विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jul 25, 2022

Nag Panchami 2022: नागपंचमी के दिन नाग देवता की पूजा कैसे करें, जानें पूजा की विधि और मंत्र

Nag Panchami 2022: सावन मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी को नागपंचमी मनाई जाती है. इस साल नाग पंचमी 02 अगस्त को मनाई जाएगी.

Read Time: 4 mins
Nag Panchami 2022: नागपंचमी के दिन नाग देवता की पूजा कैसे करें, जानें पूजा की विधि और मंत्र
Nag Panchami 2022: हिंदू धर्म में नाग देवता की पूजनीय माना गया है.

Nag Panchami 2022: नागपंचमी सावन मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाई जाती है. इस दिन नाग देवता क पूजा का विधान है. इस साल नाग पंचमी 02 अगस्त को मनाई जाएगी. धार्मिक मान्यतानुसार इस दिन नाग देवता को दूध अर्पित किया जाता है. माना जाता है कि इस दिन ऐसा करने से उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है. जिससे कालसर्प जैसे दोषों से भी मुक्ति मिलने की मान्यता है. इसलिए हिंदू धर्म में नाग को पूजनीय माना जाता है. कहा जाता है कि नाग देवता प्रत्येक देवी-देवता के विराट रूप में कहीं ना कहीं मौजूद हैं. भगवान शिव अपने गले में नाग का हार धारण किए हुए हैं. श्रीगणेश जी का जनेऊ के रूप में नाग को धारण किए हुए हैं. वहीं भगवान विष्णु नाग की शैय्या पर ही विश्राम करते हैं. इसके अलावा समुद्र मंथन के समय नाग देवता की भी अहम भूमिका थी. दरअसल नाग मान्यता है कि नाग देवता के फन पर ही धरती टिकी हुई है. आइए जानते हैं कि नागपंचमी (Nag Panchami) के दिन नाग देवता की पूजा किस प्रकार की जाती है. 

नाग देवता की पूजा कैसे करें | Nag Panchami Puja Vidhi

धार्मिक मान्यता है कि नागपंचमी (Nag Panchami) के दिन नाग देवता को दूध पिलाया जाता है. इस दिन नाग देवता को कैद से मुक्त करना भी नाग देवता की पूजा का एक अंग है. नाग पंचमी का दिन कालसर्प दोष के मुक्ति पाने के लिए खास होता है. मान्यता है कि इस दिन काल सर्प दोष से मुक्ति पाने के लिए चांदी के नाग-नागिन का जोड़ा बनवाकर बहते हुए जल में प्रवाहित कर देना अच्छा रहता है. इस दिन रुद्राभिषेक के वक्त नाग देवता की पूजा करना उत्तम माना गया है. इसके अलावा किसी मंदिर में चांदी के नाग-नागिन का जोड़ा रखकर उसकी पूजा की जाती है. मान्यता है कि इससे नाग देवता और भगवान शिव दोनों प्रसन्न होते हैं.

Budh Gochar: 1 अगस्त से शुरू होने वाले हैं इन राशियों के अच्छे दिन, बुध देव की रहेगी विशेष कृपा!

नाग पंचमी पूजा मंत्र | Nag Panchami Puja Mantra

सर्वे नागाः प्रीयन्तां मे ये केचित् पृथ्वीतले
ये च हेलिमरीचिस्था येऽन्तरे दिवि संस्थिताः
ये नदीषु महानागा ये सरस्वतिगामिनः
ये च वापीतडगेषु तेषु सर्वेषु वै नमः

अनन्तं वासुकिं शेषं पद्मनाभं च कम्बलम्
शङ्ख पालं धृतराष्ट्रं तक्षकं कालियं तथा
एतानि नव नामानि नागानां च महात्मनाम्
सायङ्काले पठेन्नित्यं प्रातःकाले विशेषतः
तस्य विषभयं नास्ति सर्वत्र विजयी भवेत्

नाग पंचमी पर दूर करें कुंडली का दोष 

जिनकी कुंडली में नाग नाराज हैं और जीवन में कई संकटों का सामना करना पड़ रहा है, वे लोग नाग पंचमी के दिन शिवलिंग का रुद्राभिषेक करें और चांदी का नाग-नागिन का जोड़ा अर्पित करें. इसके अलावा गंगा नदी में चांदी का नाग-नागिन का जोड़ा प्रवाहित करना भी बहुत अच्‍छा उपाय है. मान्यता है कि ऐसा करने नाग देवता प्रसन्न होता हैं.

Rashi Parivartan: अगस्त में सूर्य, बुध और शुक्र समेत मंगल करेंगे राशि परिवर्तन, इन 5 राशियों के शुरू होंगे शुभ समय

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

मॉनसून स्किन केयर टिप्स बता रही हैं ब्यूटी एक्सपर्ट भारती तनेजा​

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
क्या होता है सर्वार्थ सिद्धि योग, जानें गुरु पूर्णिमा पर इस खास योग का महत्व और पूजा विधि
Nag Panchami 2022: नागपंचमी के दिन नाग देवता की पूजा कैसे करें, जानें पूजा की विधि और मंत्र
जून में गुरु के उदय होने से जाग जाएगा कुछ राशियों का भाग्य, जानिए किन राशियों की बदलने वाली है किस्मत
Next Article
जून में गुरु के उदय होने से जाग जाएगा कुछ राशियों का भाग्य, जानिए किन राशियों की बदलने वाली है किस्मत
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;