विज्ञापन
Story ProgressBack

COVID-19 में एंटीबायोटिक के बहुत ज्यादा उपयोग से लोगों में एंटीबायोटिक रेजिस्टेंस का लेवल बढ़ा : WHO

"एंटीबायोटिक के उपयोग की उच्चतम दर गंभीर कोविड-19 वाले रोगियों में देखी गई, जिसका वैश्विक औसत 81 प्रतिशत है. मध्यम मामलों में, अफ्रीकी क्षेत्र (79 प्रतिशत) में सबसे ज्यादा उपयोग वाले क्षेत्रों में काफी भिन्नता थी."

Read Time: 3 mins
COVID-19 में एंटीबायोटिक के बहुत ज्यादा उपयोग से लोगों में एंटीबायोटिक रेजिस्टेंस का लेवल बढ़ा : WHO
एंटीबायोटिक रेजिस्टेंस वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्‍याओं में से एक है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि दुनिया भर में कोविड-19 महामारी के दौरान एंटीबायोटिक दवाओं के अंधाधुंध उपयोग ने एंटीबायोटिक रेजिस्टेंस का लेवल तेजी से बढ़ा है. डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट में पाया गया कि लगभग 75 प्रतिशत रोगियों का इलाज एंटीबायोटिक दवाओं से किया गया, भले ही वे असर करती हों या नहीं, हालांकि अस्पताल में भर्ती कोविड के केवल 8 प्रतिशत रोगियों को बैक्टीरियल इन्फेक्शन से लड़ने के लिए एंटीबायोटिक दवाओं की जरूरी थी.

10 साल से पहले अपने बच्चों को सिखाएं ये चीजें, भविष्य में हर मोड़ पर आएंगी काम

एंटीबायोटिक रेजिस्टेंस वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्‍याओं में से एक है और यह लगभग 1.27 मिलियन मौतों के लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार था. 2019 में इससे दुनिया भर में 4.95 मिलियन मौतें हुईं. रिपोर्ट में कहा गया, "कोविड-19 महामारी के दौरान एंटीबायोटिक का उपयोग बढ़ गया. 2020 और 2022 के बीच पूर्वी भूमध्यसागरीय और अफ्रीकी क्षेत्रों में इसमें 83 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई, जबकि पश्चिमी प्रशांत क्षेत्र में 33 प्रतिशत की वृद्धि हुई."

एंटीबायोटिक के उपयोग की दर का वैश्विक औसत 81 प्रतिशत रहा:

आगे कहा गया, "एंटीबायोटिक के उपयोग की उच्चतम दर गंभीर कोविड-19 वाले रोगियों में देखी गई, जिसका वैश्विक औसत 81 प्रतिशत है. मध्यम मामलों में, अफ्रीकी क्षेत्र (79 प्रतिशत) में सबसे ज्यादा उपयोग वाले क्षेत्रों में काफी भिन्नता थी."

एएमआर के लिए निगरानी, साक्ष्य और लेबोरेटरी स्ट्रेंथनिंग डिवीजन के लिए डब्ल्यूएचओ यूनिट प्रमुख डॉ. सिल्विया बर्टाग्नोलियो ने कहा, "जब किसी मरीज को एंटीबायोटिक्स की जरूरत होती है तो लाभ अक्सर साइड इफेक्ट्स या एंटीबायोटिक रेजिस्टेंस से जुड़े जोखिमों से ज्यादा होता है. हालांकि, जब वे अनावश्यक होते हैं तो जोखिम पैदा करते हुए कोई लाभ नहीं देते और उनका उपयोग एंटीबायोटिक रेजिस्टेंस को बढ़ावा देता है."

यह भी पढ़ें: स्किन को चमकाने के लिए कमाल कर सकती है किशमिश, जानें इस्तेमाल करने का सही तरीका

"ये डेटा रोगियों और आबादी के लिए जरूरत नकारात्मक परिणामों को कम करने के लिए एंटीबायोटिक दवाओं के तर्कसंगत उपयोग में सुधार की मांग करता है."

यह निष्कर्ष जनवरी 2020 और मार्च 2023 के बीच 65 देशों के अस्पतालों में भर्ती कराए गए 4,50,000 मरीजों के डेटा पर आधारित है, जैसा कि डब्ल्यूएचओ ग्लोबल क्लिनिकल प्लेटफॉर्म फॉर कोविड-19 में दर्ज किया गया है.

यह रिपोर्ट 27-30 अप्रैल को बार्सिलोना, स्पेन में आयोजित होने वाली आगामी ईएससीएमआईडी ग्लोबल कांग्रेस में डब्ल्यूएचओ के वैज्ञानिक पोस्टर में प्रस्तुत की जाएगी.

(अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Cancer की वजह बन सकता है मोटापा, स्टडी में हुआ चौंकाने वाला खुलासा
COVID-19 में एंटीबायोटिक के बहुत ज्यादा उपयोग से लोगों में एंटीबायोटिक रेजिस्टेंस का लेवल बढ़ा : WHO
जून में बढ़ जाती हैं ये स्किन प्रॉब्लम्स, करनी होगी एक्स्ट्रा स्किन केयर, जान लें त्वचा की देखभाल के तरीके
Next Article
जून में बढ़ जाती हैं ये स्किन प्रॉब्लम्स, करनी होगी एक्स्ट्रा स्किन केयर, जान लें त्वचा की देखभाल के तरीके
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;