Ram Navami 2020: "राम" नाम का जाप है अत्‍यंत मंगलकारी, ये है भगवान राम की आरती, श्री राम मंत्र और जाप

Sri Ram Aarti: राम नवमी (Ram Navami) के दिन भगवान राम की विधि-विधान से पूजा करने के बाद उनकी आरती उतारी जाती है.

Ram Navami 2020:

Sri Rama Navami: श्री राम का नाम अत्‍यंत मंगलकारी है

नई दिल्ली:

Sri Rama Navami: आज मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम का जन्‍मदिन है. मान्‍यता है कि चैत्र माह की शुक्‍ल पक्ष की नवमी तिथि को श्री हरि विष्‍णु के अवतार श्री राम ने मनुष्‍य रूप में जन्‍म लिया था. उनके जन्‍मोत्‍सव को दुनिया भर में राम नवमी (Ram Navami) के रूप में मनाया जाता है. हालांकि कोरोनावायरस (Coronavirus) के चलते लगाए गए लॉकडाउन  (Lockdown) की वजह से मंदिरों में सन्नाटा है और भगवान राम की जन्‍मस्‍थली अयोध्‍या में भी किसी तरह के अनुष्‍ठान का आयोजन नहीं किया गया है. इसके बावजूद लोग अपने-अपने घरों में पूजा-अर्चना कर श्री राम का जन्‍मोत्‍सव मना रहे हैं. इस दिन भगवान राम की विधिवत्त पूर्जा-अर्चना करने के बाद उन्‍हें पालने में झुलाया जाता है. उनकी आरती उतारी जाती है और खीर का भोग लगाया जाता है. इस दिन भक्‍त दिन भर अपने आराध्‍य भगवान राम के लिए व्रत रखते हैं और राम नाम का जाप करते हैं. मान्‍यत है कि राम नाम का जाप करने से सभी कष्‍टों का निवारण होता है. हिन्‍दू धर्म में राम नाम को अत्‍यंत कल्‍याणकारी और पुण्‍यकारी माना गया है. कहते हैं कि राम नवमी के दिन जो भी भक्‍त सच्‍चे मन और श्रद्धा भाव से राम का नाम लेता है उसके सभी पाप दूर हो जाते हैं और दुखों का अंत हो जाता है. यहां जानिए श्री राम की आरती, मंत्र और राम नाम का जाप:

श्री राम जी की आरती
श्री राम चंद्र कृपालु भजमन हरण भाव भय दारुणम्।
नवकंज लोचन कंज मुखकर, कंज पद कन्जारुणम्।।

कंदर्प अगणित अमित छवी नव नील नीरज सुन्दरम्।
पट्पीत मानहु तडित रूचि शुचि नौमी जनक सुतावरम्।।

भजु दीन बंधु दिनेश दानव दैत्य वंश निकंदनम्।
रघुनंद आनंद कंद कौशल चंद दशरथ नन्दनम्।।

सिर मुकुट कुण्डल तिलक चारु उदारू अंग विभूषणं।
आजानु भुज शर चाप धर संग्राम जित खर-धूषणं।।

इति वदति तुलसीदास शंकर शेष मुनि मन रंजनम्।
मम ह्रदय कुंज निवास कुरु कामादी खल दल गंजनम्।।

मनु जाहिं राचेऊ मिलिहि सो बरु सहज सुंदर सावरों।
करुना निधान सुजान सिलू सनेहू जानत रावरो।।

एही भांती गौरी असीस सुनी सिय सहित हिय हरषी अली।
तुलसी भवानी पूजि पूनी पूनी मुदित मन मंदिर चली।।

जानि गौरी अनुकूल सिय हिय हरषु न जाइ कहि।
मंजुल मंगल मूल वाम अंग फरकन लगे।।

श्री राम के मंत्र
ॐ राम ॐ राम ॐ राम ।
ह्रीं राम ह्रीं राम ।
श्रीं राम श्रीं राम ।
रामाय नमः ।
रां रामाय नमः

राम नाम का जाप
श्री राम जय राम जय जय राम ।

श्री रामचन्द्राय नमः ।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


राम रामेति रामेति रमे रामे मनोरमे।
सहस्त्र नाम तत्तुन्यं राम नाम वरानने।।