कोरोना टीकाकरण : केंद्र का राज्‍य सरकारों को लेटर, 'कमजोर वर्ग पर भी दें ध्‍यान, भिखारी और बेघर न रहें वैक्‍सीन से वंचित'

केंद्र ने राज्यों से ऐसे लोगों को कोरोना का टीका लगाने में तेजी लाने के लिए कहा है जो बेघर,बेसहारा और भिखारी हैं.

कोरोना टीकाकरण : केंद्र का राज्‍य सरकारों को लेटर, 'कमजोर वर्ग पर भी दें ध्‍यान, भिखारी और बेघर न रहें वैक्‍सीन से वंचित'

केंद्र सरकार का फोकस वर्ष के अंत तक देश के ज्‍यादातर लोगों को टीका लगाने पर है (प्रतीकात्‍मक फोटो)

नई दिल्ली:

Corona vaccination: केंद्र सरकार यह सुनिश्चित करने का पूरा प्रयास कर रही है कि कोरोना टीकाकरण अभियान (Corona vaccination) के दौरान कोई भी टीके से वंचित न रहे. इसके तहत केंद्र ने राज्यों से ऐसे लोगों को कोरोना का टीका लगाने में तेजी लाने के लिए कहा है जो बेघर,बेसहारा और भिखारी हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने इस संबंध में सभी राज्यों को लेटर लिखा है, इस लेटर में कहा गया है कि वैक्सीनेशन के लिए राज्य ऐसे लोगों पर फोकस करें जो कमजोर तबका है. मसलन जो भिखारी,बेसहारा और बेघर हैं, उनके वैक्सीनेशन पर जोर देने की जरूरत है.

भारत में तीन हफ्ते में सबसे ज्‍यादा कोरोना केस दर्ज, R-वैल्‍यू ऊपर जाने से बढ़ी चिंता

केंद्र सरकार का मानना है कि यह ऐसा तबका है जो वैक्सीन के लिए खुद रजिस्ट्रेशन नही कर सकता या फिर इसके पास संसाधनों (रिसोर्सेज) की कमी है. इस ग्रुप को वैक्सीनेट करने के लिए राज्य सरकारें सुविधा मुहैया कराएं. केंद्र ने राज्यों को सलाह देते हुए कहा है कि इस 'वर्ग' के वैक्सीनेशन के लिए NGO या फिर वालेंटियर्स की मदद ली जा सकती है.

दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 63 नए COVID-19 केस, 3 की मौत

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि भारत में कोरोना के नए मामलों का ग्राफ कुछ ऊपर चढ़ा है. कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच देश में शुक्रवार को बीते 24 घंटों में 44,230 नए मामले दर्ज किए गए. पिछले तीन हफ्तों में एक दिन में आए यह कोरोना केसों की सबसे अधिक संख्‍या है. मई माह में कोरोना की दूसरी लहर के चरम पर पहुंचने के दौरान देश में रोजाना के कोरोना केसों की संख्‍या चार लाख तक पहुंच गई थी लेकिन बाद में यह धीरे-धीरे इसमें कमी आ गई थी. कोरोना के मामलों में अब फिर कुछ तेजी आई है जिसके चलते एक राज्‍य (केरल) में वीकेंड लॉकडाउन लागू करना पड़ा है. पूर्वोत्‍तर राज्‍यों में भी केसों की संख्‍या बढ़ी है.