कानपुर में आतंकवादी मॉड्यूल और ‘स्लीपर सेल’ की मौजूदगी की संभावना से इनकार नहीं: DGP

आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस) और खुफिया एजेंसियों को कानपुर में आतंकवादियों और ‘स्लीपर सेल’ की गतिविधि होने का शक है.

कानपुर में आतंकवादी मॉड्यूल और ‘स्लीपर सेल’ की मौजूदगी की संभावना से इनकार नहीं:  DGP

कानपुर के दौरे पर आए डीजीपी कानपुर पुलिस कमिश्नरेट के कोविड-19 अस्पताल का उद्घाटन किया.

कानपुर:

उत्तर प्रदेश (UP) के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) मुकुल गोयल (Mukul Goel) ने रविवार को कहा कि कानपुर में ‘स्लीपर सेल' और आतंकवादी मॉड्यूल मौजूद हो सकते हैं. गोयल ने ‘पीटीआई-भाषा'' को बताया, ‘‘हालांकि हमारे पास इसकी कोई खुफिया सूचना नहीं है, मगर कानपुर में आतंकवादी मॉड्यूल और ‘स्लीपर सेल' की मौजूदगी की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता.''उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस) और खुफिया एजेंसियों को कानपुर में आतंकवादियों और ‘स्लीपर सेल' की गतिविधि होने का शक है. ऐसे में खास सतर्कता बरती जा रही है ताकि ये देश विरोधी तत्व अपने इरादों में कामयाब होने से पहले ही गिरफ्तार कर लिया जाएं.

दिल्ली पुलिस आयुक्त ने स्वतंत्रता दिवस समारोह से पूर्व सुरक्षा को लेकर की अंतर-राज्यीय बैठक

गौरतलब है कि एटीएस ने पिछले महीने राजधानी लखनऊ में कथित अलकायदा समर्थित दो आतंकवादियों की गिरफ्तारी के बाद कानपुर में बड़ी संख्या में उनके सहयोगियों को भी गिरफ्तार किया था. कानपुर के दौरे पर आए डीजीपी गोयल रिजर्व पुलिस लाइन पहुंचे और कानपुर पुलिस कमिश्नरेट के कोविड-19 अस्पताल का उद्घाटन किया. उन्होंने कहा कि कानपुर पुलिस के कोविड केयर अस्पताल को एक आदर्श के रूप में लेते हुए राज्य के हर जिले में पुलिसकर्मियों के उपचार के लिए कुछ प्रबंध करने का फैसला लिया गया है.


जम्मू-कश्मीर में इस साल मारे गए हैं 89 आतंकवादी, 200 से ज्यादा अभी भी सक्रिय : सुरक्षा अधिकारी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पुलिस महानिदेशक ने कोविड-19 महामारी के दौरान कर्तव्य का पालन करते हुए अपने प्राण न्योछावर करने वाले पुलिसकर्मियों को भी याद किया.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)