विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Aug 17, 2023

चयन प्रक्रिया अवैध होने के बावजूद सुप्रीम कोर्ट ने केरल में कुछ जजों को पदों पर बने रहने की इजाजत दी

न्यायिक अधिकारियों के चयन में केरल हाईकोर्ट द्वारा अपनाई गई प्रक्रिया अवैध और मनमानी थी, कुछ जज 6 सालों से काम कर रहे हैं

चयन प्रक्रिया अवैध होने के बावजूद सुप्रीम कोर्ट ने केरल में कुछ जजों को पदों पर बने रहने की इजाजत दी
केरल हाईकोर्ट.
नई दिल्ली:

चयन प्रक्रिया अवैध होने के बावजूद सुप्रीम कोर्ट ने केरल में 6 सालों से काम कर रहे कुछ जजों को पदों पर बने रहने की अनुमति दी है. सार्वजनिक हित का हवाला देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने न्यायिक अधिकारियों को हटाने से परहेज किया.  

सुप्रीम कोर्ट ने सार्वजनिक हित का हवाला देते हुए केरल में कुछ न्यायिक अधिकारियों को उनके पदों पर बने रहने की अनुमति दी है, इसके बावजूद कि उनके चयन में केरल हाईकोर्ट द्वारा अपनाई गई प्रक्रिया अवैध और मनमानी थी. यह देखते हुए कि उनके चयन के छह साल बीत चुके हैं,  अदालत ने कहा कि उन अधिकारियों को पद से हटाना सार्वजनिक हित के विपरीत होगा. 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि, लगभग छह साल पहले चुने गए उम्मीदवारों को पद से नहीं हटाया जा सकता. वे सभी योग्य हैं और राज्य की जिला न्यायपालिका की सेवा कर रहे हैं. इस स्तर पर उन्हें पद से हटाना सार्वजनिक हित के विपरीत होगा. 

भारत के मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ की अगुवाई वाली संविधान पीठ ने 12 जुलाई को खुली अदालत में फैसला सुनाया था लेकिन फैसले की प्रति गुरुवार को अपलोड की गई. पीठ के समक्ष मुद्दा केरल हाईकोर्ट द्वारा मार्च 2017 में जिला न्यायाधीशों के चयन में मौखिक परीक्षा के आधार पर कट-ऑफ अंक तय करने के फैसले से संबंधित था. 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मौखिक परीक्षा के बाद हाईकोर्ट द्वारा कट-ऑफ तय की गई थी, जो स्पष्ट रूप से मनमानी थी. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि केरल राज्य उच्च न्यायिक सेवा विशेष नियम के प्रावधानों में यह है कि नियुक्ति के लिए लिखित परीक्षा और मौखिक परीक्षा के जोड़ को ध्यान में रखा जाएगा. 

हालांकि न्यायालय ने इस तथ्य के मद्देनजर उम्मीदवारों के चयन को अमान्य करने से परहेज किया कि उनकी नियुक्ति को छह साल बीत चुके हैं और इस दौरान नियुक्त उम्मीदवारों ने न्यायिक कार्य किए हैं. 

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
इंटरनेट बंद, ड्रोन से निगरानी, 2000 जवानों की तैनाती... नूंह में ब्रजमंडल यात्रा को लेकर ट्रैफिक एडवाइजरी जारी
चयन प्रक्रिया अवैध होने के बावजूद सुप्रीम कोर्ट ने केरल में कुछ जजों को पदों पर बने रहने की इजाजत दी
यह सायनाइड है क्या? रंग-स्वाद कैसा? दुनिया के सबसे जानलेवा जहर के बारे में जानिए
Next Article
यह सायनाइड है क्या? रंग-स्वाद कैसा? दुनिया के सबसे जानलेवा जहर के बारे में जानिए
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;