बिहार : मृत नेता ने जीता पंचायत चुनाव, निर्वाचन अधिकारियों की बड़ी भूल सामने आई 

बिहार के सोहन मुर्मू ने अपने प्रतिद्वंद्वी को 28 मतों से हराया था. मुर्मू के परिवार वालों ने कहा कि मुर्मू बीमार थे और चुनाव जीतना उनकी अंतिम इच्छा थी, इसलिए वे चुप रहे.

बिहार : मृत नेता ने जीता पंचायत चुनाव, निर्वाचन अधिकारियों की बड़ी भूल सामने आई 

बिहार पंचायत चुनाव के नतीजे घोषित कर दिए गए हैं (फाइल फोटो)

जमुई :

बिहार के पंचायत चुनाव (Bihar panchayat election ) के नतीजों में एक शर्मनाक वाकया सामने आया, जब एक मृत व्यक्ति को विजेता घोषित कर दिया गया. इस मामले में चुनाव अधिकारियों की बड़ी लापरवाही सामने आई है. दरअसल, बिहार के जमुई जिले में हुए पंचायत चुनाव के नतीजे घोषित किए जा रहे थे. इसमें खैरा ब्लॉक के दीपकरहर गांव में वार्ड संख्या दो से सोहन मुर्मू को विजेता घोषित किया गया. लेकिन काफी खोजबीन के बाद सोहन मुर्मू सामने नहीं आए. 

बिहार पंचायत चुनाव : भैंस की सवारी कर नोमिनेशन भरने पहुंचे नेताजी, VIDEO में देखें फिर क्या हुआ

जब अधिकारी 24 नवंबर को हुए चुनाव में विजय हासिल करने वाले उम्मीदवारों को प्रमाण पत्र सौंप रहे थे. तब सोहन मुर्मू का नाम भी पुकारा गया.लेकिन दीपकरहर गांव में वार्ड संख्या दो पर जीत दर्ज करने वाले सोहन मुर्मू कहीं नहीं मिले. खैरा के बीडीओ राघवेंद्र त्रिपाठी ने कहा कि पूछताछ करने पर पता चला कि मतदान संपन्न होने से 15 दिन पहले 6 नवंबर को ही मुर्मू की मौत हो गई थी. ये गांव झारखंड की सीमा पर है, जहां मुख्य रूप से आदिवासी निवास करते हैं.

बिहार पंचायत चुनाव की रंजिश: वोट नहीं देने पर पहले शख्स को पीटा फिर पेट्रोल छिड़क जिंदा जलाने की कोशिश


मुर्मू ने अपने प्रतिद्वंद्वी को 28 मतों से हराया था. मुर्मू के परिवार वालों ने कहा कि मुर्मू बीमार थे और चुनाव जीतना उनकी अंतिम इच्छा थी, इसलिए वे चुप रहे. गांव के किसी व्यक्ति ने भी चुनाव अधिकारियों को इसकी जानकारी नहीं दी गई.  न ही चुनाव अधिकारियों ने मतदान के पहले सभी उम्मीदवारों की सुध ली. ऐसा लगता है कि उन सभी ने मुर्मू की अंतिम इच्छा पूरी करने के लिए उन्हें वोट दिया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


मृतक के परिजनों और ग्रामीणों के भोलेपन के कारण अधिकारियों की जिम्मेदारी बढ़ गई है. त्रिपाठी ने कहा कि जीत का प्रमाण पत्र किसी को भी नहीं दिया जा सकता. हम राज्य निर्वाचन आयोग को पत्र लिखकर इसकी जानकारी देंगे और अनुरोध करेंगे कि संबंधित वार्ड के चुनाव रद्द कर फिर से चुनाव कराया जाए.