केंद्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत बनाए गए राज्यपाल, कैबिनेट विस्तार के पहले 8 राज्यों को मिले नए गवर्नर

केंद्रीय मंत्री की जिम्‍मेदारी संभाल रहे थावरचंद गहलोत को कर्नाटक का राज्‍यपाल नियुक्‍त किया गया है. इसके अनुसार, मिजोरम के राज्‍यपाल पीएस श्रीधरन पिल्‍लै को ट्रांसफर करके गोवा का राज्‍यपाल नियुक्‍त किया गया है.

केंद्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत बनाए गए राज्यपाल, कैबिनेट विस्तार के पहले 8 राज्यों को मिले नए गवर्नर

Thaawarchand Gehlot को कर्नाटक का राज्‍यपाल नियुक्‍त किया गया है

खास बातें

  • कर्नाटक के राज्‍यपाल बनाए गए हैं थावरचंद
  • बंडारू दत्‍तात्रेय होंगे अब हरियाणा के राज्‍यपाल
  • मंगूभाई छगनभाई पटेल मध्‍यप्रदेश के राज्‍यपाल होंगे
नई दिल्ली:

देश के कुछ राज्‍यपालों को ट्रांसफर करके दूसरे राज्‍यों में भेजा गया है जबकि कुछ नए राज्‍यपालों की नियुक्ति की गई है. राष्‍ट्रपति भवन की ओर से मंगलवार को जारी प्रेस विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गई . केंद्रीय मंत्री की जिम्‍मेदारी संभाल रहे थावरचंद गहलोत (Thaawarchand Gehlot) को कर्नाटक का राज्‍यपाल नियुक्‍त किया गया है. विज्ञप्ति के अनुसार, मिजोरम के राज्‍यपाल पीएस श्रीधरन पिल्‍लै को ट्रांसफर करके गोवा का राज्‍यपाल नियुक्‍त किया गया है.इसी तरह हरियाणा के राज्‍यपाल सत्‍यदेव नारायण आर्य को ट्रांसफर करके त्रिपुरा का राज्‍यपाल बनाया गया है जबकि त्रिपुरा के राज्‍यपाल रमेश बैस को ट्रांसफर करके झारखंड का राज्‍यपाल नियुक्‍त किया है. 

"मित्रों वाला राफेल है, टैक्स वसूली-महंगा तेल है, सवाल करो तो..." : राहुल गांधी ने फिर सरकार को घेरा

बंडारू दत्‍तात्रेय को हिमाचल प्रदेश से ट्रांसफर करके हरियाणा का राज्‍यपाल बनाया गया जबकि डॉ. हरिबाबू कंभमपति को मिजोरम का राज्‍यपाल नियुक्‍त किया गया है. मंगूभाई छगनभाई पटेल मध्‍यप्रदेश और राजेंद्र विश्‍वनाथ अरलेकर हिमाचल प्रदेश के राज्‍यपाल होंगे. राष्‍ट्रपति के प्रेस सचिव अजय कुमार की विज्ञप्ति के अनुसार, यह नियुक्तियां ऑफिस में कार्यभार संभालने की तारीख से प्रभावी मानी जाएंगी.


जल्द ही सामने आएगा नया मोदी मंत्रिमंडल? इंदौर से दिल्ली रवाना हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल में विस्तार की चर्चाएं इन दिनों जोरों पर हैं. चर्चा हैं कि इस कैबिनेट विस्‍तार में एक से अधिक मंत्रालय का काम संभाल रहे मंत्रियों के काम का 'बोझ' कम किया जाएगा. मंत्रिमंडल में नए चेहरों को स्‍थान दिया जाएगा जबकि अच्‍छा प्रदर्शन नहीं दे रहे कुछ मंत्रियों को हटाया जा सकता है. केंद्रीय मंत्रिमंडल में 81 सदस्य हो सकते हैं, लेकिन इस वक्त मंत्रिमंडल में सिर्फ 53 सदस्य हैं. इसका अर्थ यह हुआ कि 28 सदस्य जोड़े जा सकते हैं.अपने दूसरे कार्यकाल में PM नरेंद्र मोदी पहली बार मंत्रिमंडल विस्तार करने जा रहे हैं, तो वह अगले वर्ष पांच राज्यों में होने जा रहे चुनाव तथा वर्ष 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव को ज़रूर ध्यान में रखेंगे.