अफ्रीकी देशों से कोविड के नए वेरिएंट के खतरे पर चर्चा के लिए बैठक करेंगे दिल्‍ली के CM केजरीवाल

अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘‘अफ्रीकी देशों से कोविड-19 के नए स्वरूप के खतरे के मद्देनजर, हमने विशेषज्ञों से सोमवार को डीडीएमए से चर्चा करने और यह सुझाव देने को कहा है कि हमें कौन से कदम उठाने चाहिए..’’

अफ्रीकी देशों से कोविड के नए वेरिएंट के खतरे पर चर्चा के लिए बैठक करेंगे दिल्‍ली के CM केजरीवाल

केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘हम आपकी और आपके परिवार की रक्षा के लिए आवश्यक सभी कदम उठाएंगे.’

नई दिल्‍ली :

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने शुक्रवार को कहा है कि उनकी सरकार ने अफ्रीकी देशों से कोविड-19 के नए स्वरूप के खतरे के मद्देनजर उठाए जाने वाले कदमों पर चर्चा के लिए दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA)की बैठक बुलाई है. केंद्र ने बृहस्पतिवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा था कि दक्षिण अफ्रीका, हांगकांग और बोत्सवाना से आने वाले या इन देशों के रास्ते आने वाले सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की कड़ी जांच की जाए. इन देशों में कोविड​​​​-19 के नए स्वरूप के सामने आने की सूचना है जिसके जनस्वास्थ्य पर गंभीर असर पड़ सकते हैं.

हर वह सुविधा जनता को मिलेगी, जो मंत्री सरकार से ले रहे : दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल 

केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘‘अफ्रीकी देशों से कोविड-19 के नए स्वरूप के खतरे के मद्देनजर, हमने विशेषज्ञों से सोमवार को डीडीएमए से चर्चा करने और यह सुझाव देने को कहा है कि हमें कौन से कदम उठाने चाहिए. हम आपकी और आपके परिवार की रक्षा के लिए आवश्यक सभी कदम उठाएंगे.''ऐसी आशंका है कि कोविड-19 के नए स्वरूप से बड़ी संख्या में उत्परिवर्तन हो सकता है जो पहले कभी नहीं देखा गया. दक्षिण अफ्रीका में प्राधिकारियों ने बृहस्पतिवार को इससे जुड़े 22 संक्रमित मरीजों की पुष्टि की.


इंपीरियल कॉलेज लंदन के विषाणु विज्ञानी डॉ टॉम पीकॉक ने इस सप्ताह की शुरुआत में अपने ट्विटर अकाउंट पर वायरस के नए स्वरूप (बी.1.1.529) का विवरण पोस्ट किया था. उसके बाद वैज्ञानिक इस स्वरूप पर गौर कर रहे हैं. हालांकि, ब्रिटेन में इसे चिंता पैदा करने वाले स्वरूप की श्रेणी में अभी औपचारिक रूप से वर्गीकृत नहीं किया गया है.दुनिया भर के वैज्ञानिक तेजी से फैलने के संकेतों के मद्देनजर नए स्वरूप पर अब गौर करेंगे. दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रीय सार्वजनिक स्वास्थ्य संस्थान- नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कम्युनिकेबल डिजीज (एनआईसीडी) ने पुष्टि की कि दक्षिण अफ्रीका में बी.1.1.529 का पता चला है और जीनोम अनुक्रमण के बाद बी.1.1.529 के 22 मामलों की पुष्टि हुई है.

कोविड टीके से अब तक दूरी बनाए रखने वाले लोगों तक पहुंच रहीं आशा कार्यकर्ता

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)