'ये भिंडरावाले की शिक्षाओं की जीत है..' : संगरूर से उपचुनाव जीतने पर बोले सिमरनजीत मान

मान ने अपनी जीत के बाद पाकिस्तान की जासूसी एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस, या आईएसआई द्वारा समर्थित सिख नेता का हवाला देते हुए कहा, "यह हमारे पार्टी कार्यकर्ताओं और जरनैल सिंह भिंडरावाले की शिक्षाओं की जीत है."

'ये भिंडरावाले की शिक्षाओं की जीत है..' : संगरूर से उपचुनाव जीतने पर बोले सिमरनजीत मान

चंडीगढ़:

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान के गृह क्षेत्र संगरूर से उपचुनाव जीतने वाले शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) के उम्मीदवार सिमरनजीत सिंह मान ने इसका श्रेय जरनैल सिंह भिंडरावाले को दिया है और कहा कि, "वह कश्मीर में भारतीय सेना के अत्याचारों के मुद्दों को संसद में उठाएंगे."

आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार को हराने वाले सिमरनजीत मान ने कहा कि वह बिहार और छत्तीसगढ़ में आदिवासी लोगों की नक्सली बताकर हत्या किए जाने को भी उठाएंगे.

कांग्रेस ने उनके चुनाव जीतने पर चिंता व्यक्त की है. पार्टी प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट किया, "आज संगरूर में लोकतंत्र हार गया" सुरजेवाला ने ट्वीट किया, "पंजाब को हिंसा और आतंकवाद की अंधी गली में पीछे नहीं धकेला जा सकता.

कांग्रेस प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने ट्वीट किया, संगरूर उपचुनाव के नतीजे पंजाब के सभी हितधारकों के लिए खतरे की घंटी की तरह काम करेंगे.

कांग्रेस के रवनीत सिंह बिट्टू ने ट्वीट किया, "लोगों द्वारा दिया गया जनादेश हमेशा सर्वोच्च होता है और इस बार यह सिमरनजीत सिंह मान के पक्ष में गया है. हालांकि, मान की विचारधारा पंजाब और हमारे देश के लिए अतीत में जहरीली साबित हुई है. उनका खालिस्तानी एजेंडा पंजाब और देश की शांति और अखंडता के लिए खतरा है.”

मान ने अपनी जीत के बाद पाकिस्तान की जासूसी एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस, या आईएसआई द्वारा समर्थित सिख नेता का हवाला देते हुए कहा, "यह हमारे पार्टी कार्यकर्ताओं और जरनैल सिंह भिंडरावाले की शिक्षाओं की जीत है."

उन्होंने कहा, “दीप सिंह सिद्धू और सिद्धू मूसे वाला की मौत से सिख समुदाय बहुत परेशान है और अब भारत सरकार मुसलमानों के साथ जैसा व्यवहार कर रही है, वैसा व्यवहार नहीं करेगी, जैसे उनके इलाकों पर सवाल उठाया जा रहा है, जैसे भारतीय सेना है, कश्मीर में अत्याचार कर रहे हैं और रोजाना मुसलमानों की हत्या कर रहे हैं."

मान ने कहा, "बिहार और छत्तीसगढ़ में आदिवासी लोगों को नक्सली कहकर गोली मार दी जा रही है. मैं राष्ट्रपति चुनाव के लिए चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवार से मिलूंगा और इस पर चर्चा करूंगा."

सिमरनजीत मान ने अपने आप प्रतिद्वंदी गुरमेल सिंह को संगरूर सीट से 5,800 से अधिक मतों के अंतर से हराकर आप को लोकसभा से बाहर कर दिया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


77 वर्षीय सिमरनजीत मान पूर्व सांसद और शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) के अध्यक्ष हैं. वह आखिरी बार 1999 में इसी सीट से चुने गए थे. मान का  बड़े शिरोमणि अकाली दल से कोई संबंध नहीं हैं.