कोरोना महामारी के बीच अच्‍छी खबर, रूस में अगले माह से शुरू हो सकता है वैक्‍सीन का निर्माण

उद्योग मंत्री डेनिस मंटुरोव ने एक न्‍यूज एजेंसी TASSको दिए इंटरव्‍यू में कहा, "हम सितंबर से बड़े पैमाने पर वैक्‍सीन का उत्पादन शुरू करने की उम्‍मीद लगाए हुए हैं,"

कोरोना महामारी के बीच अच्‍छी खबर, रूस में अगले माह से शुरू हो सकता है वैक्‍सीन का निर्माण

रूस में कोरोना वायरस वैक्‍सीन के मामले में काम काफी तेजी से आगे बढ़ रहा है (प्रतीकात्‍मक फोटो)

खास बातें

  • कई वैक्‍सीन पर रूस में तेजी से काम चल रहा है
  • Gamaleya institute में ट्रायल एडवांस स्‍टेज तक पहुंचा
  • 10 दिनों के भीतर हो सकता है वैक्‍सीन का रजिस्‍ट्रेशन
मॉस्‍को:

COVID-19 Pandemic: ऐसे समय जब पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के केसों की संख्‍या तेजी से बढ़ती जा रही है, रूस (Russia)ने कहा है कि उसका लक्ष्य अगले महीने से कोरोना वायरस वैक्सीन (Coronavirus Vaccine)का बड़े पैमाने पर उत्पादन शुरू करना और अगले साल प्रति माह "कई मिलियन" डोज (Several million dose) तैयार करना है. अधिकारियों ने कहा कि देश कई वैक्सीन ट्रायल तेजी से आगे बढ़ रहे हैं और मॉस्को में गेमालेया संस्थान का ट्रायल एडवांस स्‍टेज तक पहुंच गया है. इसके बहुत जल्‍द ही राज्‍य रजिस्‍ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी करने की उम्‍मीद है.

कोरोना वायरस वैक्‍सीन पर ह्यूमन ट्रायल शुरू, तीन माह में मिल सकता है रिजल्‍ट: AIIMS प्रमुख

उद्योग मंत्री डेनिस मंटुरोव ने एक न्‍यूज एजेंसी TASSको दिए इंटरव्‍यू में कहा, "हम सितंबर से बड़े पैमाने पर वैक्‍सीन का उत्पादन शुरू करने की उम्‍मीद लगाए हुए हैं," उन्होंने कहा, "हम अगले साल की शुरुआत तक बड़े पैमाने पर वैक्‍सीन का तैयार करने में में सक्षम होंगे. अगले साल की शुरुआत तक हम इसमें कई मिलियन की वृद्धि करने की स्थिति में होंगे.''रूसी डायरेक्‍ट इनवेस्‍टमेंट फंड (RDIF) इस कोराना वैक्‍सीन ट्रायल के लिए फाइनेंस कर रहा है. इसके प्रमख ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि वैक्सीन का आधिकारिक पंजीकरण "दस दिनों के भीतर" पूरा हो जाएगा।

RDIF के प्रमुख किरिल दिमित्रिग ने टीवी पर बयान देते हुए कहा, "अगर अगले दस दिनों में ऐसा होता है, तो हम न केवल संयुक्त राज्य अमेरिका (USA) बल्कि अन्य देशों से भी आगे होंगे. यह पहला पंजीकृत कोरोना वायरस वैक्सीन होगा." स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने शनिवार को कहा कि साइबेरिया स्थित वेक्टोर लैब द्वारा विकसित एक और वैक्सीन, वर्तमान में क्‍लीनिकल ट्रायल परीक्षण के अधीन है इसके दो और मानव परीक्षण अगले दो माह में शुरू होंगे.


भारत में 186 दिन में 18 लाख से ज्यादा कोरोना केस

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)