Navratri 2021: नवरात्रि में मां दुर्गा को खुश करने के लिए पढ़ें दुर्गा चालीसा

Happy Navratri 2021: नवरात्र पूजा में मां को खुश करने के लिए दुर्गा चालीसा का पाठ किया जाता है. इस पाठ को करने से घर में सुख संपन्‍नता और शांति का वास होता है. इस दौरान मां दुर्गा के सभी रूपों की पूजा की जाती है. नवरात्र के नौ दिन लोग व्रत रखते हैं और पूरे विधि-विधान से मां दुर्गा की पूजा करते हैं.

Navratri 2021: नवरात्रि में मां दुर्गा को खुश करने के लिए पढ़ें दुर्गा चालीसा

Navratri 2021: नौ दिनों तक करें दुर्गा चालीसा का पाठ

नई दिल्ली:

Shardiya Navratri 2021: मां दुर्गा को जल्‍द प्रसन्‍न करने और उनका आशीर्वाद सदैव अपने परिवार पर बनाएं रखने के लिए प्रत्‍येक मनुष्‍य को हर रोज या फिर विशेष तौर पर नवरात्र में दुर्गा चालीसा का पाठ करना चाहिए. मां की स्‍तुति के लिए शास्‍त्रों में भी चालीसा पाठ को सर्वोत्‍तम माना गया है. शारदीय नवरात्रि एक प्रमुख त्योहार है, जिसे पूरे भारत में उत्साह के साथ मनाया जाता है. नौ दिन तक चलने वाली नवरात्री में मां दुर्गा के अलग-अलग रूपों की पूजा कर भक्त माता को प्रसन्न करते हैं. कहते हैं मां दुर्गा भक्तों के दुख को दूर कर देती हैं. ऐसे में नवरात्री में भक्त दिनभर व्रत रखते हैं और शाम को उनकी आरती उतार उन्‍हें भोग लगाते हैं. नवरात्री में आरती के साथ-साथ दुर्गा चालीसा का भी पाठ करते हैं. मां दुर्गा की पूजा चालीसा के बिना अधूरी मानी जाती है. नवरात्री में दुर्गा चालीसा का पाठ करने से शत्रुओं से मुक्ति, इच्छा पूर्ति सहित अनेक मनोकामनाएं पूरी हो जाती है. शास्त्रों के अनुसार, नवरात्रि या किसी भी अन्य शुभ अवसर पर मां दुर्गा की स्तुति के लिए दुर्गा चालीसा का पाठ करना उत्तम माना गया है. वहीं व्रत करने वाले भक्त रोजाना दुर्गा चालीसा का पाठ करते हैं.

uted7slg

Navratri 2021 Date:  हर दिन पढ़ें दुर्गा चालीसा, जानें क्या हैं इसके फायदे

दुर्गा चालीसा का पाठ

नमो नमो दुर्गे सुख करनी। नमो नमो अंबे दुःख हरनी॥

निरंकार है ज्योति तुम्हारी। तिहूं लोक फैली उजियारी॥

शशि ललाट मुख महाविशाला। नेत्र लाल भृकुटि विकराला॥

रूप मातु को अधिक सुहावे। दरश करत जन अति सुख पावे॥

तुम संसार शक्ति लै कीना। पालन हेतु अन्न धन दीना॥

अन्नपूर्णा हुई जग पाला। तुम ही आदि सुन्दरी बाला॥

प्रलयकाल सब नाशन हारी। तुम गौरी शिवशंकर प्यारी॥

शिव योगी तुम्हरे गुण गावें। ब्रह्मा विष्णु तुम्हें नित ध्यावें॥

रूप सरस्वती को तुम धारा। दे सुबुद्धि ऋषि मुनिन उबारा॥

धरयो रूप नरसिंह को अम्बा। परगट भई फाड़कर खम्बा॥

रक्षा करि प्रह्लाद बचायो। हिरण्याक्ष को स्वर्ग पठायो॥

लक्ष्मी रूप धरो जग माहीं। श्री नारायण अंग समाहीं॥

क्षीरसिन्धु में करत विलासा। दयासिन्धु दीजै मन आसा॥

हिंगलाज में तुम्हीं भवानी। महिमा अमित न जात बखानी॥

मातंगी अरु धूमावति माता। भुवनेश्वरी बगला सुख दाता॥

hislrki

Navratri 2021 Date:  नौ दिनों तक करें दुर्गा चालीसा का पाठ, मां दुर्गा बरसाएंगी कृपा

श्री भैरव तारा जग तारिणी। छिन्न भाल भव दुःख निवारिणी॥

केहरि वाहन सोह भवानी। लांगुर वीर चलत अगवानी॥

कर में खप्पर खड्ग विराजै। जाको देख काल डर भाजै॥

सोहै अस्त्र और त्रिशूला। जाते उठत शत्रु हिय शूला॥

नगरकोट में तुम्हीं विराजत। तिहुँलोक में डंका बाजत॥

शुम्भ निशुम्भ दानव तुम मारे। रक्तन बीज शंखन संहारे॥

महिषासुर नृप अति अभिमानी। जेहि अघ भार मही अकुलानी॥

रूप कराल कालिका धारा। सेन सहित तुम तिहि संहारा॥

परी गाढ़ सन्तन पर जब जब। भई सहाय मातु तुम तब तब॥

आभा पुरी अरु बासव लोका। तब महिमा सब रहें अशोका॥

ज्वाला में है ज्योति तुम्हारी। तुम्हें सदा पूजें नर-नारी॥

प्रेम भक्ति से जो यश गावें। दुःख दारिद्र निकट नहिं आवें॥

ध्यावे तुम्हें जो नर मन लाई। जन्म-मरण ताकौ छुटि जाई॥

जोगी सुर मुनि कहत पुकारी। योग न हो बिन शक्ति तुम्हारी॥

शंकर आचारज तप कीनो। काम क्रोध जीति सब लीनो॥

निशिदिन ध्यान धरो शंकर को। काहु काल नहिं सुमिरो तुमको॥

शक्ति रूप का मरम न पायो। शक्ति गई तब मन पछितायो॥

शरणागत हुई कीर्ति बखानी। जय जय जय जगदम्ब भवानी॥

chvi6sc

Navratri 2021 Date:  हर दिन पढ़ें दुर्गा चालीसा, जानें क्या हैं इसके फायदे

भई प्रसन्न आदि जगदम्बा। दई शक्ति नहिं कीन विलम्बा॥

मोको मातु कष्ट अति घेरो। तुम बिन कौन हरै दुःख मेरो॥

आशा तृष्णा निपट सतावें। रिपु मुरख मोही डरपावे॥

शत्रु नाश कीजै महारानी। सुमिरौं इकचित तुम्हें भवानी॥

करो कृपा हे मातु दयाला। ऋद्धि-सिद्धि दै करहु निहाला।

जब लगि जियऊं दया फल पाऊं। तुम्हरो यश मैं सदा सुनाऊं॥

श्री दुर्गा चालीसा जो कोई गावै। सब सुख भोग परमपद पावै॥


देवीदास शरण निज जानी। करहु कृपा जगदम्ब भवानी॥

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


॥इति श्रीदुर्गा चालीसा सम्पूर्ण॥