लोकसभा चुनाव : बिहार में NDA गठबंधन के उम्मीदवारों की घोषणा में इसलिए हो रही देरी

पहले दौर के चुनाव के लिए सोमवार को पर्चा भरने की आखिरी तारीख लेकिन एनडीए के उम्मीदवारों का अभी तक पता नहीं

लोकसभा चुनाव : बिहार में NDA गठबंधन के उम्मीदवारों की घोषणा में इसलिए हो रही देरी

बिहार एनडीए में लोकसभा चुनाव के लिए प्रत्याशियों की घोषणा में देर हो रही है.

खास बातें

  • जेडीयू ने उम्मीद जताई, शनिवार तक तस्वीर साफ हो जाएगी
  • एक साथ उम्मीदवारों के ऐलान की कोशिश, इसीलिए हो रही देरी
  • गिरिराज सिंह की नाराजगी और एलजेपी नवादा छोड़ने को तैयार नहीं
नई दिल्ली:

बिहार में महागठबंधन ने लोकसभा चुनावों (Loksabha Elections) के लिए पहले चरण की सीटों पर अपने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है लेकिन बिहार (Bihar) एनडीए (NDA) में सीटों के ऐलान को लेकर रस्साकशी जारी है. जेडीयू (JDU) ने उम्मीद जताई है कि शनिवार तक तस्वीर साफ हो जाएगी.

महागठबंधन ने बिहार में पहले दौर के सभी उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है. सोमवार को पर्चा भरने की आखिरी तारीख है लेकिन एनडीए (NDA) के उम्मीदवारों का अभी तक पता नहीं है. एनडीटीवी ने जब जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी से इस बारे में पूछा तो उन्होंने कहा, 'आप कल तक प्रतीक्षा कीजिए. हमारी लिस्ट तैयार है और हमारे उम्मीदवार भी तैयार हैं.'

एनडीए के सूत्रों के मुताबिक कोशिश एक साथ उम्मीदवारों के ऐलान की है. इसीलिए इसमें देरी हो रही है. लेकिन कुछ सीटों पर सवाल बचे हुए हैं. मसलन, गिरिराज सिंह नवादा से बाहर भेजे जाने से नाराज हैं. 2014 में इस सीट पर वे 1,40,157 वोटों से जीते थे. उन्हें 3,90,248 (44.12%) वोट मिले थे जबकि दूसरे नंबर पर रहे आरजेडी के राज बल्लभ प्रसाद को 2,50,091 (28.28%) वोट मिले थे.

बिहार : महागठबंधन में सीटों का समझौता, लालू अपने सहयोगियों के प्रति इतने उदार क्यों?

एनडीटीवी ने केसी त्यागी से जब केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह की नाराजगी के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा,  'हम इस विवाद का हिस्सा नहीं होना चाहते.' उन्होंने कहा कि 'जेडीयू के सीनियर लीडर राजीव सिंह लल्लन के लिए मुंगेर सीट छोड़ने के लिए हमने रामविलास (पासवान) जी से आग्रह किया था जो उन्होंने स्वीकर कर लिया. एलजेपी को बदले में नेवादा सीट देने का फैसला हुआ. इसको लेकर मुझे नहीं लगता कि देरी हुई है.'  

उधर लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) नवादा सीट छोड़ने के लिए तैयार नहीं है. लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद और केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान के भाई  रामचंद पासवान ने कहा, "स्वाभाविक है जो लोग जहां रहते हैं वहां के लोगों से कुछ लगाव रहता है. लेकिन नाराजगी तो तब रहेगी जब उनके  अनुसार लोकसभा सीट नहीं मिलेगी. बेगुसराय सीट में कोई दिक्कत नहीं है. वह बीजेपी की ही सीट रही है, जहां से भोला सिंह एमपी थे."

VIDEO : महागठबंधन में सीटों का बंटवारा हुआ


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


संकट यह है कि गिरिराज सिंह की नाराजगी पूरे भूमिहार समुदाय में एक संदेश न द डाले, बीजेपी इससे भी बचना चाहेगी.