केंद्र ने रिहाना एवं थमबर्ग का मुकाबला करने के लिए तेंदुलकर को मैदान में उतारा : शिवानंद तिवारी

राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने सवाल किया कि क्या केंद्र चाहता है कि तेंदुलकर जैसे लोगों के बयान की वजह से दुनिया किसानों के आंदोलन को अनदेखा कर दे.

केंद्र ने रिहाना एवं थमबर्ग का मुकाबला करने के लिए तेंदुलकर को मैदान में उतारा : शिवानंद तिवारी

राष्ट्रीय जनता दल नेता शिवानंद तिवारी (फाइल फोटो)

पटना:

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नेता शिवानंद तिवारी ने शुक्रवार को केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि उसने किसान आंदोलन को लेकर हाल में अंतरराष्ट्रीय हस्तियों द्वारा की गई टिप्पणियों का ‘मुकाबला' करने के लिए क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर को मैदान में ‘उतारा' है.उन्होंने कहा कि यह महान खिलाड़ी को भारत रत्न से सम्मानित करने का अपमान है. राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने सवाल किया कि क्या केंद्र चाहता है कि तेंदुलकर जैसे लोगों के बयान की वजह से दुनिया किसानों के आंदोलन को अनदेखा कर दे.

उल्लेखनीय है कि तेंदुलकर, रवि शास्त्री, विराट कोहली ने बुधवार को बॉलीवुड सुपरस्टार अक्षय कुमार और अजय देवगन के साथ केंद्र के आह्वान ‘ भारत सरकार और उसकी नीतियों के खिलाफ दुष्प्रचार का विरोध' अभियान का समर्थन किया था. केंद्र ने यह अभियान रिहाना, ग्रेटा थमबर्ग जैसी हस्तियों द्वारा किसान आंदोलन को समर्थन देने के बाद शुरू किया था.
तेंदुलकर ने ट्वीट किया था ,‘‘ भारत की सम्प्रभुता से समझौता नहीं किया जा सकता . विदेशी ताकतें दर्शक हो सकती हैं लेकिन प्रतिभागी नहीं . भारत को भारतीय जानते हैं और वे ही भारत के लिये फैसला लेंगे . एक देश के रूप में एकजुट होने की जरूरत है .''

राजद नेता ने कहा, ‘‘किसान ट्विटर के बारे में नहीं जानते हैं. ट्विटर की यह राजनीति हाल में शुरू हुई है और सभी करते हैं. किसानों को ग्रेटा थनर्बग एवं रिहाना से क्या लेना देना? और आपने सचिन तेंदुलकर को उनके खिलाफ उतार दिया.''
तिवारी की इस टिप्पणी की भाजपा एवं उसकी सहयोगी जदयू ने कड़ी आलोचना की है एवं उनसे माफी की मांग की है.
हालांकि, राजद ने शिवानंद तिवारी की टिप्पणी से किनारा करते हुए कहा कि यह उनकी ‘निजी राय' है. राजद नेता के बयान की निंदा करते हुए भाजपा एवं जदयू ने इसे ‘बेतुका एवं अवांछित' करार दिया है.बिहार में भाजपा के प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा, ‘‘ आज कल शिवानंद तिवारी हताश विपक्षी नेताओं का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं और सुर्खियों में बने रहने को बेकरार हैं. उनका सचिन तेंदुलकर के संबंध में दिया गया बयान बेतुका एवं अवांछित हैं. शिवानंद जी को देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए.''


उन्होंने कहा, ‘‘ राजद को शिकायत रखने एवं किसी के लिए भारत रत्न की मांग करने की आजादी है, लेकिन शिवानंद जी को किसी के खिलाफ, जो भारत रत्न से सम्मानित है, अपशब्द कहने का अधिकार नहीं है. हम उनके बयान की निंदा करते हैं और तेजस्वी यादव से मांग करते हैं कि उन्हें सामने आकर अपने पार्टी नेता के बारे में सफाई देनी चाहिए.'' जदयू के प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने भी इसी तरह की राय व्यक्त करते हुए कहा, ‘‘ ग्रेटा थमबर्ग और रिहाना जैसी विदेशी हस्तियों के प्रति सम्मान व्यक्त करना और महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर जिसे लाखों लोग प्यार करते हैं, का अपमान करना.... राजद नेता से यही उम्मीद की जा सकती है.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com



प्रसाद ने कहा कि अगर तिवारी माफी नहीं मांगते हैं तो राजद नेता तेजस्वी यादव को उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए. बिहार में राजद के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा, ‘‘ यह उनकी (शिवानंद तिवारी) निजी राय है जो उन्होंने प्रदर्शनकारी किसानों की स्थिति एवं पीड़ा के मद्देनजर व्यक्त की.''
 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)