अलर्ट! प्रदूषण के कारण 2019 में दुनियाभर में लगभग 90 लाख लोगों की गई जान

लैंसेट प्लैनेटरी हेल्थ में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, 2019 में वायु प्रदूषण के कारण लगभग 4.5 मिलियन मौतें हुईं, जबकि 2015 में यह 4.2 मिलियन और 2000 में सिर्फ 2.9 मिलियन थी.

अलर्ट! प्रदूषण के कारण 2019 में दुनियाभर में लगभग 90 लाख लोगों की गई जान

प्रदूषण के कारण 2019 में दुनिया भर में 90 लाख लोगों की मौत हुई है.

पेरिस:

प्रदूषण (Pollution) के कारण साल 2019 में दुनियाभर में लगभग 90 लाख लोगों की समय से पहले मौत हो गई. बुधवार को प्रकाशित एक नई वैश्विक रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है. विशेषज्ञों ने इस जहरीली हवा में सांस लेने से होने वाली मौतों और उनकी भयावहता पर चिंता जताई है.

कहा गया है कि मानव निर्मित कचरा हवा, पानी और मिट्टी में जाने के बाद लोगों को तुरंत नहीं मारता, लेकिन हृदय रोग, कैंसर, सांस की समस्या, दस्त और अन्य घातक गंभीर बीमारियों का कारण बनता है.

लैंसेट आयोग ने प्रदूषण और स्वास्थ्य को लेकर कहा है कि वैश्विक स्वास्थ्य पर प्रदूषण का प्रभाव "युद्ध, आतंकवाद, मलेरिया, एचआईवी, तपेदिक, ड्रग्स और शराब की तुलना में बहुत अधिक है. प्रदूषण मानव स्वास्थ्य के  अस्तित्व के लिए खतरा है."

1500 लो-फ्लोर इलेक्ट्रिक बसें दिल्ली में लोगों को कराएगी सैर! प्रदूषण मुक्त होगी दिल्ली

समीक्षा में पाया गया कि 2019 में सामान्य तौर पर वायु प्रदूषण से वैश्विक स्तर पर कुल 6.7 मिलियन मौतें जलवायु परिवर्तन से जुड़ी हुई थी, क्योंकि दोनों समस्याओं का मुख्य कारण जीवाश्म ईंधन और जैव ईंधन को जलाना है.

ग्लोबल एलायंस ऑन हेल्थ एंड पॉल्यूशन की रिपोर्ट के प्रमुख लेखक रिचर्ड फुलर ने कहा, "अगर हम स्वच्छ और हरे रंग में बढ़ने का प्रबंधन नहीं कर सकते हैं, तो हम कुछ बहुत गलत कर रहे हैं." रासायनिक प्रदूषण जैव विविधता को भी नुकसान पहुंचाता है, जो एक और बड़ा वैश्विक खतरा है. उन्होंने कहा कि ये चीजें बहुत जुड़ी हुई हैं और किसी से निपटने की रणनीतियों का हर तरह से प्रभाव पड़ता है,

अब गाड़ियों के हॉर्न से होने वाले शोर पर नजर, लाउडस्पीकर विवाद के बीच मुंबई पुलिस ने कंपनियों से की यह अपील

कुल मिलाकर, वैश्विक स्तर पर समय से पहले होने वाली छह मौतों में से एक मौत प्रदूषण के कारण हुई, जो 2015 के पिछले आंकलन में कोई सुधार नहीं है. शोधकर्ताओं ने पाया कि अफ्रीका में बड़े सुधारों के साथ, इनडोर वायु प्रदूषण, प्रदूषित पेयजल और अपर्याप्त सफाई से जुड़ी मृत्यु दर में कमी आई है. लेकिन खासकर दक्षिणी और पूर्वी एशिया में औद्योगीकरण से जुड़े बाहरी वायु और रासायनिक प्रदूषण बढ़ रहे हैं.

लैंसेट प्लैनेटरी हेल्थ में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, 2019 में वायु प्रदूषण के कारण लगभग 4.5 मिलियन मौतें हुईं, जबकि 2015 में यह 4.2 मिलियन और 2000 में सिर्फ 2.9 मिलियन थी. वहीं रासायनिक प्रदूषण भी काफी बढ़ रहा है, रिपोर्ट में कई चेतावनी दी गई है.

अल्जीरिया ने 2021 में पेट्रोल में लेड पर प्रतिबंध लगा दिया. ऐसा करने वाला वह आखिरी देश है. लेकिन मुख्य रूप से लेड-एसिड बैटरी और ई-कचरे के अनियंत्रित पुनर्चक्रण के कारण लोग जहरीले पदार्थ के संपर्क में रहते हैं. ज्यादातर गरीब देशों में ऐसी मौतों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है.

Heart Healthy Diet: हेल्दी हार्ट के लिए फल, नट्स और दही जैसी इन 7 चीजों का रोज करें सेवन

रिचर्ड फुलर ने कहा कि सीसा के संपर्क में आने से लगभग सभी शुरुआती मौतों का कारण हृदय रोग है, जो धमनियों को सख्त कर देता है. लेकिन खून में लेड के ऊंचे स्तर से लाखों बच्चों को प्रभावित करने का अनुमान है. ये मस्तिष्क के विकास को भी नुकसान पहुंचाता है और संज्ञानात्मक काम के गंभीर नुकसान से जुड़ा होता है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि सीसा व्यवहार संबंधी विकारों और घटती आर्थिक उत्पादकता में वृद्धि से भी जुड़ा हुआ है और सालाना लगभग 1 ट्रिलियन डॉलर वैश्विक आर्थिक नुकसान का अनुमान है. कुल मिलाकर, प्रदूषण के कारण अधिक मौतों से 2019 में कुल 4.6 ट्रिलियन डॉलर का आर्थिक नुकसान हुआ है, जो वैश्विक आर्थिक उत्पादन का लगभग छह प्रतिशत है. 

इस साल अप्रैल में दिल्ली में AQI 2016 के बाद से सबसे खराब रहा: CPCB

इनमें से निम्न और मध्यम आय वाले देश में 90 प्रतिशत से अधिक मौतें हुई हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि अमीर देश जिन्होंने घरेलू बाहरी वायु प्रदूषण को कम किया है, वे इसे विदेशों में उच्च स्तर के विनिर्माण वाले देशों में प्रभावी रूप से "विस्थापित" करते हैं. प्रचलित वैश्विक हवाएं वायु प्रदूषण को पूर्वी एशिया से उत्तरी अमेरिका, उत्तरी अमेरिका से यूरोप और यूरोप से आर्कटिक और मध्य एशिया तक पहुंचाती हैं.

इस बीच, विकासशील देशों में निर्यात के लिए उत्पादित अनाज, समुद्री भोजन, चॉकलेट और सब्जियां सीसा, आर्सेनिक, कैडमियम, पारा और कीटनाशकों से प्रदूषित मिट्टी और पानी के परिणामस्वरूप दूषित हो सकती हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि यह "वैश्विक खाद्य सुरक्षा के लिए खतरा है." शिशु खाद्य पदार्थों में पाई जाने वाली जहरीली धातुएं विशेष चिंता का विषय हैं.

फुलर ने कहा कि हम अभी एक लाख लोगों को सीसा प्रदूषण से मरते हुए दिखा सकते हैं. ये मलेरिया और एचआईवी से मरने वालों से ज्यादा है और इस पर चर्चा भी नहीं की जाती है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गाजियाबाद में जापानी तरीके से कम होगा प्रदूषण, 20 जगहों पर लगाए जाएंगे 5 लाख पौधे



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)