केजरीवाल सरकार दिल्ली में 6836 आईसीयू बेड वाले सात नए अस्पताल बनाएगी, मंत्रिमंडल की मंजूरी

अरविंद केजरीवाल की अध्यक्षता में हुई दिल्ली सरकार का कैबिनेट बैठक, सात नए अस्पतालों का निर्माण छह माह के भीतर पूरा किया जाएगा

केजरीवाल सरकार दिल्ली में 6836 आईसीयू बेड वाले सात नए अस्पताल बनाएगी, मंत्रिमंडल की मंजूरी

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया.

नई दिल्ली:

दिल्ली में केजरीवाल सरकार की तरफ से छह महीने में सात नए अस्पताल बनाए जाएंगे. इन अस्पतालों में 6836 आईसीयू बेड होंगे. इसके बाद दिल्ली में आईसीयू बेड की क्षमता बढ़कर 17 हजार पर पहुंच जाएगी. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में इसे मंजूरी दे दी गई है. सरिता विहार, शालीमार बाग, सुल्तानपुरी, किराड़ी, रघुबीर नगर, जीटीबी अस्पताल और चाचा नेहरू बाल चिकित्सालय में अस्पताल बनाए जाएंगे. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में लगभग 10 हजार आईसीयू बेड हैं. नए 6800 बेड बढ़ाए जाने के बाद आईसीयू बेड की क्षमता में लगभग 70 फीसदी का इजाफा होगा. यदि कोरोना की लहर आती है तो उस समय लोगों को इलाज में मदद मिलेगी. यदि कोरोना की लहर नहीं आती है तो दिल्ली के लोगों के लिए स्थाई तौर पर 7000 नए बेड तैयार हो जाएंगे. 

स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि केजरीवाल सरकार की तरफ से सात नए अस्पतालों में 1216.72 करोड़ की लागत से 6836 नए बेड बनाए जाएंगे. दिल्ली में सात नए अस्पतालों का निर्माण छह माह के भीतर पूरा किया जाएगा. दिल्ली में 1216 करोड़ रुपये की लागत से 6836 आईसीयू बेड बनाए जाएंगे. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल ने इस परियोजना को मंजूरी दे दी गई है. 

नए अस्पताल दिल्ली के स्वास्थ्य ढांचे को महामारी के खिलाफ लड़ाई के लिए मजबूत बनाएंगे. केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में अगले छह महीने में करीब 7000 नए बेड जोड़े जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि सरकारी अस्पतालों के स्वास्थ्य ढांचे में बड़ा इजाफा होने जा रहा है. दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में लगभग 10 हजार बेड हैं. अब 6800 से अधिक बेड बढ़ाए जा रहे हैं. इससे दिल्ली के स्वास्थ्य ढांचे में 70 प्रतिशत बेड का इजाफा होगा. 


मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अस्पतालों का जल्द निर्माण करने के लिए बहुमंजिला अस्पतालों के भवनों को खोखले 'माइल्ड स्टील' चौकोर या आयताकार ट्यूब स्टील संरचनाओं के रूप में बनाया जाएगा. इन संरचनाओं में कंक्रीट सीमेंट राफ्ट या पृथक नींव होगी, जो इमारत को मजबूती प्रदान करेगी. अस्पतालों का निर्माण पीडब्ल्यूडी द्वारा किया जाएगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


जीटीबी अस्पताल कैंपस में होंगे सबसे ज्यादा आईसीयू बेड
केजरीवाल सरकार की तरफ से शालीमार बाग में 7.95 एकड़ में अस्पताल बनाया जाएगा. यहां 1430 आईसीयू बेड़ का अस्पताल बनाया जाएगा. यहां फिलहाल तीन फ्लोर बनाए जाएंगे और जरूरत पड़ने पर ऊपर दो फ्लोर बनाए जा सकेंगे. किराड़ी में 2.71 एकड़ में 458 आईसीयू बेड़ का अस्पताल बनाया जाएगा. जीटीबी अस्पताल कैंपस में 6.02 एकड़ में 1912 आईसीयू बेड का अस्पताल तैयार होगा. रघुवीर नगर में 9 एकड़ में 1565 आईसीयू बेड़ का अस्पताल बनेगा. इसी तरह सीएनबीसी में 2.32 एकड़ में 610 आईसीयू बेड का अस्पताल बनाया जाएगा. सुल्तानपुरी में 10 हजार वर्ग मीटर में 525 आईसीयू बेड का अस्पताल बनेगा. इन अस्पतालों में इमरजेंसी, ओपीडी, वार्ड सहित सभी सुविधाएं होंगी. इसके अलावा पीएसए और ऑक्सीजन टैंक का भी इंतजाम किया जाएगा.