विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Dec 17, 2022

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का दावा- 2024 के अंत तक अमेरिकी सड़कों जैसी हो जाएंगी देश की सड़कें

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने दावा किया कि देश की सड़के 2024 तक अमेरिकी सड़कों (American roads) जैसी हो जाएंगी.

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का दावा- 2024 के अंत तक अमेरिकी सड़कों जैसी हो जाएंगी देश की सड़कें
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का दावा है कि 2024 के अंत भारती की सड़कें अमेरिकी सड़कों की तरह हो जाएंगी.
नई दिल्ली:

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने शुक्रवार को कहा कि 2024 के अंत से पहले सड़क का बुनियादी ढांचा अमेरिका (America) के स्तर के बराबर हो जाएगा. फिक्की (FICCI) के 95वें वार्षिक सम्मेलन को संबोधित करते हुए मंत्री ने कहा कि हम देश में विश्व स्तरीय सड़क ढांचा (world class road infrastructure) बना रहे हैं और आपसे वादा करते हैं कि 2024 साल की समाप्ति से पहले हमारा सड़क ढांचा अमेरिका के मानकों के बराबर हो जाएगा. "

रसद लागत के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि 2024 के अंत तक इसको 9 प्रतिशत तक ले जाने का प्रयास है. उन्होंने कहा, "हमारी रसद लागत एक बड़ी समस्या है. वर्तमान में यह 16 प्रतिशत है, लेकिन मैं आपसे वादा करता हूं कि 2024 के अंत तक हम इसे एक अंक तक ले जाएंगे जो नौ प्रतिशत होगा.निर्माण उद्योग के बारे में बात करते हुए मंत्री ने कहा कि स्टील का विकल्प अपनाकर निर्माण कार्य में स्टील के उपयोग को कम करने की कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने कहा "हम जानते हैं कि निर्माण उद्योग न केवल पर्यावरण प्रदूषण में महत्वपूर्ण योगदान देता है बल्कि वैश्विक सामग्री और संसाधनों का 40 प्रतिशत भी संरक्षित करता है. हम संसाधनों की लागत को कम करने और निर्माण की गुणवत्ता में सुधार करने पर ध्यान केंद्रित करते हैं. जैसा कि हम जानते हैं कि सीमेंट और स्टील निर्माण के लिए प्रमुख घटक,  इसलिए हम विकल्प अपनाने की कोशिश करके निर्माण कार्य में स्टील के उपयोग को कम करने की कोशिश कर रहे हैं"

मंत्री ने कहा कि निकट भविष्य में, हरित हाइड्रोजन ऊर्जा का एक स्रोत होगा. "हरित हाइड्रोजन भविष्य के लिए ईंधन है. भारत एक ऊर्जा निर्यातक के रूप में खुद को आकार देने के लिए एक उत्कृष्ट स्थिति में है और यह केवल भारत में हरित हाइड्रोजन की क्षमता के कारण ही संभव हो सकता है. निकट भविष्य में,  हरित हाइड्रोजन का एक स्रोत होगा."वैश्विक स्तर पर सबसे तेजी से बढ़ते देशों में से एक होने के नाते, भारत सतत विकास लक्ष्यों के एजेंडे 2030 को प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के बारे में बात करते हुए गडकरी ने कहा कि भारत को इस क्षेत्र में अग्रणी होना चाहिए और हमारा ध्यान वैकल्पिक ईंधन पर चलने वाले इन ऑटोमोबाइल को बचाने पर है. "इलेक्ट्रिक मोबिलिटी 2030 तक सबसे प्रभावी परिवहन प्रणाली होगी. कुछ दिनों पहले कनाडा की एक कंपनी मेरे पास यह दिखाने के लिए आई थी कि हम समुद्र के पानी में माइनिंग से कोबाल्ट और मैंगनीज कैसे प्राप्त कर सकते हैं. उन्होंने मुझे वही खनन सामग्री दिखाई और उन्होंने दावा किया कि अगर हम इसे कोबाल्ट के स्रोत के रूप में उपयोग कर सकते हैं तो यह बैटरी की लागत को कम कर देगा. बैटरी के संबंध में विश्व स्तर पर बहुत सारे शोध हो रहे हैं. हमें इस क्षेत्र में अग्रणी होना चाहिए".

उन्होंने कहा, "आज हमारा ऑटोमोबाइल उद्योग 7.5 लाख करोड़ रुपये का है और हम इसे 15 लाख करोड़ रुपये तक ले जाना चाहते हैं. यह बहुत सारी नई नौकरियां पैदा करेगा और भारत को दुनिया के सबसे बड़े ऑटोमोबाइल निर्माताओं में से एक बना देगा.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
ऑफिस, विमान, स्टॉक एक्सचेंज... कंप्यूटर की स्क्रीन नीली पड़ने से जानें क्या-क्या हुआ ठप
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का दावा- 2024 के अंत तक अमेरिकी सड़कों जैसी हो जाएंगी देश की सड़कें
मुसलमान पुलिसकर्मी ड्यूटी के दौरान रख सकते हैं दाढ़ी... HC ने कहा- भारत विविध धर्मों और रीति-रिवाजों वाला देश
Next Article
मुसलमान पुलिसकर्मी ड्यूटी के दौरान रख सकते हैं दाढ़ी... HC ने कहा- भारत विविध धर्मों और रीति-रिवाजों वाला देश
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;