बंदरों पर परीक्षण के बाद बोले भारतीय Covaxin के निर्माता - इम्यून की प्रतिक्रियाएं मजबूत दिखीं...

भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने अपनी नवीनतम रिपोर्ट में कहा है कि वह जो कोरोनावायरस वैक्सीन (COVAXIN) विकसित कर रहा है, उसके पशुओं पर किए गए अध्ययन में पता चला है कि टीके की मदद से प्रतिरक्षा विकसित करने में मदद मिली है.

बंदरों पर परीक्षण के बाद बोले भारतीय Covaxin के निर्माता - इम्यून की प्रतिक्रियाएं मजबूत दिखीं...

जानवरों पर किए गए प्रयोग के नतीजे जारी किए गए हैं.

नई दिल्ली:

भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने अपनी नवीनतम रिपोर्ट में कहा है कि वह जो कोरोनावायरस वैक्सीन (COVAXIN) विकसित कर रहा है, उसके पशुओं पर किए गए अध्ययन में पता चला है कि टीके की मदद से एक बंदर को एक अत्यधिक संक्रामक कोरोनावायरस से प्रतिरक्षा विकसित करने में मदद मिली है. इस प्रकार, सार्स-कोव -2 वायरस को जीवित रहने की अधिक मात्रा में प्राइमेट में संक्रमण और बीमारी को रोकने में मदद मिली है .

भारत बायोटेक ने अपनी वेबसाइट पर पोस्ट किया, "टीका लगाने के बाद, मजबूत प्रतिरक्षा विकसित होती पाई गई.ये नतीजे लाइव वायरल चैलेंज मॉडल के अंतर्गत पाए गए. कंपनी ने ट्वीट किया, "ये परिणाम लाइव वायरल चैलेंज मॉडल में सुरक्षात्मक प्रभावकारिता यानि प्रोटेक्टिव एफिशियेंसी को प्रदर्शित करते हैं,"

ऐसा बताया गया है कि 20 बंदरों के 4 समूहों में विभाजित किया गया. एक समूह को प्लेसबो के साथ प्रशासित किया गया था जबकि  तीन समूह 0-14 दिन तक 3 अलग-अलग वैक्सीन दी गई. दूसरी खुराक के 14 दिनों बाद सभी मैका को वायरल चुनौती से अवगत कराया गया. 

परिणामों ने सुरक्षात्मक प्रभाव दिखाया, जिनमें बढ़ती SARS-CoV-2 विशिष्ट आईजीजी और एंटीबॉडी को बेअसर करना शामिल है. बंदरों की नाक, गला और फेफड़े के टिशूस में वायरस की प्रतिकृति को कम करना देखा गया.

देश की दवा नियामक संस्था से मंजूरी मिलने के बाद भारत बायोटेक ने जुलाई में मानव परीक्षण शुरू किया.

यह भी पढ़ें- Coronavirus: देश में कोरोना के मामले 46 लाख पार, 24 घंटे में अब तक सबसे ज्यादा 97570 केस
 

हालांकि शुरुआत में यह योजना थी कि COVAXIN को 15 अगस्त तक बाजार में लॉन्च किया जाएगा, लेकिन सरकारी अधिकारियों ने बाद में एक संसदीय स्थायी समिति को बताया कि इस तरह की दवा कम से कम अगले साल तक संभव नहीं होगी. 

वैश्विक रूप से, COVID-19 महामारी को रोकने के लिए 100 से अधिक टीके विकसित और परीक्षण किए जा रहे हैं, जिसने सैकड़ों हजारों लोगों की जान ले ली है और वैश्विक अर्थव्यवस्था को तबाह कर दिया है.

यूनिवर्सिटी ऑफ़ ऑक्सफ़ोर्ड के संभावित COVID-19 वैक्सीन जिसे AstraZeneca को लाइसेंस दिया गया है, संभवतः दुनिया की अग्रणी उम्मीदवार है और विकास के मामले में सबसे उन्नत है, लेकिन परीक्षण में एक विषय के प्रतिकूल प्रतिक्रिया दिखाने के बाद इसे रोक दिया गया है.

मई तक 64 लाख लोग हो चुके थे कोविड-19 से संक्रमित :ICMR सीरो सर्वे

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com