विज्ञापन
Story ProgressBack

अफवाह उड़ी, पार्टी खातों में डलवा रही 8 हजार रुपये, पोस्ट ऑफिस के बाहर सुबह 3 बजे से ही उमड़ी महिलाओं की भीड़

बेंगलुरु के जीपीओ के चीफ पोस्टमास्टर एचएम मंजेश ने कहा, "हमारी अपील के बाद भी कई लोग जीपीओ आ रहे थे और उनमें से अधिकतर लोग बहुत दूर-दूर से यहां पहुंचे थे. इतना ही नहीं हमने गेट पर पोस्टर भी लगाए हैं कि पोस्ट ऑफिस किसी तरह की स्कीम नहीं चला रहा है

Read Time: 4 mins
अफवाह उड़ी, पार्टी खातों में डलवा रही 8 हजार रुपये, पोस्ट ऑफिस के बाहर सुबह 3 बजे से ही उमड़ी महिलाओं की भीड़
(प्रतीकात्मक तस्वीर)
नई दिल्ली:

बेंगलुरु के जर्नल पोस्ट ऑफिस में सोमवार सुबह 3 बजे से ही महिलाओं की खाता खुलवाना के लिए लंबी कतारे लग गईं. महिलाओं द्वारा पोस्ट ऑफिस में खाता खुलवाने के लिए यह लाइन उस वक्त लगी जब ये अफवाह फैलने लगी कि पोस्ट ऑफिस में खुले महिलाओं के खातों में केंद्र सरकार द्वारा हजारों रुपये डाले जाएंगे. खाता खुलवाने के लिए इतनी लंबी कतारों को देखते हुए पोस्ट ऑफिस को अधिक अधिकारियों को काम पर लगाना पड़ा और साथ ही भीड़ को शांत रखने के लिए पुलिस को भी बुलाना पड़ा.

टीओआई में के मुताबिक यह सब तब शुरू हुआ जब यह अफवाह फैली की पोस्टल डिपार्टमेंट इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक (IPPB) में खुले खातों में 8 हजार रुपये डाल रहा है. यह अफवाह व्हॉट्स के जरिए और लोकल ग्रुप्स में फैली थी. यह मानते हुए कि सोमवार रेजिस्ट्रेशन का आखिरी दिन है, कई महिलाएं जिनमें वृद्ध, स्तनपान कराने वाली महिलाएं, छोटे बच्चों के साथ आई महिलाएं आदि जर्नल पोस्ट ऑफिस पहुंची.

टीओआई को सूत्रों ने बताया कि लोकसभा चुनाव लड़ रही कई राजनीतिक पार्टियों ने महिलाओं को कैश देने का वादा किया है और शायद इस वजह से उन्हें लगा कि पोस्ट ऑफिस में खाता खुलवाने से उन्हें ये फायदे मिलेंगे. उनमें से कई इन अफवाहों का शिकार हो गईं और उन्हें लगा कि पोस्ट ऑफिस सभी के अकाउंट में 8 हजार रुपये डाल रहा है. 

बेंगलुरु के जीपीओ के चीफ पोस्टमास्टर एचएम मंजेश ने कहा, "हमारी अपील के बाद भी कई लोग जीपीओ आ रहे थे और उनमें से अधिकतर लोग बहुत दूर-दूर से यहां पहुंचे थे. इतना ही नहीं हमने गेट पर पोस्टर भी लगाए हैं कि पोस्ट ऑफिस किसी तरह की स्कीम नहीं चला रहा है और कोई पैसे देने की घोषणा नहीं की गई है. हालांकि, इसके बाद भी स्तनपान कराने वाली महिलाएं, वृद्ध और कई अन्य महिलाएं यहां अपना खाता खुलवाने के लिए पहुंची. लेकिन यहां पर महिलाओं के लिए अपने बच्चे को स्तनपान कराने की जगह नहीं है और न ही वो लाइन छोड़ कर बाहर जा सकती हैं. इतना ही नहीं गर्मी के कारण कुछ महिलाएं डीहाइड्रेशन का भी शिकार हो गईं और फिर पोस्ट ऑफिस अधिकारियों ने उन्हें मेडिकल हेल्प दी". 

केवल सोमवार को ही दोपहर तक लगभग 2 हजार महिलाएं जीपीओ में खाता खुलवाने के लिए पहुंची थी. एक अधिकारी ने कहा, "हम रोजाना 100 से 200 खाते खोलते आए हैं लेकिन पिछले एक हफ्ते में हमने एक दिन में 700 से 800 खाते खोले हैं."

मंजेश ने बताया कि लोग अपने आसपास के पोस्ट ऑफिस में जाकर भी आईपीपीबी खाता खोल सकते हैं. उन्होंने कहा, "किसी को भी खाता खोलने के लिए जीपीओ आने की जरूरत नहीं है क्योंकि अब लोग ऑनलाइन भी खाता खुलवा सकते हैं और पोस्ट ऑफिस से कोई उनके घर पर बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन के लिए आता है."

शरारती तत्वों ने महिलाओं से लूटे पैसे

चीफ पोस्टमास्टर ने कहा, "इस दौरान लाइन में इंतजार कर रही कुछ महिलाओं को बेवकूफ बनाते हुए उनसे पैसे भी लूट लिए. सुबह 3 बजे महिलाओं की लाइन लगने के कारण वो 200 रुपये के टोकन बांट रहे थे. जैसे ही हमें इसका पता चला हमने महिलाओं को सूचित किया कि हम टोकन में खाता खुलवाने वाले के आधार कार्ड की आखिर की चार डिजिट भी चेक करेंगे. वैसे तो हम अकाउंट खोलने के 200 रुपये लेते हैं लेकिन वो पैसे खाता धारक के अकाउंट में जमा कर दिए हैं. इस वजह से एक तरह से यह मुफ्त ही है. साथ ही चूंकि खाता धारक के आधार से लिंक होता है और इस वजह से उन्हें जो भी फायदा सरकार की ओर से मिलता है वो उनके खाते में ही जाता है".

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
मुंबई के अटल सेतु में दिखी दरार, 6 महीने पहले 18 हजार करोड़ में हुआ था तैयार
अफवाह उड़ी, पार्टी खातों में डलवा रही 8 हजार रुपये, पोस्ट ऑफिस के बाहर सुबह 3 बजे से ही उमड़ी महिलाओं की भीड़
"पेपर लीक का एपिसेंटर बन चुके हैं BJP शासित राज्य" : NEET परीक्षा में गड़बड़ी मामले पर राहुल गांधी
Next Article
"पेपर लीक का एपिसेंटर बन चुके हैं BJP शासित राज्य" : NEET परीक्षा में गड़बड़ी मामले पर राहुल गांधी
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;