पालघर में हार के बाद शिवसेना का हमला, उद्धव ठाकरे बोले - BJP को अब दोस्त की जरूरत नहीं

उद्धव ठाकरे ने कहा कि 2014 में जब बीजेपी की सरकार आई थी, तो लोगों को लगा था कि यह सरकार 25 साल तक चलेगी, लेकिन पिछले चार साल में बीजेपी ने कई जगहों पर अपना बहुमत खो दिया है. 

पालघर में हार के बाद शिवसेना का हमला, उद्धव ठाकरे बोले - BJP को अब दोस्त की जरूरत नहीं

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो)

खास बातें

  • शिवसेना ने बीजेपी पर जमकर हमला बोला
  • शिवसेना प्रमुख ने बोले-बीजेपी को अब दोस्त की जरूरत नहीं
  • पालघर में बीजेपी उम्मीदवार को मिली जीत
मुंबई:

महाराष्ट्र के पालघर लोकसभा सीट गंवाने के बाद उद्धव ठाकरे ने बीजेपी पर जमकर निशाना साधा. शिवसेना ने चुनाव आयोग से पालघर में रिजल्ट रोकने की मांग भी की. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के घर हुई बैठक के बाद शिवसेना ने चुनाव आयोग से वोटिंग पैटर्न में गड़बड़ी की शिकायत की थी. हालांकि चुनाव आयोग ने शिवसेना के ऐतराज को खारिज कर दिया. शिवसेना का कहना था कि 20वें राउंड के बाद वोट नहीं बढ़ें. इसके बाद शिवसेना ने उद्धव ठाकरे के घर प्रेस कांफ्रेंस किया. 

यह भी पढ़ें : महाराष्‍ट्र की पालघर सीट पर 'सहानुभूति' वोट बटोरने का 'सहयोगी' शिवसेना का दांव फेल, BJP के राजेंद्र गावित जीते

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने प्रेस कांफ्रेंस में बीजेपी पर जमकर हमला बोला. उद्धव ने कहा कि बीजेपी को अब दोस्त की जरूरत नहीं है. उद्धव ठाकरे ने कहा कि 2014 में जब बीजेपी की सरकार आई थी, तो लोगों को लगा था कि यह सरकार 25 साल तक चलेगी, लेकिन पिछले चार साल में बीजेपी ने कई जगहों पर अपना बहुमत खो दिया है. 

यह भी पढ़ें : विपक्ष की एकता के आगे नहीं टिक सकी BJP, यूपी का कैराना लोकसभा और नूरपुर विधानसभा चुनाव हारी

उन्होंने बीजेपी के स्टार प्रचारक और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि योगी आदित्यनाथ अपने घर में चुनाव हार रहे हैं और यहां (महाराष्ट्र) प्रचार करने आ रहे हैं. उन्होंने योगी आदित्यनाथ पर तंज कसते हुए कहा कि 'जनता ने योगी जी की मस्ती उतार दी है.'

VIDEO : पालघर में बीजेपी की जीत, मगर यूपी में हार


गौरतलब है कि महाराष्‍ट्र की पालघर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में शिवसेना प्रत्‍याशी श्रीनिवास वनगा को 29 हजार से अधिक वोटों से हराते हुए बीजेपी के राजेंद्र गावित इस सीट पर पार्टी का कब्‍जा बरकरार रखने में सफल रहे. वर्ष 2014 का लोकसभा चुनाव इन दोनों पार्टियों ने मिलकर लड़ा था.

बीजेपी 2014 के लोकसभा चुनाव में इस सीट पर जीती थी और उसके सांसद चिंतामण वनगा के निधन के कारण इस सीट पर उपचुनाव हुए थे. यहां पर शिवसेना ने दिवंगत भाजपा सांसद चिंतामन वांगा के बेटे श्रीनिवास वांगा को अपना उम्मीदवार बनाया था.


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com