इतिहास रचने जा रहीं ये 4 भारतीय महिला पायलट ! 17 घंटे की नॉन स्टॉप फ्लाइट उड़ाकर पहुंचेंगी बेंगलुरू 

यह उड़ान आज (9 जनवरी, शनिवार को) सैन फ्रांसिस्को से 8.30 बजे (स्थानीय समयानुसार) भारत के लिए रवाना हो चुकी है. 11 जनवरी, सोमवार को बेंगलुरु के केम्पेगौड़ा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर अहले सुबह 3.45 बजे (स्थानीय समयानुसार) इसके लैंड करने की उम्मीद है.

इतिहास रचने जा रहीं ये 4 भारतीय महिला पायलट ! 17 घंटे की नॉन स्टॉप फ्लाइट उड़ाकर पहुंचेंगी बेंगलुरू 

इतिहास रचने जा रही भारतीय महिला पायलट दल ने NDTV से बात की और अपनी तैयारियां बताईं.

खास बातें

  • 17 घंटे लंबी उड़ान पर इतिहास रचने जा रहीं एयर इंडिया की 4 महिला पायलट
  • 16,000 किलोमीटर का नॉन स्टॉप उड़ान भरेंगी, केंद्रीय मंत्री ने दी बधाई
  • अमेरिकी शहर सैन फ्रांसिस्को से बेंगलुरु के लिए भरी उड़ान
नई दिल्ली:

एयर इंडिया (Air India) की महिला चालक दल इतिहास रचने जा रही है. ये महिलाएं 17 घंटे की लंबी कॉमर्शियल उड़ान भरकर अमेरिकी शहर सैन फ्रांसिस्कों से भारत के बेंगुलुरु आने जा रही है. एयर इंडिया की यह सबसे लंबी नॉन स्टॉप कॉमर्शियल फ्लाइट का संचालन होगा. इस दल में चार महिला पायलट शामिल हैं.  16,000 किलोमीटर लंबे हवाई मार्ग पर ये चालक दल सैन फ्रांसिस्को से बोईंग विमान 777-200LR लेकर आ रहा है, जो 11 जनवरी की सुबह 3.45 बजे बेंगलुरु पहुंचेगा.

एयर इंडिया के विमान संख्या AI 176 की लीड पायलट कैप्टन जोया अग्रवाल ने NDTV से कहा, "यह 16,000 किलोमीटर की दूरी है. इसलिए, हमलोग दुनिया की सबसे लंबी उड़ान पर होंगे. और, हाँ, हम ध्रुवीय मार्ग (उत्तरी ध्रुव पर) के ऊपर उड़ान भरने की कोशिश करने जा रहे हैं. हालांकि, वहां सौर विकिरण और अन्य संकटकारी कारक होंगे. इसलिए, हम चुस्त बैठने वाले हैं और आशा करते हैं कि हम ध्रुवीय क्षेत्र को पार करेंगे सभी प्रकार के रिकॉर्ड तोड़ेंगे."

Air India की महिला पायलट रचने जा रहीं इतिहास, दुनिया के सबसे लंबे हवाई मार्ग पर भरेंगी उड़ान

यह उड़ान आज (9 जनवरी, शनिवार को) सैन फ्रांसिस्को से 8.30 बजे (स्थानीय समयानुसार) भारत के लिए रवाना हो चुकी है. 11 जनवरी, सोमवार को बेंगलुरु के केम्पेगौड़ा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर अहले सुबह 3.45 बजे (स्थानीय समयानुसार) इसके लैंड करने की उम्मीद है.

चार चालक दल में शामिल कैप्टन पापागरी तनमय ने NDTV से कहा, "हमारी उड़ान का मार्ग सैन फ्रांसिस्को-सिएटल-वैंकूवर होगा और हम 82 डिग्री उत्तरी अक्षांश पर ऊंचाई में होंगे. तकनीकी रूप से, हम (उत्तरी) ध्रुव पर सही उड़ान नहीं भर रहे होंगे, लेकिन हम इसके ठीक बगल में होंगे. और फिर हम उसके दक्षिण में रूस में प्रवेश करेंगे फिर और सुदूर दक्षिण में बेंगलुरु तक पहुंचेंगे."

ब्रिटेन से एयर इंडिया की फ्लाइट पहुंची, कोविड के नए नियमों से अनजान यात्री दिल्‍ली एयरपोर्ट पर दिखे परेशान


कैप्टन जोया ने बताया कि उत्तरी ध्रुव पर सीधे उड़ान क्यों नहीं भर सकते. बतौर कैप्टन जोया यह चुंबकीय क्षेत्र है, इस वजह से वहां उड़ान भरना कठिनकर है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


नागरिक विमानन उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने भारतीय महिला चालक दल को शुभकामनाएं दी हैं. उन्होंने ट्वीट किया है, "एयर इंडिया की महिला शक्ति दुनिया भर में ऊंची उड़ान भरती है. कैप्टन जोया अग्रवाल, कैप्टन पपागड़ी तनमय, कैप्टन आकांशा सोनवरे और कैप्टन शिवानी मन्हास को मिलाकर सभी महिला कॉकपिट क्रू सैन फ्रांसिस्को और बेंगलुरु के बीच ऐतिहासिक उद्घाटन उड़ान का संचालन करेंगी.