विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Oct 22, 2020

मुंबई : फर्जी TRP मामले की जांच में 2 और चैनलों के नाम, अब तक 8 लोग गिरफ्तार

हाल ही में सामले आए कथित फर्जी टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट्स (TRP) मामले की जांच के दौरान दो और टेलीविजन चैनलों के नाम सामने आए हैं.

Read Time: 5 mins
मुंबई : फर्जी TRP मामले की जांच में 2 और चैनलों के नाम, अब तक 8 लोग गिरफ्तार
मुंबई पुलिस ने अब तक 8 लोगों को गिरफ्तार किया है. (सांकेतिक तस्वीर)
मुंबई:

हाल ही में सामले आए कथित फर्जी टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट्स (TRP) मामले की जांच के दौरान दो और टेलीविजन चैनलों के नाम सामने आए हैं. पुलिस ने बुधवार को यह जानकारी दी. एक अधिकारी ने बताया कि इनमें एक समाचार चैनल है तो दूसरा मनोरंजन चैनल है. उन्होंने कहा, ‘‘जांच के दौरान यह बात सामने आई कि ये दो चैनल टीआरपी फिक्स करने में शामिल हैं और लोगों को उनका चैनल देखने के लिए पैसे दिया करते थे.''

उन्होंने बताया कि पुलिस ने फर्जी टीआरपी मामले में और धाराएं जोड़ दी हैं. इससे पहले रिपब्लिक टीवी (Republic TV) सहित तीन चैनल टीआरपी रैकेट में कथित रूप से शामिल पाए गए थे. इस बीच जांच टीम ने बुधवार को एक बार फिर रिपब्लिक टीवी के CFO एस सुंदरम और कार्यकारी संपादक निरंजन नारायणस्वामी के बयान दर्ज किए.

Advertisement

TRP स्कैम : रिपब्लिक के एग्जीक्युटिव एडिटर निरंजन नारायणस्वामी का बयान दर्ज, अभिषेक कपूर से गुरुवार को पूछताछ

वहीं दूसरी ओर मुंबई पुलिस की अपराध शाखा ने टीआरपी रैकेट के सिलसिले में बीते मंगलवार हंसा रिसर्च एजेंसी के दो पूर्व कर्मियों को गिरफ्तार किया था. इस तरह, इस मामले में अब तक 8 लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं. रामजी वर्मा (41) और दिनेश विश्वकर्मा (37) ने कुछ सालों के लिए हंसा एजेंसी में काम किया था. पुलिस के अनुसार, वर्मा को वर्ली से गिरफ्तार किया गया जबकि विश्वकर्मा को मुम्बई हवाईअड्डे से शाम को गिरफ्त में लिया गया.

पालघर मॉब लिंचिंग केस की कवरेज को लेकर मुंबई पुलिस ने अर्नब गोस्वामी को भेजा नोटिस

यह कथित फर्जी टीआरपी घोटाला तब सामने आया, जब रेटिंग एजेंसी ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) ने हंसा रिसर्च ग्रुप के माध्यम से शिकायत दर्ज कराई कि कुछ चैनल विज्ञापनदाताओं को आकर्षित करने के लिए टीआरपी अंक के साथ छेड़छाड़ कर रहे हैं. आरोप है कि दर्शक संबंधी आंकड़े के संग्रहण के लिए जिन परिवारों में मीटर लगाए गए थे और उनमें से कुछ को कुछ खास चैनल देखने के लिए रिश्वत दी जाती थी.

VIDEO: फर्जी TRP केस के बाद BARC ने 3 महीने के लिए रोकी रेटिंग

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;