा है. संसद सत्र के पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के शरद पवार और कांग्रेस के एके एंटनी को चीन के मामले में जानकारी दी.गौरतलब है कि पवार और एंटनी, पूर्व में रक्षा मंत्री भी रह चुके हैं. राजनाथ की इन दोनों नेताओं के साथ हुई बैठक के दौरान चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ बिपिन रावन और सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे भी मौजूद थे. 19 जुलाई से प्रारंभ होने जा रहे संसद सत्र के पहले यह बैठक हुई है. संसद सत्र के पहले, विपक्ष के वरिष्‍ठ नेताओं के साथ सरकार के मंत्रियों की बातचीत को 'आम शिष्‍टाचार' के रूप में देखा जा जाता है.  

मुद्दा ये है कि क्या चीन अपनी प्रतिबद्धताओं पर खरा उतरेगा : लद्दाख पर एस जयशंकर

शरद पवार ने आज राज्‍यसभा में सदन के नवनियुक्‍त नेता पीयूष गोयल से भी भेंट की. संसद का मॉनसून सत्र 19 जुलाई से प्रारंभ होकर 13 अगस्‍त तक चलेगा. सूत्रों ने बताया कि मानसून सत्र में सरकार 30 बिल लेकर आएगी. इनमें से 17 बिल नए हैं. मॉनसून सत्र से एक दिन पहले सरकार ने 18 जुलाई को सुबह 11 बजे सर्वदलीय बैठक बुलाई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस बैठक में शामिल होंगे. इस बैठक में सरकार विपक्षी दलों से मानसून सत्र को सुचारूपूर्ण ढंग से चलाने पर सहयोग मांगेगी. केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने सभी दलों को इस बैठक के लिए आमंत्रित किया है. 


सीमा विवाद पर चीन से बोला भारत- पूरी तरह ईमानदारी से समझौते को सुनिश्चित करें

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच लंबे समय से सीमा को लेकर विवाद स्थिति हैं. पिछले साल पूर्वी लद्दाख में दोनों पक्षों के आमने-सामने आने के बाद यह तनाव पिछले वर्ष काफी बढ़ गया था. भारत और चीन के बीच पिछले पिछले साल मई की शुरुआत से पूर्वी लद्दाख में सीमा पर गतिरोध जारी है. कई दौर की वार्ता के बाद फरवरी में पैंगोंग झील से सैनिकों को हटाने की प्रक्रिया पूरी हुई थी.