कोरोना के मामलों में इजाफे के बीच कोलकाता में छोटी-छोटी चुनावी सभाएं करेगी TMC

पश्चिम बंगाल में रविवार को एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के 8,419 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 6,59,927 हो गई है.

कोरोना के मामलों में इजाफे के बीच कोलकाता में छोटी-छोटी चुनावी सभाएं करेगी TMC

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी. (फाइल फोटो)

कोलकाता:

पश्चिम बंगाल में कोविड-19 के मामलों में वृद्धि के मद्देनजर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार को कहा कि उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस कोलकाता में छोटी-छोटी चुनावी सभाएं आयोजित करेगी और वह उन जिलों में आयोजित रैलियों में छोटे-छोटे भाषण देंगी, जिनमें शेष तीन चरणों में मतदान होना है. बनर्जी ने एक टीवी चैनल से कहा कि वह राज्य के विभिन्न भागों में आम तौर पर दिए जाने वाले 50 मिनट से एक घंटे के भाषण में 20 मिनट या उससे अधिक समय की कटौती करेंगी ताकि लोगों को सभा में लंबे समय तक न रहना पड़े.

उन्होंने कहा, 'हां, हमने अगले तीन चरणों में शहर में गली-कूचों में छोटी-छोटी सभाएं करने का निर्णय है. हम अब बड़ी-बड़ी सभाएं नहीं करेंगे. साथ ही मेरे भाषण भी काफी छोटे होंगे.'

नहीं थम रहा कोरोना का कहर : कई जगह रिकॉर्ड मामले, राजस्थान, बिहार सहित कई राज्यों ने बढ़ाई सख्ती

तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य डेरेक ओ''ब्रायन ने ट्वीट किया, 'ममता बनर्जी अब कोलकाता में प्रचार नहीं करेंगी. शहर में 26 अप्रैल को मतदान के अंतिम दिन केवल सांकेतिक सभा होगी. उन्होंने सभी जिलों में अपनी सभी चुनावी रैलियों के समय में कटौती की है. उनके भाषण केवल 30 मिनट के होंगे.'

क्या नीतीश कुमार अब पहले कोरोना काल की ग़लतियों को नहीं दोहराना चाहते ?


पश्चिम बंगाल में आठ चरण में हो रहा विधानसभा चुनाव अभी जारी है. राज्य में रविवार को एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के 8,419 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 6,59,927 हो गई है. इस अवधि में महामारी से 28 और लोगों की मौत हो गई तथा राज्य में इस बीमारी से अब तक 10,568 लोग जान गंवा चुके हैं. कोलकाता में संक्रमण के सर्वाधिक 2,197 नए मामले सामने आए. इसके बाद उत्तर 24 परगना जिले में महामारी के 1,860 नए मामले सामने आए. इस अवधि में महामारी से कोलकाता में पांच और उत्तर 24 परगना में छह लोगों की मौत हुई है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


कोरोना की दूसरी लहर का कहर, ढाई लाख से ज्यादा मामलों से राज्यों पर बढ़ा दबाव



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)