Dhanteras 2021: ये है धनतेरस की तिथि और शुभ मुहूर्त, कुबेर देव होंगे प्रसन्न जरूर करें ये काम

Dhanteras 2021 : मान्यता है दीपावली पर कुबेर देव की एक प्रतिमा अलमारी या उस स्थान पर जहां धन रखा हो वहां जरूर रखी जानी चाहिए. जिस तरह धनतेरस पर माता लक्ष्मी का पूजन होता है. उसी तरह कुबेर देव की भी पूजा की जाना चाहिए.

Dhanteras 2021: ये है धनतेरस की तिथि और शुभ मुहूर्त, कुबेर देव होंगे प्रसन्न जरूर करें ये काम

Dhanteras 2021 : दीपों से साज सज्जा के बाद घर में मां लक्ष्मी व कुबेर देव की पूजा होती है.

नई द‍िल्‍ली :

Dhanteras 2021 : दिवाली से पहले धनतेरस की तैयारियां जोरशोर से शुरू होती हैं. धन हर्ष और सुख, समृद्धि देने की मान्यता वाला ये पर्व इस साल 2 नवंबर 2021 को मनाया जाएगा. दीपोत्सव की शुरूआत भी धनतेरस से ही होती है. बरसों से ये मान्यता चली आ रही है कि जो भी धनतेरस पर पूरे विधि विधान से पूजा अर्चना करता है उसे धन और समृद्धि दोनों की प्राप्ति होती है. यही वजह है कि धन तेरस पर नई वस्तुओं को खरीद कर घर लाया जाता है. दीपों से साज सज्जा के बाद घर में मां लक्ष्मी व कुबेर देव की पूजा होती है.

7bibccvg

भगवान धनवंतरी का भी होता है पूजन

कई स्थानों पर धनवंतरि की पूजा की भी परंपरा है. माना जाता है कि भगवान धनवंतरि का जन्म धनतेरस पर ही हुआ था. भगवान धनवंतरी आयुर्वेद के जन्मदाता माने जाते हैं. उनके पूजन से अच्छे स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है, इसलिए धनतेरस पर भगवन धनवंतरी की भी पूजा की जाती है. खास बात ये है कि धनवंतरी पूजा में प्रसाद में धनिया की पंजीरी या धना और गुड़ चढ़ाया जाता है. मान्यता है कि इससे भगवान धनवंतरी श्रद्धालुओं को आरोग्य प्रदान करते हैं.

धनतेरस की तिथि एवं शुभ मुहूर्त

धनतेरस की तिथि इस वर्ष 02 नवंबर की है. दिन होगा मंगलवार. पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 06 बजकर 18 मिनट से 08 बजकर 11 मिनट का है.

kuber puja on dhanteras

कुबेर देव की पूजन विधि


कुबेर देव धन के देवता तो हैं ही ये भी माना जाता है कि वो भगवान शिव के द्वारपाल हैं. रावण से भी उनका गहरा नाता माना जाता है. वो रावण के सौतेले भाई माने जाते हैं. पुराणों में ये भी कहा गया है कि रावण ने कुबेर को अपने सिंहासन के नीचे रखा था ताकि लंका में कभी धन की कमी न हो. मान्यता है दीपावली पर कुबेर देव की एक प्रतिमा अलमारी या उस स्थान पर जहां धन रखा हो वहां जरूर रखी जानी चाहिए. जिस तरह धनतेरस पर माता लक्ष्मी का पूजन होता है. उसी तरह कुबेर देव की भी पूजा की जाना चाहिए.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ये भी मान्यता है कि कुबेर देव को प्रसन्न करने के लिए भगवान शिव के आगे दीपक जरूर लगाया जाना चाहिए. क्योंकि शिव की कृपा से ही कुबेर को धन के देवता का स्थान प्राप्त हुआ था.