सऊदी अरब के राजकुमार ने ही पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या की मंजूरी दी थी: अमेरिकी रिपोर्ट

अमेरिकी पत्रकार खशोगी प्रिंस मोहम्मद के एक आलोचक थे जो वाशिंगटन पोस्ट के लिए लिखते थे. उन्हें अक्टूबर 2018 में इस्तांबुल में सऊदी वाणिज्य दूतावास में लालच देकर बुलाया गया था, फिर उनकी हत्या कर लाश को टुकड़ों में काट दिया गया था.

सऊदी अरब के राजकुमार ने ही पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या की मंजूरी दी थी: अमेरिकी रिपोर्ट

अमेरिका ने सऊदी अरब के राजकुमार प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान पर असंतुष्ट पत्रकार जमाल खशोगी की भीषण हत्या को मंजूरी देने का आरोप लगाया है.

वाशिंगटन:

संयुक्त राज्य अमेरिका (United States of America) ने शुक्रवार (26 फरवरी) को पहली बार सार्वजनिक रूप से सऊदी अरब के राजकुमार प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (Saudi Crown Prince Mohammed bin Salman) पर असंतुष्ट पत्रकार जमाल खशोगी (Jamal Khashoggi) की भीषण हत्या को मंजूरी देने का आरोप लगाया है. अमेरिकी रिपोर्ट में पत्रकार को दिए गए दंड के बारे में खुलासा किया है. हालांकि सीधे तौर पर प्रिंस को टारगेट नहीं किया गया है.

जो बाइडेन प्रशासन द्वारा नवगठित एक इंटेलिजेंस टीम की रिपोर्ट में कहा गया है, सऊदी राजकुमार, जो लंबे समय तक अमेरिकी सहयोगी और तेल प्रदाता देश के वास्तविक शासक हैं, ने सऊदी पत्रकार जमाल खशोगी को पकड़ने या मारने के लिए इस्तांबुल (तुर्की) में एक ऑपरेशन को मंजूरी दी थी."

भारत-पाकिस्तान के संघर्षविराम के फैसले का अमेरिका ने किया स्वागत, कहा- शांति की दिशा में सकारात्मक कदम

अमेरिकी अधिकारियों की रिपोर्ट ने कहा गया है कि प्रिंस मोहम्मद के प्रभाव को देखते हुए, यह इस बात की संभावना नहीं थी कि 2018 में की गई हत्या उनकी मंजूरी के बिना हो सकती था.  रिपोर्ट में कहा गया है, यह हत्या "विदेश में मौन असंतुष्टों के लिए हिंसक उपायों का उपयोग करने के लिए राजकुमार के समर्थन के एक पैटर्न" पर भी फिट बैठती है.


अमेजन CEO जेफ बेजोस के मोबाइल फोन को सऊदी क्राउन प्रिंस ने किया था हैक, जानें पूरा मामला

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


हालांकि सऊदी युवराज इस बात से इनकार करते रहे हैं कि उन्होंने जमाल खशोगी की हत्या के आदेश दिए थे. बता दें कि अमेरिकी पत्रकार खशोगी प्रिंस मोहम्मद के एक आलोचक थे जो वाशिंगटन पोस्ट के लिए लिखते थे. उन्हें अक्टूबर 2018 में इस्तांबुल में सऊदी वाणिज्य दूतावास में लालच देकर बुलाया गया था, फिर उनकी हत्या कर लाश को टुकड़ों में काट दिया गया था.