पंजाब में नेतृत्व बदलाव के बाद राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने की सचिन पायलट से मुलाकात

सचिन पायलट को गुजरात जैसे राज्य में एक संगठनात्मक पद मिलने की संभावना है, जहां चुनाव होने वाले हैं.

पंजाब में नेतृत्व बदलाव के बाद राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने की सचिन पायलट से मुलाकात

पायलट को गुजरात जैसे राज्य में एक संगठनात्मक पद मिलने की संभावना है.

नई दिल्ली:

पंजाब में नेतृत्व बदलाव के बाद राजस्थान कांग्रेस के नेता सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने आज एक हफ्ते से भी कम समय में दूसरी बार पार्टी सहयोगियों राहुल गांधी  (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) से मुलाकात की. पायलट को गुजरात जैसे राज्य में एक संगठनात्मक पद मिलने की संभावना है जहां चुनाव होने वाले हैं. पायलट और गांधी परिवार के बीच उनके दिल्ली स्थित आवास पर चर्चा उस समय हुई जब कांग्रेस ने पड़ोसी राज्य पंजाब में अपना मामला सुलझा लिया.

राहुल गांधी से सचिन पायलट की मुलाकात, कब सुलझेगा राजस्थान कांग्रेस का झगड़ा?

44 वर्षीय पायलट क्या कांग्रेस के गुजरात अभियान का प्रबंधन करने के लिए सहमत हुए हैं? हालांकि अभी यह पता नहीं चला है लेकिन पायलट की राजस्थान में उनकी अपनी महत्वाकांक्षाएं हैं, जहां 70 वर्षीय अशोक गहलोत मुख्यमंत्री हैं. पायलट अपने विश्वासपात्रों को राजस्थान कैबिनेट में शामिल होते देखने के लिए इंतजार कर रहे हैं.


कांग्रेस के नेताओं के ट्विटर अकाउंट लॉक करने को लेकर सचिन पायलट ने कही खरी-खरी बात

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इससे पहले 17 सितंबर को हुई बैठक में राजस्थान में कांग्रेस को जमीनी तौर पर अधिक मजबूत करने के साथ-साथ सचिन पायलट की भावी भूमिका को लेकर भी लंबी बात हुई थी. सचिन खेमे का दावा रहा है कि कांग्रेस नेतृत्व ने सचिन को सीएम बनाने का वादा किया हुआ है और देर सवेर ये वादा पूरा होगा. जानकार पंजाब का हवाला देकर बताते हैं कि पंजाब का बदलाव महज मुख्यमंत्री के बदलाव का मामला नहीं है बल्कि इसे कांग्रेस पार्टी के रैंक एंड फाइल में पीढ़ीगत बदलाव के तौर पर देखा जाना चाहिए. कांग्रेस आलाकमान दूसरे राज्यों में भी ऐसे बदलाव का पक्षधर है लेकिन ये कब और कैसे हो इसे लेकर अभी रोडमैप तैयार नहीं है. कांग्रेस आलाकमान राजस्थान सरकार में अभी नेतृत्व परिवर्तन या किसी बड़े फेरबदल के मूड में नहीं है और सारा ध्यान उत्तर प्रदेश और पंजाब समेत पांच राज्यों के चुनाव पर लगाना चाहती है. इसके बाद राजस्थान को लेकर बड़े फैसले किए जाने की संभावना है.