कुछ ऐसे सौरव गांगुली ने की मिताली राज के साथ अपनी तुलना

उन्होंने कहा कि आपको हमेशा यह याद रखना चाहिए कि आप सर्वश्रेष्ठ हो क्योंकि आपने कुछ अच्छा किया है और मौका फिर से आएगा. इसलिए मिताली राज को बाहर बैठने के लिये कहने पर मुझे निराशा नहीं हुई

कुछ ऐसे सौरव गांगुली ने की मिताली राज के साथ अपनी तुलना

सौरव गांगुली की फाइल फोटो

खास बातें

  • मिताली राज को ड्रॉप करने पर पूर्व कप्तान की प्रतिक्रिया
  • मुझे भी डगआउट में बैठना पड़ा था-सौरव
  • निराशा है कि भारत सेमीफाइनल में हार गया
कोलकाता:

पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली महिला क्रिकेट टीम की सबसे सीनियर खिलाड़ी मिताली राज को इंग्लैंड के खिलाफ विश्व टी20 के सेमीफाइनल में बाहर किए जाने से हैरान नहीं है और उन्होंने कहा कि जब वह अपने करियर के चरम पर थे तब उन्हें भी इसी तरह से बाहर किया गया था. वनडे टीम की कप्तान मिताली ने पाकिस्तान और आयरलैंड के खिलाफ अर्धशतक जमाए, लेकिन उन्हें ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अंतिम लीग मैच से विश्राम दिया गया और इसके बाद इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में भी उन्हें अंतिम एकादश में नहीं रखा गया, जिसमें भारत को आठ विकेट से करारी हार झेलनी पड़ी.

गांगुली ने कहा कि भारत की कप्तानी करने के बाद मुझे भी डगआउट में बैठना पड़ा था. जब मैंने देखा कि मिताली राज को भी बाहर किया गया है तो मैंने कहा कि इस ग्रुप में आपका स्वागत है. इस 46 वर्षीय खिलाड़ी ने पाकिस्तान के खिलाफ 2006 में खेले गये दूसरे टेस्ट मैच को याद करते हुए कहा कि कप्तान आपको बाहर बैठने के लिए कहते हैं तो वैसा करो. मैंने फैसलाबाद में ऐसा किया था. मैं 15 महीने तक वनडे नहीं खेला जबकि मैं संभवत: वनडे में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रहा था. जिंदगी में ऐसा होता है. कभी कभी दुनिया में आपको बाहर का रास्ता भी दिखाया जाता है. गांगुली ने हालांकि कहा कि मिताली के लिए रास्ते अभी बंद नहीं हुए हैं. 

यह भी पढ़ें:  AUS vs IND, 3rd T20I: आतिशी शुरुआत को विराट कोहली ने जीत में बदला, सीरीज बराबर

उन्होंने कहा कि आपको हमेशा यह याद रखना चाहिए कि आप सर्वश्रेष्ठ हो क्योंकि आपने कुछ अच्छा किया है और मौका फिर से आएगा. इसलिए मिताली राज को बाहर बैठने के लिये कहने पर मुझे निराशा नहीं हुई. मैं मैदान पर प्रतिक्रियाओं को देखकर निराश नहीं हूं, लेकिन मुझे निराशा है कि भारत सेमीफाइनल में हार गया क्योंकि मुझे लगता है कि वह आगे बढ़ सकता था. ऐसा होता है कि क्योंकि कहा भी जाता है कि जिंदगी में कोई गारंटी नहीं है. 

VIDEO: जानिए की धोनी के टी-20 से ड्रॉप किए जाने पर क्या कहा क्रिकेट विशेषज्ञों ने


पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के बारे में गांगुली ने कहा कि वह अब भी बड़े छक्के लगाने में सक्षम हैं और उन्हें टीम में बने रहना चाहिए. उन्होंने कहा कि वह एक और चैंपियन हैं. विश्व टी20 में जीत के बाद पिछले 12-13 वर्षों से उनका शानदार करियर रहा. जिंदगी में आप जो भी काम कर रहे हो, जहां भी हो, आप की जो भी उम्र है या आपके पास जितना भी अनुभव है आपको शीर्ष स्तर पर लगातार अच्छा प्रदर्शन जारी रखना होगा अन्यथा कोई आपका स्थान ले लेगा. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com