आजम खां जमानत के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे, यूपी विधानसभा चुनाव में प्रचार के लिए लगाई गुहार

आजम खान ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि यूपी की अदालतों में जमानत पर रिहाई के लिए तीन अलग अलग मामलों में अर्जियां लगा रखी हैं. लेकिन सरकार का अभियोजन विभाग उसमे जानबूझ कर लापरवाही बरत रहा है.

नई दिल्ली:

समाजवादी पार्टी के नेता और सपा सरकार में मंत्री रहे आजम खां ने अंतरिम जमानत के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. सपा नेता आजम खान ने सुप्रीम सुप्रीम कोर्ट में दाखिल अंतरिम जमानत याचिका में कहा है कि वो यूपी विधानसभा चुनाव में प्रचार करना चाहते हैं.जेल में बंद समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान ने सुप्रीम कोर्ट में अंतरिम जमानत पर रिहाई की अर्जी लगाई है. आजम खान ने अपनी याचिका में कहा है कि राज्य सरकार उनके खिलाफ दर्ज मुकदमों में अभियोजन प्रक्रिया को खामख्वाह लटका रही है ताकि वो चुनाव प्रचार में हिस्सा ना ले सकें.

आजम खान ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि यूपी की अदालतों में जमानत पर रिहाई के लिए तीन अलग अलग मामलों में अर्जियां लगा रखी हैं. लेकिन सरकार का अभियोजन विभाग उसमे जानबूझ कर लापरवाही बरत रहा है. सरकार नहीं चाहती कि वो किसी भी सूरत में चुनाव प्रचार के लिए जेल से बाहर आएं. लिहाजा सुप्रीम कोर्ट उन्हें यूपी चुनाव के दौरान अंतरिम जमानत पर रिहा करे.

गौरतलब है कि यूपी सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खान को फरवरी 2020 में उनके बेटे और पत्नी के साथ जमीन हथियाने, अतिक्रमण करने और फर्जी जन्म प्रमाण पत्र उपलब्ध कराने के विभिन्न मामलों में गिरफ्तार किया गया था. बाद में उनकी पत्नी तंजीम और बेटे अब्दुल्ला आजम को जमानत पर रिहा कर दिया गया था. समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान यूपी के रामपुर विधानसभा क्षेत्र से सांसद हैं. इससे पहले वे यूपी कैबिनेट में मंत्री भी रह चुके हैं 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


आजम खां के बेटे अब्दुल्ला आजम को हाल ही में सीतापुर जेल से रिहा किया गया है. उन्हें करीब दो साल जेल में रहने के बाद रिहा किया गया है. जेल से रिहा होते ही अब्दुल्ला ने यूपी की बीजेपी सरकार पर हमला बोला है.