विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Apr 06, 2023

Hanuman Jayanti 2023: आज है हनुमान जयंती, जानिए बजरंगबली की पूजा का शुभ मुहूर्त और विधि

Hanuman Jayanti Kab Hai: मान्यतानुसार हनुमान जयंती के दिन ही बजरंगबली का जन्म हुआ था. जानिए इस साल कब पड़ रही है हनुमान जयंती और कैसे करें पूजा संपन्न.  

Hanuman Jayanti 2023: आज है हनुमान जयंती, जानिए बजरंगबली की पूजा का शुभ मुहूर्त और विधि
Hanuman Jayanti 2023: हनुमान जयंती पर इस तरह किया जा सकता है बजरंगबली का पूजन. 

Hanuman Jayanti 2023: मान्यतानुसार अंजनी पुत्र हनुमान ने हनुमान जयंती के दिन ही जन्म लिया था, यही दिन था जब बजरंगबली (Bajrangbali) धरती पर आए थे. इस दिन की विशेष धार्मिक मान्यता है और हनुमान भक्तों के लिए यह दिन अत्यंत खास और महत्वपूर्ण होता है. हनुमान जयंती प्रतिवर्ष चैत्र माह की पूर्णिमा तिथि पर मनाई जाती है. वहीं, ऐसे भी कई स्थान हैं जहां इसे कार्तिक के अंधेरे पखवाड़े के चादहवें दिन मनाने की परंपरा है. जानिए इस वर्ष हनुमान जयंती किस दिन है और किस मुहूर्त में बजरंग बली की पूजा की जा सकती है. 

Pradosh Vrat 2023: इस दिन पड़ रहा है मार्च महीने का आखिरी प्रदोष व्रत, जानिए पूजा विधि और शुभ मुहूर्त 

कब है हनुमान जयंती | When Is Hanuman Jayanti 

इस वर्ष पंचांग के अनुसार आने वाले 6 अप्रेल, गुरुवार के दिन हनुमान जयंती मनाई जाएगी. इस बार पूर्णिमा तिथि का प्रारंभ 5 मार्च सुबह 9 बजकर 19 मिनट पर हो रहा है और समापन 6 अप्रैल की सुबह 10 बजकर 4 मिनट पर होगा. इसी बीच पूरे श्रद्धाभाव से बजरंगबली का पूजन किया जा सकता है. 

हनुमान जयंती से जुड़ी पौराणिक कथाओं के अनुसार अंजनी (Anjani) नामक अप्सरा ने श्राप के चलते धरती पर जन्म ले लिया था और यह श्राप उनके पुत्र के जन्म के पश्चात ही खत्म हो सकता था. बजरंगबली के पिता केसरी और माता अंजनी ने 12 वर्षों तक संतान की चाह रखी जिसके बाद भगवान शिव (Lord Shiva) की पूजा के बाद उनकी गोद भर सकी.

हनुमान जंयंती पर पूजा 

मान्यतानुसार हनुमान जयंती पर सुबह उठकर निवृत्त होने के पश्चात स्नान किया जाता है. भक्त अपने आराध्य बजरंगबली के साथ ही श्रीराम और माता सीता का स्मरण भी करते हैं. इसके बाद व्रत का संकल्प लिया जाता है. 

अब बजरंगबली की मूर्ति या प्रतिमा को लकड़ी की चौकी पर स्थापित करते हैं जिसपर पहले से ही पीले रंग का वस्त्र बिछा हुआ हो. बजरंगबली के समक्ष घी का दीया जलाया जाता है, जल छिड़कर कच्चा दूध, दही, घी और शहद मिलाकर बजरंगबली का अभिषेक करते हैं. भक्त पूजा में बजरंगबली को लाल या पीले रंग का कपड़ा, कलावा, फूल, धूप, अगरबत्ती और दीया आदि अर्पित करते हैं. इसके बाद हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) का पाठ कर भक्त पूजा संपन्न कर आशीर्वाद पाने की कामना करते हैं. 

हनुमान मंत्र 

ऊँ हनुमते नमः 

ॐ ऐं भ्रीम हनुमते, श्री राम दूताय नमः 

ॐ आंजनेयाय विद्मिहे वायुपुत्राय धीमहि तन्नो: हनुमान: प्रचोदयात 

ॐ रामदूताय विद्मिहे कपिराजाय धीमहि तन्नो: मारुति: प्रचोदयात 

ॐ अन्जनिसुताय विद्मिहे महाबलाय धीमहि तन्नो: मारुति: प्रचोदयात 

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
इस वर्ष सावन में बन रहे हैं दुर्लभ योग, जानिए दशकों बाद बने योग किन लोगों के लिए साबित होंगे शुभ
Hanuman Jayanti 2023: आज है हनुमान जयंती, जानिए बजरंगबली की पूजा का शुभ मुहूर्त और विधि
अखंड सौभाग्य के लिए किया जाता है वट सावित्री व्रत, जानिए वट वृक्ष की पूजा में क्या खाया जाता है
Next Article
अखंड सौभाग्य के लिए किया जाता है वट सावित्री व्रत, जानिए वट वृक्ष की पूजा में क्या खाया जाता है
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;