Navratri 2021: देवी दुर्गा को पहनाई गई लाखों की Golden Saree, स्थापित की गईं सोने की आंखें, तस्वीरें देख नहीं हटेंगी नजरें

इस वर्ष बागुईआटी में बंधु महल क्लब द्वारा एक पंडाल में दुर्गा की दो मूर्तियों का अनावरण किया गया है, जिसमें एक मूर्ति को सोने की आंखों से स्थापित किया गया है और दूसरी मूर्ति को सोने की कढ़ाई वाली साड़ी पहनाई गई है.

Navratri 2021: देवी दुर्गा को पहनाई गई लाखों की Golden Saree, स्थापित की गईं सोने की आंखें, तस्वीरें देख नहीं हटेंगी नजरें

Navratri 2021: देवी दुर्गा को पहनाई गई लाखों की Golden Saree, स्थापित की गईं सोने की आंखें

कोलकाता:

Navratri 2021: आज से शारदीय नवरात्र शुरु हो गए हैं. देशभर में मां दुर्गा के मंदिरों में भक्तों की भीड़ लग रही है. जैसे-जैसे दुर्गा पूजा उत्सव (Durga Puja festival) नजदीक आ रहा है, कोलकाता ने पंडालों और दुर्गा की मूर्तियों (Durga idols) को सजाने की तैयारी भी शुरू कर दी है. हर साल, कोलकाता के लोग नए विषयों पर विचार-मंथन करते हैं, जो अपने तरीके से अद्वितीय और अभिनव होते हैं. पंडालों से लेकर दुर्गा प्रतिमाओं तक, यह त्योहार यहां भक्तों के लिए एक खुशी का मौका है.

इस वर्ष बागुईआटी में बंधु महल क्लब द्वारा एक पंडाल में दुर्गा की दो मूर्तियों का अनावरण किया गया है, जिसमें एक मूर्ति को सोने की आंखों से स्थापित किया गया है और दूसरी मूर्ति को सोने की कढ़ाई वाली साड़ी पहनाई गई है.

बागुईआटी में बंधु महल क्लब के एक आयोजक कार्तिक घोष ने कहा, "साड़ी में लगभग 6 ग्राम सोना है और दुर्गा की मूर्ति की आंखों में 10-11 ग्राम सोना लगा है. इस पंडाल को स्थापित करने में 1.5 लाख रुपये खर्च हुए हैं और कुल 10 लाख रुपये खर्च किए गए हैं."

देखें Photos:

त्योहार से कुछ दिन पहले, राज्य सरकार ने चल रही COVID-19 महामारी के मद्देनजर दुर्गा पूजा समारोह के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं. दिशा-निर्देशों के अनुसार, पंडाल विशाल और सभी तरफ से खुले होने चाहिए, जिसमें अलग-अलग प्रवेश-निकास बिंदु हों. पंडालों को मौजूदा COVID-19 महामारी मानदंडों के संदर्भ में शारीरिक दूरी सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त स्थान और व्यवस्था करनी चाहिए.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस बार नवरात्रि का त्यौहार 7 अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक मनाया जाएगा. इस साल अष्टमी 13 अक्टूबर को है जबकि दशमी 15 अक्टूबर को है.