दिल्ली : DDU अस्पताल के डायरेक्टर ने BJP नेता के वीडियो का दिया जवाब, बताया 'सस्ती लोकप्रियता'

दिल्ली सरकार (Delhi Govt) के अस्पताल दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल (DDU Hospital) के मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर बीएल चौधरी ने एक बयान जारी किया है.

दिल्ली : DDU अस्पताल के डायरेक्टर ने BJP नेता के वीडियो का दिया जवाब, बताया 'सस्ती लोकप्रियता'

BJP नेता ने ट्विटर पर वीडियो शेयर किया था. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  • दिल्ली के DDU अस्पताल का मामला
  • बीजेपी नेता ने शेयर किया था वीडियो
  • डॉक्टर बीएल चौधरी ने जारी किया बयान
नई दिल्ली:

दिल्ली सरकार (Delhi Govt) के अस्पताल दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल (DDU Hospital) के मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर बीएल चौधरी ने एक बयान जारी किया है. उन्होंने कहा, 'जब हम डॉक्टर अपनी जान पर खेलकर, रातों की नींद गंवाकर इतनी मेहनत कर रहे हैं, तब हम स्वास्थ्यकर्मियों पर सनकी आरोप लगाकर हमारा मनोबल गिराया जा रहा है.' दरअसल डॉक्टर बीएल चौधरी ने यह बयान दिल्ली बीजेपी के नेता तजिंदर पाल सिंह बग्गा के ट्वीट किए गए एक वीडियो के जवाब में दिया गया है, जिसमें एक ऑक्सीजन टैंकर को दिखाकर यह दावा किया गया कि दिल्ली सरकार जान-बूझकर ऑक्सीजन बर्बाद कर रही है ताकि दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी को दिखाया जा सके.

तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने वीडियो ट्वीट करते हुए कहा, 'ये दिल्ली सरकार का DDU अस्पताल है. यहां सुबह से ऑक्सीजन को खोल के रख दिया जाता है ताकि ऑक्सीजन को बर्बाद किया जाए और दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी को दिखाया जा सके. जैसे ही हमारे मण्डल अध्यक्ष चेतन जी को इसकी जानकारी मिली, उन्होंने वहां जाके इसका वीडियो बनाया, समय 6.40 PM'

दिल्ली : चार अस्पतालों ने ऑक्सीजन की कमी को लेकर आपात संदेश भेजा

इस वीडियो पर DDU अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर बीएल चौधरी ने कहा कि यह वीडियो एक सामान्य प्रक्रिया को दिखाता है, जहां प्रेशर बनने पर कुछ गैस बाहर निकलती है. लिक्विड ऑक्सीजन वाले हर टैंकर में प्रेशर को रिलीज करने के लिए सेफ्टी वॉल्व लगे होते हैं, जैसे कि प्रेशर कुकर में होता है. जब भी टैंकर के अंदर और बाहर के वातावरण के बीच तापमान में अंतर बढ़ता है तो अंदर प्रेशर बढ़ता है और सेफ्टी वॉल्व ऑटोमेटिकली खुल जाते हैं, जिससे प्रेशर को रिलीज किया जा सके.

कोरोना महामारी : दिल्‍ली को एक दिन ही मिल पाई 700 मीट्रिक टन से अधिक ऑक्‍सीजन


उन्होंने आगे कहा कि जब भी टैंकर के अंदर प्रेशर कम हो जाता है, सेफ्टी वॉल्व ऑटोमेटिकली बंद हो जाते हैं. लिक्विड ऑक्सीजन वाले हर टैंकर में यह सेफ्टी मेकैनिज्म लगा होता है, जिससे टैंकर को फटने से बचाया जा सके. डॉक्टर चौधरी ने कहा यह बहुत मुश्किल समय है और इस समय में सस्ती लोकप्रियता के लिए ऐसी चीजें नहीं की जानी चाहिए. अस्पताल ऑक्सीजन का अच्छी तरह इस्तेमाल कर रहा है ताकि हर मरीज को उचित इलाज मिल सके.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: दिल्ली के बत्रा अस्पताल में ऑक्सीजन न मिलने से डॉक्टर समेत आठ मरीजों की मौत