महाराष्ट्र के इन जिलों में अगले 3 दिन में भारी बारिश की चेतावनी, बचाव दल की टीमें तैनात

भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने महाराष्ट्र के कई जिलों में अगले तीन दिनों में भारी बारिश (Rain) की आशंका जताई है. इसके लिए सभी जिलों में NDRFऔर SDRFकी 15 टीमों को किया तैनात को तैनात किया गया है.

महाराष्ट्र के इन जिलों में अगले 3 दिन में भारी बारिश की चेतावनी, बचाव दल की टीमें तैनात

महाराष्ट्र के कई जिलों में अलगे तीन दिन में भारी बारिश की संभावना है. (फाइल फोटो)

मुंबई:

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने महाराष्ट्र (Maharashtra) में अगले तीन दिनों भारी बारिश की चेतावनी दी है. कोंकण क्षेत्र के सभी जिलों में मूसलाधार बारिश (Torrential rain) (64 मिमी से 200 मिमी) होने का अनुमान है. कोंकण संभाग के पालघर जिले में पिछले 24 घंटों में औसत 100.1 मिमी दर्ज किया गया है. भारतीय मौसम विभाग के अनुसार पालघर जिले में भारी बारिश की संभावना है. पालघर जिला प्रशासन अलर्ट पर है और मंत्रालय नियंत्रण कक्ष के संपर्क में है. साथ ही एहतियात के तौर पर जिले में एनडीआरएफ की टीम भी तैनात कर दी गई है.

ठाणे जिले में औसत बारिश 93.9 मिमी 
वहीं पिछले 24 घंटे में ठाणे जिले का औसत 93.9 मिमी है. बारिश हो रही है लेकिन जिले में कहीं भी बाढ़ की स्थिति नहीं है और सभी नदियां चेतावनी स्तर से नीचे बह रही हैं. उल्हास नदी का जलस्तर सुबह आठ बजे तक 12.90 मीटर तक हो चुका है. जबकि नदी का चेतावनी स्तर 16.50 मीटर और खतरे का निशान 17.50 मीटर है. जिले में सभी प्रकार का यातायात सुचारु रूप से चल रहा है. एहतियात के तौर पर ठाणे जिले में एनडीआरएफ की 2 टीमों को तैनात किया गया है.

मुंबई में पिछले 24 घंटे में 84 मिमी बारिश 
मुंबई में पिछले 24 घंटों में कोलाबा में 84 मिमी और सांताक्रूज में 193.6 मिमी बारिश हुई है. अंधेरी सबवे, तिलक नगर टर्मिनस, टेम्बी ब्रिज परिसर के साथ-साथ शेख मेस्त्री दरगाह कुर्ला, दादर टीटी में कुछ समय के लिए यातायात बंद करने के बाद फिर से यातायात शुरू हो चुका है. मध्य रेलवे पर यातायात धीमा है और पश्चिम रेलवे सुचारू रूप से चल रहा है. एनडीआरएफ की 3 टीमें पहले से ही मुंबई में तैनात हैं, लेकिन एहतियात के तौर पर कुल 5 टीमों में 2 अतिरिक्त टीमों को तैनात किया गया है.

रायगढ़ जिले में 135 मिमी बारिश 
रायगढ़ में जिले में पिछले 24 घंटे में औसत 135 मिमी. रहा लेकिन जिले में कहीं भी बाढ़ की स्थिति नहीं है. सावित्री, कुंडलिका और अन्य प्रमुख नदियां खतरे के निशान से नीचे बह रही हैं और काशी घाट मार्ग पर यातायात धीमा है. पोलादपुर, महाड और मानगांव के बाढ़ प्रवण और बाढ़ संभावित क्षेत्रों में 578 परिवारों के कुल 1716 व्यक्तियों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है. जिले में अब तक 14 घर आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हुए हैं और 3 घर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए हैं. एहतियात के तौर पर रायगढ़ जिले में एनडीआरएफ की दो टीमों को तैनात किया गया है.

रत्नागिरी जिले में 154.89 मिमी बारिश
रत्नागिरी जिले में पिछले 24 घंटों में 154.89 मिमी बारिश हुई है. संगमेश्वर तालुका में शास्त्री नदी और राजापुर तालुका में कोडावली नदी चेतावनी के स्तर से ऊपर बह रही है. इलाके के नागरिकों को उनकी जरूरत के हिसाब से निकाला जा रहा है और नदी के किनारे नागरिकों को अलर्ट जारी कर दिया गया है और जिला प्रशासन अलर्ट पर है. साथ ही बार-बार हो रहे भूस्खलन के कारण मुंबई-गोवा राजमार्ग पर परशुराम घाट को यातायात के लिए बंद कर दिया गया है और यातायात को अन्य वैकल्पिक मार्गों की ओर मोड़ दिया गया है. बाढ़ प्रवण और बाढ़ संभावित क्षेत्रों में 152 परिवारों के कुल 479 व्यक्तियों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.  जिले में अब तक 3 घर ध्वस्त हो चुके हैं और 67 घर आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हुए हैं और कुल 51 गांव प्रभावित हुए हैं.

सिंधुदुर्ग जिले में 155 मिमी बारिश 
सिंधुदुर्ग जिले में पिछले 24 घंटों में 155 मिमी बारिश हुई है और कहीं भी बाढ़ की स्थिति नहीं है और सभी नदियां अलर्ट स्तर से नीचे बह रही हैं. मुंबई-गोवा राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात सुचारू रूप से चल रहा है.  साथ ही जिले में एक घर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया है और 14 घर आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए हैं. ऐहतियात के तौर पर रायगढ़ जिले में एनडीआरएफ की 1 टीम तैनात की गई है.

पुणे संभाग में कैसा रहेगा मौसम का हाल
पुणे संभाग में पुणे, सतारा और सांगली जिलों में स्थिति सामान्य है और जिले में कहीं भी बाढ़ की स्थिति नहीं है और सभी नदियां अलर्ट स्तर से नीचे बह रही हैं और सभी प्रकार का यातायात सुचारू रूप से चल रहा है.

कोल्हापुर जिले में फिलहाल बाढ़ नहीं
कोल्हापुर जिले में फिलहाल बाढ़ की स्थिति नहीं है, लेकिन पिछले 24 घंटे में पंचगंगा नदी का जलस्तर 7 फुट बढ़ गया है. पंचगंगा नदी का मौजूदा जलस्तर 21.6 फुट और चेतावनी का स्तर 39 फुट है. नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ने और अगले 4 दिनों तक मूसलाधार बारिश की चेतावनी को देखते हुए एनडीआरएफ की दो टुकड़ी तैनात कर दी गई है. साथ ही, नदी के किनारे लोगों को सतर्क किया जा रहा है और स्थानीय खोज और बचाव दल को तैनात किया गया है.

अमरावती जिले में ऐसा रहेगा मौसम
अमरावती जिले के तिवासा तालुका के चंदुरबाजार और मोर्शी में बाढ़ की स्थिति बनी हुई है. हालांकि, एतिहात के तौर पर गांव के 2102 लोगों को जिले के 7 आश्रय केंद्रों में स्थानांतरित कर दिया गया है. अब तक किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है. फिलहाल जिले में स्थानीय खोज एवं बचाव दल काम कर रहे हैं. राज्य में कई जगहों पर मध्यम से मूसलाधार बारिश शुरू हो गई है और मंत्रालय नियंत्रण कक्ष राज्य के सभी जिला नियंत्रण कक्षों के साथ लगातार संपर्क में है. 


ये भी पढ़ें- 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video : भारी बारिश से जलमग्न हुआ मुंबई का चेम्बूर इलाका, घरों में भरा पानी