"पुतिन और अकेले पड़े" : PM Modi की Ukraine के राष्ट्रपति Zelensky से बातचीत के बाद US

Ukraine War: "आप देखें कि पुतिन अंतरराष्ट्रीय समुदाय में और अलग-थलग पड़ रहे हैं. अंतरराष्ट्रीय समुदाय देश के तौर पर यह स्पष्ट कर रहे हैं कि पुतिन के फैसले के साथ बहुत लोगों की सांत्वना नहीं है." - White House

Russia Ukraine War: प्रधानमंत्री मोदी यूक्रेन के राष्ट्रपति ज़ेलेंस्की से कहा कि शांति में मदद को तैयार भारत (File Photo)

प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) की, यूक्रेन (Ukraine) के राष्ट्रपति वोलोदिमिर ज़ेलेंस्की (Volodymyr Zelensky)  से फोन पर बातचीत के बाद अमेरिका (US) ने कहा कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन (Vladimir Putin) अंतरराष्ट्रीय समुदाय में और भी अलग-थलग पड़ गए हैं. अमेरिकी प्रेस सेक्रेट्री करीन जीन पियरे ने अपनी रोजाना की प्रेस कॉन्फ्रेंस में मंगलवार को कहा, "हम दुनिया देशों से कह रहे हैं कि हम रूस के यूक्रेन में युद्ध (Russia Ukraine War) को लेकर बहुत स्पष्ट हैं, हम हम सार्वजनिक तौर से बोलना जारी रखेंगे और कूटनीतिक तौर पर भी प्रयास जारी रखेंगे. प्रधानमंत्री मोदी की तरफ से भी यही देखने को मिला है." एक सवाल का जवाब देते हुए प्रेस सेक्रेट्री ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि उन्हें राष्ट्रपति बाइडन या प्रधानमंत्री मोदी की किसी बात का कोई अन्य अर्थ निकालने की ज़रूरत है.  

आगे उन्होंने कहा, "लेकिन उनकी सार्वजनिक टिप्पणियां सीधे तौर पर पुतिन को लेकर बहुत साफ हैं. अब युद्ध का समय नहीं है. और अब यह ऐसा समय नहीं है कि हम यह ना समझ सकें कि उन्होंने पुतिन से उनके यूक्रेन में जारी युद्ध को लेकर बात की." 

जीन पियरे ने कहा, "आप देखें कि पुतिन अंतरराष्ट्रीय समुदाय में और अलग-थलग पड़ रहे हैं. अंतरराष्ट्रीय समुदाय देश के तौर पर यह स्पष्ट कर रहे हैं कि पुतिन के फैसले के साथ बहुत लोगों की सांत्वना नहीं है." 

आगे उन्होंने कहा, "जब बात संभावित परमाणु खतरे की आती है तो हम इसे लेकर बहुत साफ हैं. हम यहां परमाणु हथियारों को बहुत गंभीरता से लेते हैं. " 

वह कहती हैं, "अपने रणनीति परमाणु नीति को लेकर हमें कोई बदलाव करने की ज़रूरत नहीं है, ना ही हमारे पास ऐसा कोई संकेत हैं कि रूस तुरंत परमाणु हथियारों के प्रयोग की तैयारी कर रहा है."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

       

अमेरिकी प्रेस सेक्रेट्री करीन जीन पियरे ने आगे कहा कि यूक्रेन अपनी संप्रभुता के लिए लड़ रहा है. और जब आप किसी देश के लोकतंत्र, स्वतंत्रता की बात करते हैं तो यह ज़रूरी है कि आप यूक्रेन के लोगों के साथ खड़े रहें."