मुंबई में वैक्सीन सेंटर पर टूट पड़े लोग, भीड़ देख हर्ष गोयनका बोले- 'वैक्सीन से पहले कोरोना जरूर होगा...' - देखें Video

CoWIN पोर्टल में कुछ तकनीकी खराबी (Technical Glitch In CoWIN Portal) के कारण बीकेसी टीकाकरण केंद्र (BKC Vaccination Centre) पर भारी भीड़ जमा हो गई. भीड़ के कई वीडियो सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल (Viral Video) हो रहे हैं.

मुंबई में वैक्सीन सेंटर पर टूट पड़े लोग, भीड़ देख हर्ष गोयनका बोले- 'वैक्सीन से पहले कोरोना जरूर होगा...' - देखें Video

मुंबई में वैक्सीन सेंटर पर टूट पड़े लोग, हर्ष गोयनका बोले- 'वैक्सीन से पहले कोरोना जरूर होगा...' - देखें Video

वरिष्ठ नागरिकों के लिए कोविद -19 टीकाकरण अभियान के तीसरे चरण के दूसरे दिन मुंबई (Mumbai) के प्रमुख टीकाकरण केंद्रों में से एक बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स (BKC Vaccination Centre) भारी भीड़ देखी गई. कोरोना से बचने के लिए वैक्सीन लगवाने के लिए भीड़ पहुंच गई. जिससे काफी हंगामा हुआ. बीएमसी के अधिकारियों के अनुसार, CoWIN पोर्टल में कुछ तकनीकी खराबी (Technical Glitch In CoWIN Portal) के कारण बीकेसी टीकाकरण केंद्र (BKC Vaccination Centre) पर भारी भीड़ जमा हो गई. भीड़ के कई वीडियो सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल (Viral Video) हो रहे हैं. बिजनेसमैन हर्ष गोयनका (Harsh Goenka) ने भी ऐसा ही एक वीडियो शेयर किया है और अपना रिएक्शन दिया है.

वीडियो में देखा जा सकता है कि वैक्सीन सेंटर बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स के अंदर काफी भीड़ है. लोग दूरी बनाने के बजाय, नजदीक खड़े नजर आ रहे हैं. वीडियो में अधिकतर बुजुर्ग नजर आ रहे हैं. इस वीडियो को देखकर हर्ष गोयनका गुस्सा गए. उन्होंने वीडियो शेयर करते हुए रिएक्शन दिया.

उन्होंने लिखा, 'बीकेसी कोविद टीकाकरण केंद्र से आज के दृश्य. टीका लगवाने से पहले कोरोना को पाने का निश्चित तरीका.'

देखें Video:


हालांकि, स्थिति को जल्द ही नियंत्रण में लाया गया, बीकेसी टीकाकरण केंद्र के डीन राजेश डेरे ने कहा, “CoWIN पोर्टल में कुछ तकनीकी गड़बड़ थी, जिसके कारण बीकेसी टीकाकरण केंद्र पर भीड़ थी. लेकिन गड़बड़ को 11.20 बजे तक सुलझा लिया गया था, और भीड़ अब नियंत्रण में है. मैं नागरिकों से घबराने और सभी कोविद -19 उपयुक्त मानदंडों का पालन करने का अनुरोध करता हूं.”

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सोमवार को मुंबई के आठ टीकाकरण केंद्रों पर 1,981 लाभार्थियों को टीका लगाया गया था. आठ केंद्रों में से पांच बीएमसी संचालित थे, जबकि तीन निजी अस्पताल हैं.